Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Dec 2019 · 1 min read

【 23】 प्रकृति छेड़ रहा इंसान

रूह तक काँँप जाती है, सुनो सब मेरी दर्द से
काट रहे जो लोग यहाँँ, पेड़ों को गर्व से
{ 1} पैसों की लालच में, कितने अंधे हुए हैं लोग
पर्यावरण को नष्ट करने का, लगा है जिनको रोग
मिटा रहे सौंदर्य धरा का, करें नए प्रयोग
निज जीवन को बचाने फिर से, क्या होगा संयोग?
मेरा यह पैगाम है जग के, मानव सर्व से
भुलो नहीं तुम खुद को, रहो सब अपने गर्व से
रूह तक काँँप……….
{2} प्रकृति से छेड़छाड़ जो, मानव करता जायेगा
निश्चित है, वह आज नहीं तो, कल जी भर पछतायेगा
दसों दिशाओं के प्रकोप से, मानव नहीं बच पायेगा
क्या उजाड़े भूमंडल एक दिन, तू भी उजड़ ही जाएगा
फिर ना चलेगा काम किसी का, कोई भी तर्क से
मिटेगी सबकी शानो शौकत, धरती की पर्त से
रूह तक काँँप……….
{3} वातावरण में मानव विष, फैलाए शौक से
वो दिन भी आना है, स्वयं जीयेगा ख़ौफ़ से
साँँस भी ना ले पायेगा तू, झूठे रौब से
लाखों कमा भले ही तू, फरेबी जॉब से
फैले बिषैली वायु, सोया क्यों अपने फर्ज से
काँँपें प्राण सभी नके मूर्ख, लाइलाज मर्ज से
रूह तक काँँप……….
{4} पेड़ न काटो पेड़ लगाओ, पेड़ से जीवित जग सारा
पेड़ों से ही दुनियाँँभर में, बह सकती है सुख धारा
हरियाली से हरा – भरा जो, वातावरण हमारा है
हरा – भरा जग को रखेंगे, यही हम सब का नारा है
हम बदलेंगे युग बदलेगा, थोड़े से बस फ़र्क से
बरसेंगी झोली भर खुशियाँँ, अंबर के उस अर्श से
रूह तक काँँप…………
खैमसिंह सैनी 【राजस्थान】

Language: Hindi
5 Likes · 1 Comment · 1067 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ମର୍ଯ୍ୟାଦା ପୁରୁଷୋତ୍ତମ ଶ୍ରୀରାମ
ମର୍ଯ୍ୟାଦା ପୁରୁଷୋତ୍ତମ ଶ୍ରୀରାମ
Bidyadhar Mantry
"वेदना"
Dr. Kishan tandon kranti
वेलेंटाइन डे रिप्रोडक्शन की एक प्रेक्टिकल क्लास है।
वेलेंटाइन डे रिप्रोडक्शन की एक प्रेक्टिकल क्लास है।
Rj Anand Prajapati
अब तो गिरगिट का भी टूट गया
अब तो गिरगिट का भी टूट गया
Paras Nath Jha
प्रभु राम नाम का अवलंब
प्रभु राम नाम का अवलंब
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
**माटी जन्मभूमि की**
**माटी जन्मभूमि की**
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
वो ओस की बूंदे और यादें
वो ओस की बूंदे और यादें
Neeraj Agarwal
आर-पार की साँसें
आर-पार की साँसें
Dr. Sunita Singh
चांद पर पहुंचे बधाई, ये बताओ तो।
चांद पर पहुंचे बधाई, ये बताओ तो।
सत्य कुमार प्रेमी
ताक पर रखकर अंतर की व्यथाएँ,
ताक पर रखकर अंतर की व्यथाएँ,
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
पुरुषो को प्रेम के मायावी जाल में फसाकर , उनकी कमौतेजन्न बढ़
पुरुषो को प्रेम के मायावी जाल में फसाकर , उनकी कमौतेजन्न बढ़
पूर्वार्थ
मौसम सुहाना बनाया था जिसने
मौसम सुहाना बनाया था जिसने
VINOD CHAUHAN
17== 🌸धोखा 🌸
17== 🌸धोखा 🌸
Mahima shukla
तेरे नयनों ने यह क्या जादू किया
तेरे नयनों ने यह क्या जादू किया
gurudeenverma198
दोहा निवेदन
दोहा निवेदन
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Phool gufran
दुकान वाली बुढ़िया
दुकान वाली बुढ़िया
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
" ख्वाबों का सफर "
Pushpraj Anant
मां रिश्तों में सबसे जुदा सी होती है।
मां रिश्तों में सबसे जुदा सी होती है।
Taj Mohammad
शार्टकट
शार्टकट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
स्वतंत्रता का अनजाना स्वाद
स्वतंत्रता का अनजाना स्वाद
Mamta Singh Devaa
यादों के बादल
यादों के बादल
singh kunwar sarvendra vikram
ग़ज़ल/नज़्म - उसका प्यार जब से कुछ-कुछ गहरा हुआ है
ग़ज़ल/नज़्म - उसका प्यार जब से कुछ-कुछ गहरा हुआ है
अनिल कुमार
Lines of day
Lines of day
Sampada
*बदकिस्मत थे, जेल हो गई 【हिंदी गजल/गीतिका】*
*बदकिस्मत थे, जेल हो गई 【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
भारत मां की पुकार
भारत मां की पुकार
Shriyansh Gupta
प्रार्थना
प्रार्थना
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
■ कितना वदल गया परिवेश।।😢😢
■ कितना वदल गया परिवेश।।😢😢
*Author प्रणय प्रभात*
कोई कितना
कोई कितना
Dr fauzia Naseem shad
जिन्दगी के हर सफे को ...
जिन्दगी के हर सफे को ...
Bodhisatva kastooriya
Loading...