Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Nov 2016 · 1 min read

【 आख़री ख़त 】

तुम्हारा ख़त मिला
खून में नहाया हुआ
अल्फाज रोते हुऐ मिले
मानो रिहाई की दुहाई दे रहें हों..
ख़त देखकर उतना ही स्तब्ध हूँ
जितना पहली बार हुआ था
तुम्हें देखकर..
भोर की पहली किरण में
चमकती ओस की बूँद सी तुम..
मैंने कैद कर लिया था तुम्हें
अपनी आँखों में उसी रोज़
चैन ही नहीं
नींद भी गँवा चुका था..
याद है मुझे
मेरी बाइक पर बैठ
बातें करती थी हवाओं से
मुट्ठी में भर लेती थी आसमां
और ताज़ा खुली सांसो को..
चंद लम्हे मेरे संग बिताये
कर देते थे तुम्हें
पुनर्जीवित
घटने लगते थे
तुम्हारी आँखों के नीचे बनें
गहरे काले आँसुओं के बादल
और फ़िर से बोलने लगती थी
तुम्हारी खूबसूरत आँखें..
कई बार सोचा अकेले में कि
तुम्हारे अरमान
तुम्हारी चाहत को समेट
निकल जाऊं कहीं दूर
जहाँ कोई न हों
सिर्फ़ मैं और तुम…
मगर मेरी रानी “रौनक़”
संस्कारों और समाज की
बेड़ी नें मेरे ही नहीं
तुम्हारे पैर भी बाँधे हुऐ हैं
चंद वर्षों में विवाह के बंधन में बंध
जब कभी तुम आओगी
इन्हीं गलियों में
जिम्मेदारियों की चूड़ियां पहनें
समझदारी की गोल बिंदी लगाये
मैं वहीं मौजूद रहूंगा
तुम्हें निहारने
यादों की खिड़की से झांकते हुऐ
तुम्हारी झोली में
डालूंगा दुआओं के फूल,
आगामी जीवन की
खुशियों के लिये
प्रार्थना करता हुआ
मैं मौजूद रहूंगा हमेशा
तुम्हारे इर्द गिर्द….

नितिन शर्मा

Language: Hindi
260 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आदिवासी
आदिवासी
Shekhar Chandra Mitra
💜💠💠💠💜💠💠💠💜
💜💠💠💠💜💠💠💠💜
Manoj Kushwaha PS
सियाचिनी सैनिक
सियाचिनी सैनिक
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
Pyasa ke dohe (vishwas)
Pyasa ke dohe (vishwas)
Vijay kumar Pandey
20)”“गणतंत्र दिवस”
20)”“गणतंत्र दिवस”
Sapna Arora
मोहक हरियाली
मोहक हरियाली
Surya Barman
हरदा अग्नि कांड
हरदा अग्नि कांड
GOVIND UIKEY
अमूक दोस्त ।
अमूक दोस्त ।
SATPAL CHAUHAN
हसीनाओं से कभी भूलकर भी दिल मत लगाना
हसीनाओं से कभी भूलकर भी दिल मत लगाना
gurudeenverma198
"डूबना"
Dr. Kishan tandon kranti
इशारों इशारों में मेरा दिल चुरा लेते हो
इशारों इशारों में मेरा दिल चुरा लेते हो
Ram Krishan Rastogi
हां राम, समर शेष है
हां राम, समर शेष है
Suryakant Dwivedi
बहू हो या बेटी ,
बहू हो या बेटी ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
रंगों की दुनिया में सब से
रंगों की दुनिया में सब से
shabina. Naaz
(साक्षात्कार) प्रमुख तेवरीकार रमेशराज से प्रसिद्ध ग़ज़लकार मधुर नज़्मी की अनौपचारिक बातचीत
(साक्षात्कार) प्रमुख तेवरीकार रमेशराज से प्रसिद्ध ग़ज़लकार मधुर नज़्मी की अनौपचारिक बातचीत
कवि रमेशराज
*नासमझ*
*नासमझ*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सावन भादो
सावन भादो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
शिक्षक
शिक्षक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
*धीरे-धीरे आया जाड़ा(हिंदी गजल/ गीतिका)*
*धीरे-धीरे आया जाड़ा(हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
मैं तुम्हारे ख्वाबों खयालों में, मद मस्त शाम ओ सहर में हूॅं।
मैं तुम्हारे ख्वाबों खयालों में, मद मस्त शाम ओ सहर में हूॅं।
सत्य कुमार प्रेमी
"बिन स्याही के कलम "
Pushpraj Anant
👌आज का शेर —
👌आज का शेर —
*Author प्रणय प्रभात*
वहां पथ पथिक कुशलता क्या, जिस पथ पर बिखरे शूल न हों।
वहां पथ पथिक कुशलता क्या, जिस पथ पर बिखरे शूल न हों।
Slok maurya "umang"
काश असल पहचान सबको अपनी मालूम होती,
काश असल पहचान सबको अपनी मालूम होती,
manjula chauhan
सेल्फी जेनेरेशन
सेल्फी जेनेरेशन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"निखार" - ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सावन
सावन
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हाजीपुर
हाजीपुर
Hajipur
रिश्ते प्यार के
रिश्ते प्यार के
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
नवनिर्माण
नवनिर्माण
विनोद सिल्ला
Loading...