Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2017 · 1 min read

? ?” युग बदल रहा है”???

? ?” युग बदल रहा है”???
———————-
” साहित्य को फिर से पढ़ा जाने लगा है
लगता है फिर से ,स्वर्णिम साक्षरता का
युग आने लगा है।”

” साहित्य की फ़सल लहलहाने लगी है
आचरण में सभ्यता मुस्कराने लगी है ।”

” लगता है, युग बदल रहा है,कविता,
कहानी, लेखों को भी कोई पढ रहा है “।

“ज्ञान का प्रकाश जगमगा रहा है
कोई लिख, कोई पढ़ रहा है। ”

” माना की लिखने के शौंक को निक्क्मों
का शौंक कहा गया ।
पर हम निक्क्मों का लिखना ही कई निक्क्मों
के काम आ गया ।”

“विचारों के मंच पर मैंने ,कुछ बीज डालें है
कहानियों की क्यारियाँ हैं,शब्दों के मोती हैं,
कविताओँ में मुरली की धुन है, गज़ल ऐ जज़्बात,
मेरा लिखा किसी के लिये प्रेरणा स्रोत बन जाये
तो मैं समझूँ की मेरा लिखना कामयाब है।।”

Language: Hindi
1 Like · 217 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बावला
बावला
Ajay Mishra
आसमाँ  इतना भी दूर नहीं -
आसमाँ इतना भी दूर नहीं -
Atul "Krishn"
लें दे कर इंतज़ार रह गया
लें दे कर इंतज़ार रह गया
Manoj Mahato
दुनियाँ की भीड़ में।
दुनियाँ की भीड़ में।
Taj Mohammad
अब कुछ बचा नहीं बिकने को बाजार में
अब कुछ बचा नहीं बिकने को बाजार में
Ashish shukla
मुहब्बत
मुहब्बत
अखिलेश 'अखिल'
इश्क की वो  इक निशानी दे गया
इश्क की वो इक निशानी दे गया
Dr Archana Gupta
प्रेरणा और पराक्रम
प्रेरणा और पराक्रम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जी करता है , बाबा बन जाऊं – व्यंग्य
जी करता है , बाबा बन जाऊं – व्यंग्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जब कोई आपसे बहुत बोलने वाला व्यक्ति
जब कोई आपसे बहुत बोलने वाला व्यक्ति
पूर्वार्थ
रक्षाबंधन का त्यौहार
रक्षाबंधन का त्यौहार
Ram Krishan Rastogi
2958.*पूर्णिका*
2958.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
" जलाओ प्रीत दीपक "
Chunnu Lal Gupta
तुम्हारी आँख से जब आँख मिलती है मेरी जाना,
तुम्हारी आँख से जब आँख मिलती है मेरी जाना,
SURYA PRAKASH SHARMA
*हे हनुमंत प्रणाम : सुंदरकांड से प्रेरित आठ दोहे*
*हे हनुमंत प्रणाम : सुंदरकांड से प्रेरित आठ दोहे*
Ravi Prakash
Teacher
Teacher
Rajan Sharma
किस्मत की लकीरें
किस्मत की लकीरें
Dr Parveen Thakur
शाम ढलते ही
शाम ढलते ही
Davina Amar Thakral
पुस्तक
पुस्तक
जगदीश लववंशी
सहारे
सहारे
Kanchan Khanna
हर परिवार है तंग
हर परिवार है तंग
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मां तुम बहुत याद आती हो
मां तुम बहुत याद आती हो
Mukesh Kumar Sonkar
"किसे कहूँ मालिक?"
Dr. Kishan tandon kranti
कहानी-
कहानी- "हाजरा का बुर्क़ा ढीला है"
Dr Tabassum Jahan
निकलती हैं तदबीरें
निकलती हैं तदबीरें
Dr fauzia Naseem shad
अच्छे नहीं है लोग ऐसे जो
अच्छे नहीं है लोग ऐसे जो
gurudeenverma198
ग़ज़ल (थाम लोगे तुम अग़र...)
ग़ज़ल (थाम लोगे तुम अग़र...)
डॉक्टर रागिनी
मैं उसको जब पीने लगता मेरे गम वो पी जाती है
मैं उसको जब पीने लगता मेरे गम वो पी जाती है
कवि दीपक बवेजा
कभी उन बहनों को ना सताना जिनके माँ पिता साथ छोड़ गये हो।
कभी उन बहनों को ना सताना जिनके माँ पिता साथ छोड़ गये हो।
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
लोकशैली में तेवरी
लोकशैली में तेवरी
कवि रमेशराज
Loading...