Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Dec 2019 · 1 min read

【 23】 प्रकृति छेड़ रहा इंसान

रूह तक काँँप जाती है, सुनो सब मेरी दर्द से
काट रहे जो लोग यहाँँ, पेड़ों को गर्व से
{ 1} पैसों की लालच में, कितने अंधे हुए हैं लोग
पर्यावरण को नष्ट करने का, लगा है जिनको रोग
मिटा रहे सौंदर्य धरा का, करें नए प्रयोग
निज जीवन को बचाने फिर से, क्या होगा संयोग?
मेरा यह पैगाम है जग के, मानव सर्व से
भुलो नहीं तुम खुद को, रहो सब अपने गर्व से
रूह तक काँँप……….
{2} प्रकृति से छेड़छाड़ जो, मानव करता जायेगा
निश्चित है, वह आज नहीं तो, कल जी भर पछतायेगा
दसों दिशाओं के प्रकोप से, मानव नहीं बच पायेगा
क्या उजाड़े भूमंडल एक दिन, तू भी उजड़ ही जाएगा
फिर ना चलेगा काम किसी का, कोई भी तर्क से
मिटेगी सबकी शानो शौकत, धरती की पर्त से
रूह तक काँँप……….
{3} वातावरण में मानव विष, फैलाए शौक से
वो दिन भी आना है, स्वयं जीयेगा ख़ौफ़ से
साँँस भी ना ले पायेगा तू, झूठे रौब से
लाखों कमा भले ही तू, फरेबी जॉब से
फैले बिषैली वायु, सोया क्यों अपने फर्ज से
काँँपें प्राण सभी नके मूर्ख, लाइलाज मर्ज से
रूह तक काँँप……….
{4} पेड़ न काटो पेड़ लगाओ, पेड़ से जीवित जग सारा
पेड़ों से ही दुनियाँँभर में, बह सकती है सुख धारा
हरियाली से हरा – भरा जो, वातावरण हमारा है
हरा – भरा जग को रखेंगे, यही हम सब का नारा है
हम बदलेंगे युग बदलेगा, थोड़े से बस फ़र्क से
बरसेंगी झोली भर खुशियाँँ, अंबर के उस अर्श से
रूह तक काँँप…………
खैमसिंह सैनी 【राजस्थान】

Language: Hindi
Tag: कविता
4 Likes · 1 Comment · 806 Views
You may also like:
दास्तां-ए-दर्द
Seema 'Tu hai na'
~प्रकृति~(द्रुत विलम्बित छंद)
Vijay kumar Pandey
सिलसिले साँसों के भी थकने लगे थे, बेजुबां लबों को,...
Manisha Manjari
उमीदों के चरागों को कभी बुझने नहीं देना
Dr Archana Gupta
संसर्ग मुझमें
Varun Singh Gautam
*माँ कटार-संग लाई हैं* *(घनाक्षरी : सिंह विलोकित छंद )*
Ravi Prakash
खास अंदाज
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आजकल इश्क नही 21को शादी है
Anurag pandey
जिस आँगन में बिटिया चहके।
लक्ष्मी सिंह
शिव स्तुति
मनोज कर्ण
ग़ज़ल-धीरे-धीरे
Sanjay Grover
जिन्दगी से शिकायत न रही
Anamika Singh
ईर्ष्या
Shyam Sundar Subramanian
कविता –सच्चाई से मुकर न जाना
रकमिश सुल्तानपुरी
अंधे का बेटा अंधा
AJAY AMITABH SUMAN
बेबस-मन
विजय कुमार नामदेव
तुमको खुशी मिलती है।
Taj Mohammad
✍️यादों के पलाश में ..
'अशांत' शेखर
हिंदी, सपनों की भाषा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
कन्या पूजन
Ashish Kumar
अब मैं
gurudeenverma198
"बिहार में शैक्षिक नवाचार"
पंकज कुमार कर्ण
इतनी उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
तुम्हारी यादों में सो जाऊं
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
हाइकु: नवरात्रि पर्व!
Prabhudayal Raniwal
💐बस एक नज़र की ही तो बात है💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जिधर भी देखिए उधर ही सूल सूल हो गये
Anis Shah
51- प्रलय में भी…
Rambali Mishra
■ सकारात्मक चिंतन
*Author प्रणय प्रभात*
अना दिलों में सभी के....
अश्क चिरैयाकोटी
Loading...