Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2017 · 1 min read

? सफर ये कैसा सफर?

? “सफ़र ये कैसा सफ़र”?
” दुनियाँ एक सराय हम मुसाफिर
आँख क्यों न भर आये ,पहले बता
परमात्मा ?तुमने जज़्बात क्यों बनाये?

“चाह थी जो पाया नहीं ।
जो पाया वो चाहा नहीं
फिर जो पाया उसी को चाह लिया”।।

प्रकृति ने दिये अनमोल ख़जाने
पर हम बन के सयाने ,भरते रहे झूठे
खजाने ।।

दुनियाँ का सफ़र ,सुहाना सफ़र
उस पर रिश्तों का बन्धन,
रिश्तों संग दिलो में जज़्बात ।।

दिलों में प्रेम की जोत
हर कोई किसी न किसी की जीने की वज़ह
फिर कह दो दुनियाँ एक सराय
इतनी बड़ी सराय ,लम्बा सफ़र
इन्सान मुसाफिर ।।।।।

दूँनियाँ की सराय में मैं मुसाफिर
फिर सफ़र के हर लम्हें में क्यों
ना आनन्द उठाया जाये ।।

सफ़र का आंनद लेना सीखो मेरे अपनों
सफ़र का हर लम्हा हमें कुछ न कुछ सीखा जाता है ।

जो पत्थर पैरों में कंकड़ बन चुभते हैं ,वही पत्थर
हमारे घरों की दीवारें बनाते हैं ।

कोई सूखे पत्ते देख उन्हें व्यर्थ समझता है
कोई उन्ही सूखे पत्तों से अपना चूल्हा जला लेता है।

पापी पेट का सवाल है ,कोई अपने घर के कूड़े को
बहार फैंकता है ।, कोई भूखा उसी कूड़े को अपने
भोजन वज़ह बना लेता है ।।



Language: Hindi
257 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुझे किस बात ला गुमान है
तुझे किस बात ला गुमान है
भरत कुमार सोलंकी
"तुम्हारी हंसी" (Your Smile)
Sidhartha Mishra
सत्यम शिवम सुंदरम
सत्यम शिवम सुंदरम
Madhu Shah
यूँ ही क्यूँ - बस तुम याद आ गयी
यूँ ही क्यूँ - बस तुम याद आ गयी
Atul "Krishn"
क्रोधावेग और प्रेमातिरेक पर सुभाषित / MUSAFIR BAITHA
क्रोधावेग और प्रेमातिरेक पर सुभाषित / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
दिनकर/सूर्य
दिनकर/सूर्य
Vedha Singh
पैमाना सत्य का होता है यारों
पैमाना सत्य का होता है यारों
प्रेमदास वसु सुरेखा
ये साल भी इतना FAST गुजरा की
ये साल भी इतना FAST गुजरा की
Ranjeet kumar patre
ज़िंदगी से शिकायत
ज़िंदगी से शिकायत
Dr fauzia Naseem shad
उम्र के हर पड़ाव पर
उम्र के हर पड़ाव पर
Surinder blackpen
భరత మాతకు వందనం
భరత మాతకు వందనం
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
चिंता दर्द कम नहीं करती, सुकून जरूर छीन लेती है ।
चिंता दर्द कम नहीं करती, सुकून जरूर छीन लेती है ।
पूर्वार्थ
शिछा-दोष
शिछा-दोष
Bodhisatva kastooriya
हम पचास के पार
हम पचास के पार
Sanjay Narayan
क्रांति की बात ही ना करो
क्रांति की बात ही ना करो
Rohit yadav
यह जिंदगी मेरी है लेकिन..
यह जिंदगी मेरी है लेकिन..
Suryakant Dwivedi
"असम्भव"
Dr. Kishan tandon kranti
आपको डुबाने के लिए दुनियां में,
आपको डुबाने के लिए दुनियां में,
नेताम आर सी
दिल पर किसी का जोर नहीं होता,
दिल पर किसी का जोर नहीं होता,
Slok maurya "umang"
मजदूर की मजबूरियाँ ,
मजदूर की मजबूरियाँ ,
sushil sarna
रचना प्रेमी, रचनाकार
रचना प्रेमी, रचनाकार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*****रामलला*****
*****रामलला*****
Kavita Chouhan
नव कोंपलें स्फुटित हुई, पतझड़ के पश्चात
नव कोंपलें स्फुटित हुई, पतझड़ के पश्चात
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
एक शाम ठहर कर देखा
एक शाम ठहर कर देखा
Kunal Prashant
🙏
🙏
Neelam Sharma
I Have No Desire To Be Found At Any Cost
I Have No Desire To Be Found At Any Cost
Manisha Manjari
2957.*पूर्णिका*
2957.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
रखकर हाशिए पर हम हमेशा ही पढ़े गए
रखकर हाशिए पर हम हमेशा ही पढ़े गए
Shweta Soni
#लघु_कविता
#लघु_कविता
*प्रणय प्रभात*
Loading...