May 12, 2022 · 1 min read

💐 देह दलन 💐

डॉ अरुण कुमार शास्त्री
एक अबोध बालक 💐💐 अरुण अतृप्त

💐 देह दलन 💐

मन बैरागी क्या जाने
सूनी अखियों से जग छाने
पीर पराई न दिखती
जब तक अँखियों से न बहती ।।

भीतर की टीस जलाती है
धीरे धीरे सुलगाती है
शांत दिखा करता जो मन
उसमें तूफ़ान उठाती है ।।

इसकी सुन ली उसकी सुन ली
जिस जिस ने थी कहनी
उसकी गुन ली
मन डोल गया
तन बोल गया
बिन बोले भी सब बोल गया।।

वैष्णव जन थे रघुवर दासा
नित सत्य सनातन धर्म गहे
घुट घुट कर जीना मुश्किल था
इस कारण मुखरित वाचाल हुए ।।

निज शंका कौतूहल की जननी
पल पल देती थी शिक्षा अवनी
धीर धरो हे मानव मनवा
होनी तो है होकर रहनी ।।

मन बैरागी क्या जाने
सूनी अखियों से जग छाने
पीर पराई न दिखती
जब तक अँखियों से न बहती ।।

28 Views
You may also like:
किताब...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
(((मन नहीं लगता)))
दिनेश एल० "जैहिंद"
"शादी की वर्षगांठ"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
प्रणाम : पल्लवी राय जी तथा सीन शीन आलम साहब
Ravi Prakash
त्याग की परिणति - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बना कुंच से कोंच,रेल-पथ विश्रामालय।।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पर्यावरण और मानव
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
विरह की पीड़ा जब लगी मुझे सताने
Ram Krishan Rastogi
कोई हमारा ना हुआ।
Taj Mohammad
यूं हुस्न की नुमाइश ना करो।
Taj Mohammad
खींच तान
Saraswati Bajpai
【1】 साईं भजन { दिल दीवाने का डोला }
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मौन की पीड़ा
Saraswati Bajpai
पिता
Manisha Manjari
ऐ उम्मीद
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सुंदर सृष्टि है पिता।
Taj Mohammad
'बेदर्दी'
Godambari Negi
💐💐धड़कता दिल कहे सब कुछ तुम्हारी याद आती है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
क्यों सत अंतस दृश्य नहीं?
AJAY AMITABH SUMAN
=*बुराई का अन्त*=
Prabhudayal Raniwal
साथी क्रिकेटरों के मध्य "हॉलीवुड" नाम से मशहूर शेन वॉर्न
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
उन्हें आज वृद्धाश्रम छोड़ आये
Manisha Manjari
सम्मान करो एक दूजे के धर्म का ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
पिता
Shankar J aanjna
"हम ना होंगें"
Lohit Tamta
नित हारती सरलता है।
Saraswati Bajpai
मां तो मां होती है ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
** यकीन **
Dr. Alpa H.
Loading...