Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2023 · 1 min read

*🔱नित्य हूँ निरन्तर हूँ…*

🔱नित्य हूँ निरन्तर हूँ…
शान्ति रूप मैं शंकर हूँ…
भक्त हूँ भगवान हूँ…
शक्तिपति शक्तिमान हूँ…
जगत का आधार हूँ…
निराकार में साकार हूँ…
जीवन उमंग का गान हूँ…
रूद्र हूँ महाकाल हूँ…
मृत्यु रूप विकराल हूँ…
नित्य हूँ निरन्तर हूँ…
शान्ति रूप मैं शंकर हूँ…
ॐ नमः शिवाय…!
*महाशिवरात्रि की शुभकामनाएँ …!!
डॉ मंजु सैनी

1 Like · 324 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Manju Saini
View all
You may also like:
*जरा सोचो तो जादू की तरह होती हैं बरसातें (मुक्तक) *
*जरा सोचो तो जादू की तरह होती हैं बरसातें (मुक्तक) *
Ravi Prakash
काश ये मदर्स डे रोज आए ..
काश ये मदर्स डे रोज आए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
तुम्हें आती नहीं क्या याद की  हिचकी..!
तुम्हें आती नहीं क्या याद की हिचकी..!
Ranjana Verma
चिलचिलाती धूप में निकल कर आ गए
चिलचिलाती धूप में निकल कर आ गए
कवि दीपक बवेजा
💐प्रेम कौतुक-555💐
💐प्रेम कौतुक-555💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
यादों की सौगात
यादों की सौगात
RAKESH RAKESH
देख लेना चुप न बैठेगा, हार कर भी जीत जाएगा शहर…
देख लेना चुप न बैठेगा, हार कर भी जीत जाएगा शहर…
Anand Kumar
प्रभु श्री राम
प्रभु श्री राम
Mamta Singh Devaa
खांटी कबीरपंथी / Musafir Baitha
खांटी कबीरपंथी / Musafir Baitha
Dr MusafiR BaithA
■ ज़ुबान संभाल के...
■ ज़ुबान संभाल के...
*Author प्रणय प्रभात*
तुम जा चुकी
तुम जा चुकी
Kunal Kanth
हमको इतनी आस बहुत है
हमको इतनी आस बहुत है
Dr. Alpana Suhasini
2568.पूर्णिका
2568.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अन्याय के आगे मत झुकना
अन्याय के आगे मत झुकना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आदमी क्या है - रेत पर लिखे कुछ शब्द ,
आदमी क्या है - रेत पर लिखे कुछ शब्द ,
Anil Mishra Prahari
मंजिल यू‌ँ ही नहीं मिल जाती,
मंजिल यू‌ँ ही नहीं मिल जाती,
Yogendra Chaturwedi
"संविधान"
Slok maurya "umang"
कर्बला की मिट्टी
कर्बला की मिट्टी
Paras Nath Jha
"सिलसिला"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रयास
प्रयास
Dr fauzia Naseem shad
अक्षर ज्ञान नहीं है बल्कि उस अक्षर का को सही जगह पर उपयोग कर
अक्षर ज्ञान नहीं है बल्कि उस अक्षर का को सही जगह पर उपयोग कर
Rj Anand Prajapati
न पाने का गम अक्सर होता है
न पाने का गम अक्सर होता है
Kushal Patel
प्रकृति के फितरत के संग चलो
प्रकृति के फितरत के संग चलो
Dr. Kishan Karigar
अपने कदमों को बढ़ाती हूँ तो जल जाती हूँ
अपने कदमों को बढ़ाती हूँ तो जल जाती हूँ
SHAMA PARVEEN
मुझे कृष्ण बनना है मां
मुझे कृष्ण बनना है मां
Surinder blackpen
*देश की आत्मा है हिंदी*
*देश की आत्मा है हिंदी*
Shashi kala vyas
दोय चिड़कली
दोय चिड़कली
Rajdeep Singh Inda
ज़िद
ज़िद
Dr. Seema Varma
काश वो होते मेरे अंगना में
काश वो होते मेरे अंगना में
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
Loading...