Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2024 · 1 min read

🌹मेरी इश्क सल्तनत 🌹

गर हुस्न सल्तनत में हुकूमत मेरी हो,
तो मोहब्बत को ऐसी मोहब्बत मेरी हो,
किताबों के पन्नें वो छुप छुप के देखें,
जहां भी वो देखें बस सूरत मेरी हो।

इन आंखों में हर वक्त चाहत मेरी हो,
ख्वाब देखने की उसे आदत मेरी हो,
वो बाहों में भर ले मुझे और थोड़ा,
आगोश में उसके अब राहत मेरी हो।

हो इश्क कायनात गर जन्नत मेरी हो,
रब की बनाई पूरी कुदरत मेरी हो,
हूं हूरों का आशिक बस इतना ही चाहूं,
बहुत खूबसूरत वो चाहत मेरी हो।

बागों में तितलियों से सोहबत मेरी हो,
सात रंगो से रंगीन जरा रंगत मेरी हो,
खिलने लगे जब गुलाबों में कलियां,
तो महबूब के दिल में हसरत मेरी हो,

तुम गजल प्यार की खूबसूरत मेरी हो,
हसीन लफ्जों से सजी तुम इबारत मेरी हो
कोई कितना भी चाहे तुझे मुझसे ज्यादा,
जिक्र मेरा ही होगा तुम आयत मेरी हो।
@साहित्य गौरव

Language: Hindi
2 Likes · 114 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पंचचामर मुक्तक
पंचचामर मुक्तक
Neelam Sharma
यूं कौन जानता है यहां हमें,
यूं कौन जानता है यहां हमें,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
खोजें समस्याओं का समाधान
खोजें समस्याओं का समाधान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कल हमारे साथ जो थे
कल हमारे साथ जो थे
ruby kumari
आहत हो कर बापू बोले
आहत हो कर बापू बोले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"व्यक्ति जब अपने अंदर छिपी हुई शक्तियों के स्रोत को जान लेता
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
How to say!
How to say!
Bidyadhar Mantry
हरे! उन्मादिनी कोई हृदय में तान भर देना।
हरे! उन्मादिनी कोई हृदय में तान भर देना।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
सच
सच
Sanjay ' शून्य'
मेरा प्रयास ही है, मेरा हथियार किसी चीज को पाने के लिए ।
मेरा प्रयास ही है, मेरा हथियार किसी चीज को पाने के लिए ।
Ashish shukla
ज़माना साथ था कल तक तो लगता था अधूरा हूँ।
ज़माना साथ था कल तक तो लगता था अधूरा हूँ।
*प्रणय प्रभात*
बचपन
बचपन
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
तेरे ख़्याल में हूं
तेरे ख़्याल में हूं
Dr fauzia Naseem shad
हाँ ये सच है
हाँ ये सच है
Saraswati Bajpai
मातृभूमि पर तू अपना सर्वस्व वार दे
मातृभूमि पर तू अपना सर्वस्व वार दे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आत्महत्या करके मरने से अच्छा है कुछ प्राप्त करके मरो यदि कुछ
आत्महत्या करके मरने से अच्छा है कुछ प्राप्त करके मरो यदि कुछ
Rj Anand Prajapati
पास आना तो बहाना था
पास आना तो बहाना था
भरत कुमार सोलंकी
2412.पूर्णिका
2412.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ये उदास शाम
ये उदास शाम
shabina. Naaz
*बाल काले न करने के फायदे(हास्य व्यंग्य)*
*बाल काले न करने के फायदे(हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
हम उफ ना करेंगे।
हम उफ ना करेंगे।
Taj Mohammad
Disagreement
Disagreement
AJAY AMITABH SUMAN
विद्यार्थी को तनाव थका देता है पढ़ाई नही थकाती
विद्यार्थी को तनाव थका देता है पढ़ाई नही थकाती
पूर्वार्थ
उसकी दोस्ती में
उसकी दोस्ती में
Satish Srijan
रामलला के विग्रह की जब, भव में प्राण प्रतिष्ठा होगी।
रामलला के विग्रह की जब, भव में प्राण प्रतिष्ठा होगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
रक्तदान
रक्तदान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"गुमान"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं जानता हूॅ॑ उनको और उनके इरादों को
मैं जानता हूॅ॑ उनको और उनके इरादों को
VINOD CHAUHAN
दिल हमारा तुम्हारा धड़कने लगा।
दिल हमारा तुम्हारा धड़कने लगा।
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
क्यों और कैसे हुई विश्व पर्यावरण दिवस मनाने की शुरुआत। क्या है 2023 का थीम ?
क्यों और कैसे हुई विश्व पर्यावरण दिवस मनाने की शुरुआत। क्या है 2023 का थीम ?
Shakil Alam
Loading...