Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jan 2023 · 2 min read

💐💐छोरी स्मार्ट बन री💐💐

किसी भावना के साथ नहीं खेला गया है,यदि किसी को कोई ठेस पहुँचे,तो वह क्षमा करे,रूपा को छोड़कर🤣😂😂😂

##मणिकर्णिका##
##Bonie, Bonie, Bonie##
##लिख कर रहेंगे##
##चैलेंज विल नोट बी असेप्टेड##
##अपना गीत कल लिखेंगे##

छोरी स्मार्ट बन री,
छोरी स्मार्ट बन री,
क्यों बनती है ज़्यादा शायर,
पैरों में लगा ले एम आर एफ के टायर,
लिख कर हो गई है ग़ायब,
ज़्यादा क्यों बनती है नायब?
तीर नहीं तलवार चलायेंगे,
प्राइमा फेसी तेरी गर्दन उड़ायेंगे,
कमाल तेरा चुन्ना है, तू उसकी शोहबत,
टोटल स्वीटी पीना बेबी शिलाजीत का शर्बत,
निशान की बात तो छोटी, ला पूरा छेद बना दें,
चौबे जी की भाँग पिलाकर, ला तेरा मूड बना दें,
फ़ोटो अपलोड करना पाई,ज़्यादा बन री,
छोरी स्मार्ट बन री।।1।।
छोटी सी स्माइल में लिख डाली दो लाइन,
रूपा के पापा ने कब पी थी वाइन?
हम तो जहाँ खोदेंगे, वहाँ पर पानी निकले,
सुबह उठकर देखना,तू कहीं कानी न निकले,
गाड़ी नई लेना तो लगवा लेना हूटर,
क्या कर लिया मेरा?तेरा कौन सा भाई है शार्प शूटर😘
पीला रंग का क्या पहना है?आज बताना चुन्नी,
तेरी माँ भी मेरी माँ हैं, तू ही कह उनको मुन्नी😉
जल्दी मत उतरना सीढ़ी से टूट जायेगा तेरा पैर,
फिर कैसी कर पायेगी, चुन्ना के साथ सैर,
चुप हो जा, झूठी, चीटिंग कर री,
छोरी स्मार्ट बन री।।2।।
वजन तेरा बढ़ रहा है, टॉमी, रस्सी रस्सी कूँदना,
मान लूँगा तुझको, सोना पर आँखें मत मूँदना,
ठण्ड पड़ रही है मत पीना लस्सी,
यूपीएससी के इंटरव्यू में फेल करता था बीएस बस्सी,
ज़्यादा मत समझा कर अपने को सिकन्दर,
मंगल को काटेंगे तुझे मैकेक बन्दर,
आज नाश्ते में खाई थी रूपा ने ब्रेड,
नौकरी के लिए ट्राई कर, मत हो ज़्यादा सैड,
दूध में मिला कर रबड़ी खाले,
कृपा वहीं रुकी है,आईडिया आयेंगे तुझे निराले,
डर मत ज्यादा तू ना मर री,
छोरी स्मार्ट बन री।।3।।
रिंकल पड़ जाएगी ज़्यादा स्ट्रेस मत ले,
सयानी मत बन रूपा,मेरे रास्ते से हट ले,
एक नया नाम रखा था तेरा टों टों,
टों के आगे मो जोड़ा तो नया बन गया मोटों-मोटों,
सिखा रही है बच्चों को ट्विंकल ट्विंकल लिटल स्टार,
यह ट्रू है, दुनिया में सब अच्छे हैं,तू सबसे बेकार,
सारा टाइम वेस्ट कर लिया,
अब तक क्या क्या टेस्ट कर लिया?😊😊
कब जा रही है पिकनिक मनाने कुल्लू?
हमनें ही लिखा था गाना तेरे लिए बाबा जी का उल्लू,
जो तेरी टॉप है वह तो मुझे बॉटम लग री,
छोरी स्मार्ट बन री।।4।।

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
45 Views
You may also like:
कोशिश पर लिखे अशआर
कोशिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
दर्द ना मिटा दिल से तेरी चाहतों का।
दर्द ना मिटा दिल से तेरी चाहतों का।
Taj Mohammad
You have climbed too hard to go back to the heights. Never g
You have climbed too hard to go back to the...
Manisha Manjari
आपके अन्तर मन की चेतना अक्सर जागृत हो , आपसे , आपके वास्तविक
आपके अन्तर मन की चेतना अक्सर जागृत हो , आपसे...
Seema Verma
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
✍️हौसले भी कहाँ कम मिलते है
✍️हौसले भी कहाँ कम मिलते है
'अशांत' शेखर
चिंगारियां
चिंगारियां
Shekhar Chandra Mitra
तुम नहीं आये
तुम नहीं आये
Surinder blackpen
छत्रपति शिवाजी महाराज की समुद्री लड़ाई
छत्रपति शिवाजी महाराज की समुद्री लड़ाई
Pravesh Shinde
करोगे याद मुझको मगर
करोगे याद मुझको मगर
gurudeenverma198
★ ACTION BOLLYWOOD MUSIC ★
★ ACTION BOLLYWOOD MUSIC ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
चांद निकला है तुम्हे देखने के लिए
चांद निकला है तुम्हे देखने के लिए
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
राहें
राहें
Sidhant Sharma
💐प्रेम कौतुक-185💐
💐प्रेम कौतुक-185💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कतार  (कुंडलिया)
कतार (कुंडलिया)
Ravi Prakash
मेरे हमसफ़र
मेरे हमसफ़र
Shyam Sundar Subramanian
हुऐ बर्बाद हम तो आज कल आबाद तो होंगे
हुऐ बर्बाद हम तो आज कल आबाद तो होंगे
Anand Sharma
पात्र (लोकमैथिली कविता)
पात्र (लोकमैथिली कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मेरी ख़्वाहिश वफ़ा सुन ले,
मेरी ख़्वाहिश वफ़ा सुन ले,
अनिल अहिरवार"अबीर"
Writing Challenge- समय (Time)
Writing Challenge- समय (Time)
Sahityapedia
वतन की बात
वतन की बात
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
शब्द उनके बहुत नुकीले हैं
शब्द उनके बहुत नुकीले हैं
Dr Archana Gupta
■ आज की सलाह
■ आज की सलाह
*Author प्रणय प्रभात*
मेरे पृष्ठों को खोलोगे _यही संदेश पाओगे ।
मेरे पृष्ठों को खोलोगे _यही संदेश पाओगे ।
Rajesh vyas
The Moon!
The Moon!
Buddha Prakash
तिल,गुड़ और पतंग
तिल,गुड़ और पतंग
VINOD KUMAR CHAUHAN
"अंतिम-सत्य..!"
Prabhudayal Raniwal
घिसी चप्पल
घिसी चप्पल
N.ksahu0007@writer
भाव अंजुरि (मैथिली गीत)
भाव अंजुरि (मैथिली गीत)
मनोज कर्ण
धार्मिक कार्यक्रमों के नाम पर जबरदस्ती वसूली क्यों ?
धार्मिक कार्यक्रमों के नाम पर जबरदस्ती वसूली क्यों ?
Deepak Kohli
Loading...