Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2023 · 1 min read

*🔱नित्य हूँ निरन्तर हूँ…*

*🔱नित्य हूँ निरन्तर हूँ…*
*शान्ति रूप मैं शंकर हूँ…*
भक्त हूँ भगवान हूँ…
शक्तिपति शक्तिमान हूँ…
*जगत का आधार हूँ…*
निराकार में साकार हूँ…
जीवन उमंग का गान हूँ…
*रूद्र हूँ महाकाल हूँ…*
मृत्यु रूप विकराल हूँ…
*नित्य हूँ निरन्तर हूँ…*
शान्ति रूप मैं शंकर हूँ…
*ॐ नमः शिवाय…!*
*महाशिवरात्रि की शुभकामनाएँ …!!
डॉ मंजु सैनी

1 Like · 67 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.

Books from Dr Manju Saini

You may also like:
चौपाई छंद में मान्य 16 मात्रा वाले दस छंद {सूक्ष्म अंतर से
चौपाई छंद में मान्य 16 मात्रा वाले दस छंद {सूक्ष्म अंतर से
Subhash Singhai
समय देकर तो देखो
समय देकर तो देखो
Shriyansh Gupta
भोजपुरी बिरह गीत
भोजपुरी बिरह गीत
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
चलो सत्य की राह में,
चलो सत्य की राह में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पतझड़ के दिन
पतझड़ के दिन
DESH RAJ
सात सवाल
सात सवाल
रोहताश वर्मा मुसाफिर
*हिंदी हमारी शान है, हिंदी हमारा मान है*
*हिंदी हमारी शान है, हिंदी हमारा मान है*
Dushyant Kumar
ईमानदारी, दृढ़ इच्छाशक्ति
ईमानदारी, दृढ़ इच्छाशक्ति
Rashmi Mishra
किसी दिन
किसी दिन
shabina. Naaz
गीत गाने आयेंगे
गीत गाने आयेंगे
Er Sanjay Shrivastava
एकाकीपन
एकाकीपन
लक्ष्मी सिंह
तुम क्या चाहते हो
तुम क्या चाहते हो
gurudeenverma198
तेरे बिना
तेरे बिना
Shekhar Chandra Mitra
*कभी तो खुली किताब सी हो जिंदगी*
*कभी तो खुली किताब सी हो जिंदगी*
Shashi kala vyas
"कुछ लोगों के पाश
*Author प्रणय प्रभात*
खप-खप मरता आमजन
खप-खप मरता आमजन
विनोद सिल्ला
"कड़वा सच"
Dr. Kishan tandon kranti
चालें बहुत शतरंज की
चालें बहुत शतरंज की
surenderpal vaidya
मां सिद्धिदात्री
मां सिद्धिदात्री
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मैं तो अकेली चलती चलूँगी ....
मैं तो अकेली चलती चलूँगी ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
कहूं कैसे भोर है।
कहूं कैसे भोर है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ए जिंदगी तू सहज या दुर्गम कविता
ए जिंदगी तू सहज या दुर्गम कविता
Shyam Pandey
कसूर उनका नहीं मेरा ही था,
कसूर उनका नहीं मेरा ही था,
Vishal babu (vishu)
💐प्रेम कौतुक-419💐
💐प्रेम कौतुक-419💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वक्त के हाथों मजबूर सभी होते है
वक्त के हाथों मजबूर सभी होते है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
रमजान में....
रमजान में....
Satish Srijan
एक अणु में इतनी ऊर्जा
एक अणु में इतनी ऊर्जा
AJAY AMITABH SUMAN
नदियां जो सागर में जाती उस पाणी की बात करो।
नदियां जो सागर में जाती उस पाणी की बात करो।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
आई पत्नी एक दिन ,आरक्षण-वश काम (कुंडलिया)
आई पत्नी एक दिन ,आरक्षण-वश काम (कुंडलिया)
Ravi Prakash
“ अपनों में सब मस्त हैं ”
“ अपनों में सब मस्त हैं ”
DrLakshman Jha Parimal
Loading...