Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jan 2023 · 1 min read

💐💐उनसे अलग कोई मर्ज़ी नहीं है💐💐

##मणिकर्णिका##
##कोई शब्द नहीं हैं##
##सब शान्त हो जाएगा##
##जहाँ चाह,वहाँ राह##

उनसे अलग कोई मर्ज़ी नहीं है,
उनसे अलग कोई मर्ज़ी नहीं है,
ठहरे रहे उनके इन्तजार में,
ख़त छोड़े खुले बहती बयार में,
उलझन तो बस उनके पलकों की थी,
तो उलझे रहे उनके दयार में,
सिवाय उनकी देहरी के कोई अर्जी नहीं है,
उनसे अलग कोई मर्ज़ी नहीं है।।1।।
वो हैं अकेले बहुत ही अकेले,
ग़र मिल भी गए तो भी अकेले,
दो शक़्ल हैं ग़र जुड़ भी गए तो,
रहेंगे तो फिर भी अकेले अकेले,
बहुत साफ़ दिल है,मेरा कोई गर्जी नहीं है,
उनसे अलग कोई मर्ज़ी नहीं है।।2।।
शायद कोई हद तय कर दी गई है,
मिलने की दूरी तय कर दी गई है,
चलो देखेंगें उनकी यह रौनक़,
यह तब भी नई थी अब भी नई है,
मिलते रहेंगे यह बे-तर्जी नहीं है,
उनसे अलग कोई मर्ज़ी नहीं है।।3।।
मैं क्यों कहूँ “आँख दुःख से भरी है”
तुम्हारे बिना यह सब दुनिया मरी है,
चलो सख़्त होकर कहो “तुम्हें छोड़ा’
‘न कह सकोगे’यही तो जादूगरी है,
“मेरा दिल है”कोई फर्जी नहीं है,
उनसे अलग कोई मर्ज़ी नहीं है।।4।।

दयार-क्षेत्र, गर्जी-स्ट्रेस,बे-तर्जी-लीक से हटकर

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
53 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
हर तरफ़ तन्हाइयों से लड़ रहे हैं लोग
हर तरफ़ तन्हाइयों से लड़ रहे हैं लोग
Shivkumar Bilagrami
जब दूसरो को आगे बड़ता देख
जब दूसरो को आगे बड़ता देख
Jay Dewangan
हर फूल गुलाब नहीं हो सकता,
हर फूल गुलाब नहीं हो सकता,
Anil Mishra Prahari
"When the storms of life come crashing down, we cannot contr
Manisha Manjari
बिन मौसम के ये बरसात कैसी
बिन मौसम के ये बरसात कैसी
Ram Krishan Rastogi
कारवां गुजर गया फ़िज़ाओं का,
कारवां गुजर गया फ़िज़ाओं का,
Satish Srijan
*मध्यमवर्ग तबाह, धूम से कर के शादी (कुंडलिया)*
*मध्यमवर्ग तबाह, धूम से कर के शादी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ज़िन्दगी की गोद में
ज़िन्दगी की गोद में
Rashmi Sanjay
जीवन दुखों से भरा है जीवन के सभी पक्षों में दुख के बीज सम्मि
जीवन दुखों से भरा है जीवन के सभी पक्षों में दुख के बीज सम्मि
Ms.Ankit Halke jha
प्यारी बेटी नितिका को जन्मदिवस की हार्दिक बधाई
प्यारी बेटी नितिका को जन्मदिवस की हार्दिक बधाई
विक्रम कुमार
मार्शल आर्ट
मार्शल आर्ट
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तुम इश्क लिखना,
तुम इश्क लिखना,
Adarsh Awasthi
बहुत याद आती है
बहुत याद आती है
नन्दलाल सुथार "राही"
मुझे भुला दो बेशक लेकिन,मैं  तो भूल  न  पाऊंगा।
मुझे भुला दो बेशक लेकिन,मैं तो भूल न पाऊंगा।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
कुछ समय पहले
कुछ समय पहले
Shakil Alam
उद् 🌷गार इक प्यार का
उद् 🌷गार इक प्यार का
Tarun Prasad
माँ सच्ची संवेदना....
माँ सच्ची संवेदना....
डॉ.सीमा अग्रवाल
যখন হৃদয় জ্বলে, তখন প্রদীপ জ্বালানোর আর প্রয়োজন নেই, হৃদয়ে
যখন হৃদয় জ্বলে, তখন প্রদীপ জ্বালানোর আর প্রয়োজন নেই, হৃদয়ে
Sakhawat Jisan
दोस्त मेरे यार तेरी दोस्ती का आभार
दोस्त मेरे यार तेरी दोस्ती का आभार
Anil chobisa
' प्यार करने मैदान में उतरा तो नही जीत पाऊंगा' ❤️
' प्यार करने मैदान में उतरा तो नही जीत पाऊंगा' ❤️
Rohit yadav
बुद्ध के विचारों की प्रासंगिकता
बुद्ध के विचारों की प्रासंगिकता
मनोज कर्ण
💐प्रेम कौतुक-503💐
💐प्रेम कौतुक-503💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
*आस्था*
*आस्था*
Dushyant Kumar
जरुरी नहीं खोखले लफ्ज़ो से सच साबित हो
जरुरी नहीं खोखले लफ्ज़ो से सच साबित हो
'अशांत' शेखर
"मैं अपनी धुन में चला
*Author प्रणय प्रभात*
माया मोह के दलदल से
माया मोह के दलदल से
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
2298.पूर्णिका
2298.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अगर जाना था उसको
अगर जाना था उसको
कवि दीपक बवेजा
Loading...