Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Apr 2019 · 1 min read

“तेरे गलियों के चक्कर, काटने का मज़ा!!”

है ये आशिक़ बने,
सोशल मीडिया पे जो।
इनको क्या हो पता,
आशिक़ी की सजा।।
अब ये समझेंगे क्या,
आज के छोकरे।
तेरे गलियों के चक्कर,
काटने का मज़ा।।

तू खड़ी रहती घण्टों,
दरवाजे पकड़।
रहते खामोश लब पर,
थी नज़रो में रजा।।
अब ये समझेंगे क्या,
आज के छोकरे।
तेरे गलियों के चक्कर,
काटने का मज़ा।।

कर बहाने गुजरता मैं,
क्षण क्षण उधर।
जाए दिख बस कहि से,
तेरी एक झलक।।
था डर भी बहोत,
पर चाहते थी बड़ी।
कि रोक ले तू मुझे,
कह अभी तू न जा।।

अब ये समझेंगे क्या,
आज के छोकरे।
तेरे गलियों के चक्कर,
काटने का मज़ा।।

बन ठन कर निकलता,
जाने को कहीं।
पर एक चक्कर गली का,
था जरूरी तेरा।।
दोस्त कहते कि क्यों है,
वक्त बेवक्त इधर।
देख तो ले घड़ी की,
है कितना बजा।।

अब ये समझेंगे क्या,
आज के छोकरे।
तेरे गलियों के चक्कर,
काटने का मज़ा।।

न थी दुनिया की खबर,
ना वक्त का था पता।
क्या था अच्छा, बुरा,
किसकी कितनी खता।।
तुम ही पहली कशिश,
आखरी ख्वाहिश भी तू।
सिर्फ तुम्हि तो थी इक,
मेरे जीने की वजा।।

अब ये समझेंगे क्या,
आज के छोकरे।
तेरे गलियों के चक्कर,
काटने का मज़ा।।

©® पांडेय चिदानंद “चिद्रूप”
(सर्वाधिकार सुरक्षित ०७/०४/२०१९ )

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 340 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हे प्रभु इतना देना की
हे प्रभु इतना देना की
विकास शुक्ल
जन्मदिन पर लिखे अशआर
जन्मदिन पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
जनता का भरोसा
जनता का भरोसा
Shekhar Chandra Mitra
मसला
मसला
Dr. Kishan tandon kranti
Quote - If we ignore others means we ignore society. This way we ign
Quote - If we ignore others means we ignore society. This way we ign
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Prastya...💐
Prastya...💐
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
चित्र कितना भी ख़ूबसूरत क्यों ना हो खुशबू तो किरदार में है।।
चित्र कितना भी ख़ूबसूरत क्यों ना हो खुशबू तो किरदार में है।।
Lokesh Sharma
मांँ ...….....एक सच है
मांँ ...….....एक सच है
Neeraj Agarwal
...और फिर कदम दर कदम आगे बढ जाना है
...और फिर कदम दर कदम आगे बढ जाना है
'अशांत' शेखर
तू गीत ग़ज़ल उन्वान प्रिय।
तू गीत ग़ज़ल उन्वान प्रिय।
Neelam Sharma
हम किसे के हिज्र में खुदकुशी कर ले
हम किसे के हिज्र में खुदकुशी कर ले
himanshu mittra
RKASHA BANDHAN
RKASHA BANDHAN
डी. के. निवातिया
Stop use of Polythene-plastic
Stop use of Polythene-plastic
Tushar Jagawat
अमीर घरों की गरीब औरतें
अमीर घरों की गरीब औरतें
Surinder blackpen
■दोहा■
■दोहा■
*प्रणय प्रभात*
राजनीतिक यात्रा फैशन में है, इमेज बिल्डिंग और फाइव स्टार सुव
राजनीतिक यात्रा फैशन में है, इमेज बिल्डिंग और फाइव स्टार सुव
Sanjay ' शून्य'
2932.*पूर्णिका*
2932.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जोशीला
जोशीला
RAKESH RAKESH
जब तक जेब में पैसो की गर्मी थी
जब तक जेब में पैसो की गर्मी थी
Sonit Parjapati
स्वतंत्रता का अनजाना स्वाद
स्वतंत्रता का अनजाना स्वाद
Mamta Singh Devaa
पथ नहीं होता सरल
पथ नहीं होता सरल
surenderpal vaidya
पसंद तो आ गई तस्वीर, यह आपकी हमको
पसंद तो आ गई तस्वीर, यह आपकी हमको
gurudeenverma198
पद्धरि छंद ,अरिल्ल छंद , अड़िल्ल छंद विधान व उदाहरण
पद्धरि छंद ,अरिल्ल छंद , अड़िल्ल छंद विधान व उदाहरण
Subhash Singhai
मैं नही चाहती किसी के जैसे बनना
मैं नही चाहती किसी के जैसे बनना
ruby kumari
*एकांत*
*एकांत*
जगदीश लववंशी
हरा-भरा अब कब रहा, पेड़ों से संसार(कुंडलिया )
हरा-भरा अब कब रहा, पेड़ों से संसार(कुंडलिया )
Ravi Prakash
भावनाओं की किसे पड़ी है
भावनाओं की किसे पड़ी है
Vaishaligoel
बदमिजाज सी शाम हो चली है,
बदमिजाज सी शाम हो चली है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
वृक्षों का रोपण करें, रहे धरा संपन्न।
वृक्षों का रोपण करें, रहे धरा संपन्न।
डॉ.सीमा अग्रवाल
-शेखर सिंह
-शेखर सिंह
शेखर सिंह
Loading...