Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 25, 2016 · 1 min read

【 आख़री ख़त 】

तुम्हारा ख़त मिला
खून में नहाया हुआ
अल्फाज रोते हुऐ मिले
मानो रिहाई की दुहाई दे रहें हों..
ख़त देखकर उतना ही स्तब्ध हूँ
जितना पहली बार हुआ था
तुम्हें देखकर..
भोर की पहली किरण में
चमकती ओस की बूँद सी तुम..
मैंने कैद कर लिया था तुम्हें
अपनी आँखों में उसी रोज़
चैन ही नहीं
नींद भी गँवा चुका था..
याद है मुझे
मेरी बाइक पर बैठ
बातें करती थी हवाओं से
मुट्ठी में भर लेती थी आसमां
और ताज़ा खुली सांसो को..
चंद लम्हे मेरे संग बिताये
कर देते थे तुम्हें
पुनर्जीवित
घटने लगते थे
तुम्हारी आँखों के नीचे बनें
गहरे काले आँसुओं के बादल
और फ़िर से बोलने लगती थी
तुम्हारी खूबसूरत आँखें..
कई बार सोचा अकेले में कि
तुम्हारे अरमान
तुम्हारी चाहत को समेट
निकल जाऊं कहीं दूर
जहाँ कोई न हों
सिर्फ़ मैं और तुम…
मगर मेरी रानी “रौनक़”
संस्कारों और समाज की
बेड़ी नें मेरे ही नहीं
तुम्हारे पैर भी बाँधे हुऐ हैं
चंद वर्षों में विवाह के बंधन में बंध
जब कभी तुम आओगी
इन्हीं गलियों में
जिम्मेदारियों की चूड़ियां पहनें
समझदारी की गोल बिंदी लगाये
मैं वहीं मौजूद रहूंगा
तुम्हें निहारने
यादों की खिड़की से झांकते हुऐ
तुम्हारी झोली में
डालूंगा दुआओं के फूल,
आगामी जीवन की
खुशियों के लिये
प्रार्थना करता हुआ
मैं मौजूद रहूंगा हमेशा
तुम्हारे इर्द गिर्द….

नितिन शर्मा

140 Views
You may also like:
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
तुम...
Sapna K S
जिंदगी और करार
ananya rai parashar
पेड़ की अंतिम चेतावनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रुक क्यों जाता हैं
Taran Verma
कोई तो दिन होगा।
Taj Mohammad
ये जमीं आसमां।
Taj Mohammad
स्वयं में एक संस्था थे श्री ओमकार शरण ओम
Ravi Prakash
✍️सुकून✍️
"अशांत" शेखर
ए- अनूठा- हयात ईश्वरी देन
AMRESH KUMAR VERMA
मातृ रूप
श्री रमण
" सरोज "
Dr Meenu Poonia
देवदूत डॉक्टर
Buddha Prakash
हनुमान जयंती पर कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
आज तिलिस्म टूट गया....
Saraswati Bajpai
कबीर के राम
Shekhar Chandra Mitra
In love, its never too late, or is it?
Abhineet Mittal
**यादों की बारिशने रुला दिया **
Dr. Alpa H. Amin
तू है तेरे अन्दर।
Taj Mohammad
मजदूर की अंतर्व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
नई तकदीर
मनोज कर्ण
सदगुण ईश्वरीय श्रंगार हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हम ना सोते हैं।
Taj Mohammad
ग़ज़ल
Anis Shah
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी, एक सच्चे इंसान थे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गुजर रही है जिंदगी अब ऐसे मुकाम से
Ram Krishan Rastogi
“ विश्वास की डोर ”
DESH RAJ
All I want to say is good bye...
Abhineet Mittal
Loading...