Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Apr 2024 · 1 min read

👍कमाल👍

👍कमाल👍

” चंद मिनट में हो गए पापी सभी पवित्र।
भारी पड़ा सड़ांध पर सत्ता वाला इत्र।।”

◆प्रणय प्रभात◆

1 Like · 36 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन के बुझे हुए चिराग़...!!!
जीवन के बुझे हुए चिराग़...!!!
Jyoti Khari
एक मशाल जलाओ तो यारों,
एक मशाल जलाओ तो यारों,
नेताम आर सी
शायरी 1
शायरी 1
SURYA PRAKASH SHARMA
और भी हैं !!
और भी हैं !!
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
साथ हो एक मगर खूबसूरत तो
साथ हो एक मगर खूबसूरत तो
ओनिका सेतिया 'अनु '
स्वर्ग से सुन्दर
स्वर्ग से सुन्दर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
सुनसान कब्रिस्तान को आकर जगाया आपने
सुनसान कब्रिस्तान को आकर जगाया आपने
VINOD CHAUHAN
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Sushil Pandey
विचार , हिंदी शायरी
विचार , हिंदी शायरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*सूने पेड़ हुए पतझड़ से, उपवन खाली-खाली (गीत)*
*सूने पेड़ हुए पतझड़ से, उपवन खाली-खाली (गीत)*
Ravi Prakash
मतवाला मन
मतवाला मन
Dr. Rajeev Jain
माँ तेरे दर्शन की अँखिया ये प्यासी है
माँ तेरे दर्शन की अँखिया ये प्यासी है
Basant Bhagawan Roy
हाथ पसारने का दिन ना आए
हाथ पसारने का दिन ना आए
Paras Nath Jha
महफिले सजाए हुए है
महफिले सजाए हुए है
Harminder Kaur
चाहे मेरे भविष्य मे वह मेरा हमसफ़र न हो
चाहे मेरे भविष्य मे वह मेरा हमसफ़र न हो
शेखर सिंह
आखिर क्या कमी है मुझमें......??
आखिर क्या कमी है मुझमें......??
Keshav kishor Kumar
मनुष्य की महत्ता
मनुष्य की महत्ता
ओंकार मिश्र
मैं मुश्किलों के आगे कम नहीं टिकता
मैं मुश्किलों के आगे कम नहीं टिकता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*
*"अवध में राम आये हैं"*
Shashi kala vyas
राम नाम अवलंब बिनु, परमारथ की आस।
राम नाम अवलंब बिनु, परमारथ की आस।
Satyaveer vaishnav
गीता में लिखा है...
गीता में लिखा है...
Omparkash Choudhary
नफरत दिलों की मिटाने, आती है यह होली
नफरत दिलों की मिटाने, आती है यह होली
gurudeenverma198
नारी शक्ति
नारी शक्ति
भरत कुमार सोलंकी
* पावन धरा *
* पावन धरा *
surenderpal vaidya
"विकसित भारत" देखना हो, तो 2047 तक डटे रहो बस। काल के कपाल प
*Author प्रणय प्रभात*
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कभी यदि मिलना हुआ फिर से
कभी यदि मिलना हुआ फिर से
Dr Manju Saini
साथ
साथ
Dr fauzia Naseem shad
आगाज़
आगाज़
Vivek saswat Shukla
Loading...