Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2017 · 1 min read

?”साहित्य”?

? ” साहित्य “?

साहित्य एक फलदार वृक्ष के सामान है ।

जिसका लाभ आने वाली पीढ़ी को मिलता है ।।

साहित्य वो पौधा है ,जिसके बीज़ किसी

कवि, लेखक के मन मस्तिक्ष में कविता,

कहानी, लेख, निबन्ध ,दोहे,इत्यादि के रूप में

पनपते हैं । जिसे कवि, लेखक सुन्दर शब्दों, की

माला में पिरोकर कुछ ,मनोरंजक, प्रेरणादायक सूत्रो में

एकत्र कर समाज के हित में समर्पित करता है ।

एक अच्छा साहित्य वही है, जो सभ्य सुन्दर समाज

की नींव रखने में सहायक हो ।

अगर आप कुछ अच्छा करना चाहते हैं ,तो कुछ अच्छे विचार भी समाज को समर्पित कर सकते हैं ।।



Language: Hindi
268 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3085.*पूर्णिका*
3085.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*होइही सोइ जो राम रची राखा*
*होइही सोइ जो राम रची राखा*
Shashi kala vyas
रोला छंद
रोला छंद
sushil sarna
इन टिमटिमाते तारों का भी अपना एक वजूद होता है
इन टिमटिमाते तारों का भी अपना एक वजूद होता है
ruby kumari
साँप का जहर
साँप का जहर
मनोज कर्ण
"फागुन गीत..2023"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
کوئی تنقید کر نہیں پاتے ۔
کوئی تنقید کر نہیں پاتے ۔
Dr fauzia Naseem shad
कुछ पल अपने लिए
कुछ पल अपने लिए
Mukesh Kumar Sonkar
■ आज का विचार
■ आज का विचार
*Author प्रणय प्रभात*
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
Ram Krishan Rastogi
कबीर का पैगाम
कबीर का पैगाम
Shekhar Chandra Mitra
ऐसे इंसानों से नहीं कोई फायदा
ऐसे इंसानों से नहीं कोई फायदा
gurudeenverma198
रिसाय के उमर ह , मनाए के जनम तक होना चाहि ।
रिसाय के उमर ह , मनाए के जनम तक होना चाहि ।
Lakhan Yadav
"Battling Inner Demons"
Manisha Manjari
हसीब सोज़... बस याद बाक़ी है
हसीब सोज़... बस याद बाक़ी है
अरशद रसूल बदायूंनी
*****हॄदय में राम*****
*****हॄदय में राम*****
Kavita Chouhan
Ek gali sajaye baithe hai,
Ek gali sajaye baithe hai,
Sakshi Tripathi
💐अज्ञात के प्रति-80💐
💐अज्ञात के प्रति-80💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ताटंक कुकुभ लावणी छंद और विधाएँ
ताटंक कुकुभ लावणी छंद और विधाएँ
Subhash Singhai
*गूगल को गुरु मानिए, इसका ज्ञान अथाह (कुंडलिया)*
*गूगल को गुरु मानिए, इसका ज्ञान अथाह (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सरकार~
सरकार~
दिनेश एल० "जैहिंद"
याद करने के लिए बस यारियां रह जाएंगी।
याद करने के लिए बस यारियां रह जाएंगी।
सत्य कुमार प्रेमी
प्रशांत सोलंकी
प्रशांत सोलंकी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
तुम्हें अहसास है कितना तुम्हे दिल चाहता है पर।
तुम्हें अहसास है कितना तुम्हे दिल चाहता है पर।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
व्यक्ति की सबसे बड़ी भक्ति और शक्ति यही होनी चाहिए कि वह खुद
व्यक्ति की सबसे बड़ी भक्ति और शक्ति यही होनी चाहिए कि वह खुद
Rj Anand Prajapati
माईया दौड़ी आए
माईया दौड़ी आए
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सुबह सुहानी आ रही, खूब खिलेंगे फूल।
सुबह सुहानी आ रही, खूब खिलेंगे फूल।
surenderpal vaidya
कबूतर
कबूतर
Vedha Singh
वर्णमाला हिंदी grammer by abhijeet kumar मंडल(saifganj539 (
वर्णमाला हिंदी grammer by abhijeet kumar मंडल(saifganj539 (
Abhijeet kumar mandal (saifganj)
Loading...