Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Mar 2021 · 1 min read

#कविता//ऊँ नमः शिवाय!

#दोहे

जय शिव शंकर देव की , हरे सभी की पीर।
करे वंदना ध्यान धर , रहे न भक्त अधीर।।

बम-बम बोलो जोर से , मिलता देव प्रसाद।
महादेव के ध्यान से , उर मन होता शाद।।

#चौपाइयाँ

प्रभु अविनाशी जय शिव भोले।
सकल सृष्टि ताण्डव से डोले।।
ताप विनाशक मंगलकारी।
भाये तुमको वृषभ सवारी।।

चंद्र भाल पर गंगा कुंतल।
हाथ त्रिशूला नैना निश्छल।।
गले सर्प बाघम्बर धारे।
भस्म कलेवर गौरा प्यारे।।

नीलकंठ तुम शम्भु त्रिलोकी।
महाकाल तुम भक्त बिलोकी।।
देवों के देव तुम्हीं भोले।
खुश हो जाते बम-बम बोले।।

रिद्धि-सिद्धि के तुम हो स्वामी।
भक्तों की हरते नाकामी।।
हलाहल तुम्हीं पी जाते हो।
तभी सृष्टि प्रभु कहलाते हो।।

जप को तुम कैलाश विराजै।
नृत्य किया तो डमरू बाजै।।
जिसने तुमको मन से ध्याया।
भव-सागर से पार लगाया।।

शिव शंकर तुम करो उजाला।
बंद अक्ल का खोलो ताला।।
‘प्रीतम’ जग हित तुमको ध्याये।
विघ्न कटे मंगल हो जाये।।

#दोहा
महाकाल शिव आज फिर , करना जग का ध्यान।
द्वेष स्वार्थ में डूब कर , मनुज बना अनजान।।

#आर.एस. ‘प्रीतम’

Language: Hindi
1 Like · 734 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from आर.एस. 'प्रीतम'
View all
You may also like:
शिक्षा का महत्व
शिक्षा का महत्व
Dinesh Kumar Gangwar
हम अपनी आवारगी से डरते हैं
हम अपनी आवारगी से डरते हैं
Surinder blackpen
हजार आंधियां आये
हजार आंधियां आये
shabina. Naaz
पंचांग के मुताबिक हर महीने में कृष्ण और शुक्ल पक्ष की त्रयोद
पंचांग के मुताबिक हर महीने में कृष्ण और शुक्ल पक्ष की त्रयोद
Shashi kala vyas
यें सारे तजुर्बे, तालीम अब किस काम का
यें सारे तजुर्बे, तालीम अब किस काम का
Keshav kishor Kumar
हमारी सोच
हमारी सोच
Neeraj Agarwal
प्रबुद्ध लोग -
प्रबुद्ध लोग -
Raju Gajbhiye
विद्यालयीय पठन पाठन समाप्त होने के बाद जीवन में बहुत चुनौतिय
विद्यालयीय पठन पाठन समाप्त होने के बाद जीवन में बहुत चुनौतिय
पूर्वार्थ
दादी की कहानी (कविता)
दादी की कहानी (कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
😊आज के दो रंग😊
😊आज के दो रंग😊
*Author प्रणय प्रभात*
मैने प्रेम,मौहब्बत,नफरत और अदावत की ग़ज़ल लिखी, कुछ आशार लिखे
मैने प्रेम,मौहब्बत,नफरत और अदावत की ग़ज़ल लिखी, कुछ आशार लिखे
Bodhisatva kastooriya
मेरी बेटियाँ
मेरी बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
स्वभाव
स्वभाव
अखिलेश 'अखिल'
*मनकहताआगेचल*
*मनकहताआगेचल*
Dr. Priya Gupta
तुम्हें लिखना आसान है
तुम्हें लिखना आसान है
Manoj Mahato
नव्य द्वीप
नव्य द्वीप
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
क्या यही है हिन्दी-ग़ज़ल? *रमेशराज
क्या यही है हिन्दी-ग़ज़ल? *रमेशराज
कवि रमेशराज
कविता
कविता
Shiva Awasthi
नीलामी हो गई अब इश्क़ के बाज़ार में मेरी ।
नीलामी हो गई अब इश्क़ के बाज़ार में मेरी ।
Phool gufran
मां के आँचल में
मां के आँचल में
Satish Srijan
क्यूँ ख़ामोशी पसरी है
क्यूँ ख़ामोशी पसरी है
हिमांशु Kulshrestha
जब आसमान पर बादल हों,
जब आसमान पर बादल हों,
Shweta Soni
हाथ की उंगली😭
हाथ की उंगली😭
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
लाल रंग मेरे खून का,तेरे वंश में बहता है
लाल रंग मेरे खून का,तेरे वंश में बहता है
Pramila sultan
Sannato me shor bhar de
Sannato me shor bhar de
Sakshi Tripathi
*हमें कुछ दो न दो भगवन, कृपा की डोर दे देना 【हिंदी गजल/गीतिक
*हमें कुछ दो न दो भगवन, कृपा की डोर दे देना 【हिंदी गजल/गीतिक
Ravi Prakash
जब ज़रूरत के
जब ज़रूरत के
Dr fauzia Naseem shad
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Sanjay ' शून्य'
अपने आलोचकों को कभी भी नजरंदाज नहीं करें। वही तो है जो आपकी
अपने आलोचकों को कभी भी नजरंदाज नहीं करें। वही तो है जो आपकी
Paras Nath Jha
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...