Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jun 2023 · 1 min read

🪷पुष्प🪷

🪷पुष्प🪷

रौंदो हर दौर में मुझको
मृत्यु में भी इठलाऊँगी।
उत्साह मन पीड़ा में तुमकों
माला बन बहलाऊँगी।
🪷
कह दो मुझको कली बाग की
प्रेयसी को लुभाऊँगी।
प्रीतम का वो हर लम्हा जिक्र में
उत्सुकता ले आऊँगी।
🪷
गूँथ देना रह – रह कर तुम
मैं न आँसू बहाऊँगी।
विरह आँधी को गुलसन कर
खुशबू से महकाऊँगी।
🪷
मिलन रहे अनंत व्योम में
रूह को गले लगाऊँगी।
चाहे मिलन रूहों की सेज में
वर माला कहलाऊँगी।
🪷
हँसती रहे वीरों की लाशें
अमर विजय कर जाऊँगी।
युग- युग में प्रेरणा भरें
आभा से नहलाऊँगी।
🪷
कह दो ले जाये पराग
मधुरस में स्वाद बताऊँगी।
मर जाऊँ मैं सूख कर
बीजों से अंकुर ले आऊँगी।
🪷
तोड़ो ” इन्द्र “ले जाओ जहाँ
हर रंग में बरस जाऊँगी।
रौंदो हर दौर में मुझको
मृत्यु में भी इठलाऊँगी ।

🔥सुरेश अजगल्ले “इन्द्र”🔥
खरौद

Language: Hindi
2 Likes · 3 Comments · 255 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कलम
कलम
शायर देव मेहरानियां
Life
Life
C.K. Soni
बदनाम होने के लिए
बदनाम होने के लिए
Shivkumar Bilagrami
आधा किस्सा आधा फसाना रह गया
आधा किस्सा आधा फसाना रह गया
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
NEEL PADAM
NEEL PADAM
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"पतझड़"
Dr. Kishan tandon kranti
विदंबना
विदंबना
Bodhisatva kastooriya
धैर्य के साथ अगर मन में संतोष का भाव हो तो भीड़ में भी आपके
धैर्य के साथ अगर मन में संतोष का भाव हो तो भीड़ में भी आपके
Paras Nath Jha
नाथ मुझे अपनाइए,तुम ही प्राण आधार
नाथ मुझे अपनाइए,तुम ही प्राण आधार
कृष्णकांत गुर्जर
तुम मन मंदिर में आ जाना
तुम मन मंदिर में आ जाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
स्त्रियाँ
स्त्रियाँ
Shweta Soni
*बारिश का मौसम है प्यारा (बाल कविता)*
*बारिश का मौसम है प्यारा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
सरस्वती बंदना
सरस्वती बंदना
Basant Bhagawan Roy
पर्यावरणीय सजगता और सतत् विकास ही पर्यावरण संरक्षण के आधार
पर्यावरणीय सजगता और सतत् विकास ही पर्यावरण संरक्षण के आधार
डॉ०प्रदीप कुमार दीप
भोर
भोर
Kanchan Khanna
बेटा राजदुलारा होता है?
बेटा राजदुलारा होता है?
Rekha khichi
■ उल्लू छाप...बिचारे
■ उल्लू छाप...बिचारे
*Author प्रणय प्रभात*
मेरे दिल में मोहब्बत आज भी है
मेरे दिल में मोहब्बत आज भी है
कवि दीपक बवेजा
माँ
माँ
SHAMA PARVEEN
🍃🌾🌾
🍃🌾🌾
Manoj Kushwaha PS
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रिश्तो से जितना उलझोगे
रिश्तो से जितना उलझोगे
Harminder Kaur
" नेतृत्व के लिए उम्र बड़ी नहीं, बल्कि सोच बड़ी होनी चाहिए"
नेताम आर सी
दोहा - शीत
दोहा - शीत
sushil sarna
मैं पलट कर नही देखती अगर ऐसा कहूँगी तो झूठ कहूँगी
मैं पलट कर नही देखती अगर ऐसा कहूँगी तो झूठ कहूँगी
ruby kumari
You are not born
You are not born
Vandana maurya
एक तेरे चले जाने से कितनी
एक तेरे चले जाने से कितनी
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
सरहद
सरहद
लक्ष्मी सिंह
राम आए हैं भाई रे
राम आए हैं भाई रे
Harinarayan Tanha
2744. *पूर्णिका*
2744. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...