Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2022 · 1 min read

💐 देह दलन 💐

डॉ अरुण कुमार शास्त्री
एक अबोध बालक 💐💐 अरुण अतृप्त

💐 देह दलन 💐

मन बैरागी क्या जाने
सूनी अखियों से जग छाने
पीर पराई न दिखती
जब तक अँखियों से न बहती ।।

भीतर की टीस जलाती है
धीरे धीरे सुलगाती है
शांत दिखा करता जो मन
उसमें तूफ़ान उठाती है ।।

इसकी सुन ली उसकी सुन ली
जिस जिस ने थी कहनी
उसकी गुन ली
मन डोल गया
तन बोल गया
बिन बोले भी सब बोल गया।।

वैष्णव जन थे रघुवर दासा
नित सत्य सनातन धर्म गहे
घुट घुट कर जीना मुश्किल था
इस कारण मुखरित वाचाल हुए ।।

निज शंका कौतूहल की जननी
पल पल देती थी शिक्षा अवनी
धीर धरो हे मानव मनवा
होनी तो है होकर रहनी ।।

मन बैरागी क्या जाने
सूनी अखियों से जग छाने
पीर पराई न दिखती
जब तक अँखियों से न बहती ।।

Language: Hindi
253 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
अब किसी से
अब किसी से
Dr fauzia Naseem shad
सदा मन की ही की तुमने मेरी मर्ज़ी पढ़ी होती,
सदा मन की ही की तुमने मेरी मर्ज़ी पढ़ी होती,
अनिल "आदर्श"
मुक्त पुरूष #...वो चला गया.....
मुक्त पुरूष #...वो चला गया.....
Santosh Soni
गुरु सर्व ज्ञानो का खजाना
गुरु सर्व ज्ञानो का खजाना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Happy Mother's Day ❤️
Happy Mother's Day ❤️
NiYa
वो आपको हमेशा अंधेरे में रखता है।
वो आपको हमेशा अंधेरे में रखता है।
Rj Anand Prajapati
2624.पूर्णिका
2624.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कसूर किसका
कसूर किसका
Swami Ganganiya
देश के अगले क़ानून मंत्री उज्ज्वल निकम...?
देश के अगले क़ानून मंत्री उज्ज्वल निकम...?
*प्रणय प्रभात*
अंतस के उद्वेग हैं ,
अंतस के उद्वेग हैं ,
sushil sarna
बड़े अगर कोई बात कहें तो उसे
बड़े अगर कोई बात कहें तो उसे
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
हमारा जन्मदिवस - राधे-राधे
हमारा जन्मदिवस - राधे-राधे
Seema gupta,Alwar
हुआ जो मिलन, बाद मुद्दत्तों के, हम बिखर गए,
हुआ जो मिलन, बाद मुद्दत्तों के, हम बिखर गए,
डी. के. निवातिया
दीवारों में दीवारे न देख
दीवारों में दीवारे न देख
Dr. Sunita Singh
"ओट पर्दे की"
Ekta chitrangini
शिवाजी
शिवाजी
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
चंद्रयान
चंद्रयान
डिजेन्द्र कुर्रे
डॉ. नामवर सिंह की दृष्टि में कौन-सी कविताएँ गम्भीर और ओजस हैं??
डॉ. नामवर सिंह की दृष्टि में कौन-सी कविताएँ गम्भीर और ओजस हैं??
कवि रमेशराज
"गौरतलब"
Dr. Kishan tandon kranti
मधुशाला में लोग मदहोश नजर क्यों आते हैं
मधुशाला में लोग मदहोश नजर क्यों आते हैं
कवि दीपक बवेजा
अब कभी तुमको खत,हम नहीं लिखेंगे
अब कभी तुमको खत,हम नहीं लिखेंगे
gurudeenverma198
लट्टू हैं अंग्रेज पर, भाती गोरी मेम (कुंडलिया)
लट्टू हैं अंग्रेज पर, भाती गोरी मेम (कुंडलिया)
Ravi Prakash
छवि अति सुंदर
छवि अति सुंदर
Buddha Prakash
प्रतिशोध
प्रतिशोध
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
Where have you gone
Where have you gone
VINOD CHAUHAN
शक्कर में ही घोलिए,
शक्कर में ही घोलिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पर्यावरण
पर्यावरण
Neeraj Agarwal
मोदी जी ; देश के प्रति समर्पित
मोदी जी ; देश के प्रति समर्पित
कवि अनिल कुमार पँचोली
आओ प्यारे कान्हा हिल मिल सब खेलें होली,
आओ प्यारे कान्हा हिल मिल सब खेलें होली,
सत्य कुमार प्रेमी
वसियत जली
वसियत जली
भरत कुमार सोलंकी
Loading...