Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Sep 2022 · 1 min read

✍️मातारानी ✍️

कुछ अलग ही सुकून है शेरावाली के दरबार में,
कुछ अलग ही जुनून है पहाड़ावाली के प्यार में,
उनकी ममता का वर्णन मैं कैसे करूँ,
उनकी बातों का चित्रण मैं कैसे करूँ,
कहाँ से लाऊँ वो पवित्र शब्द क्या कहुँ,
उनकी करुणा का वर्णन मैं कैसे करूँ,
साक्षात देखा नही माँ को पर उनका अहसास जरूर मिला है,
जब दुनिया ने अकेला छोड़ दिया तब मेरी माँ का साथ जरूर मिला है,
मेरी माँ का आशीर्वाद ही सबसे ख़ास है,
मुझे उनसे बस यही आस है,
मझधार में फँसी मेरी नौका को वो पार जरूर लगाएगी,
ये मेरा उनपर पूर्ण विश्वास है।

✍️वैष्णवी गुप्ता
कौशांबी

5 Likes · 8 Comments · 357 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भ्रांति पथ
भ्रांति पथ
नवीन जोशी 'नवल'
फूलों की बात हमारे,
फूलों की बात हमारे,
Neeraj Agarwal
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दुआ पर लिखे अशआर
दुआ पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
भाग्य प्रबल हो जायेगा
भाग्य प्रबल हो जायेगा
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
If you do things the same way you've always done them, you'l
If you do things the same way you've always done them, you'l
Vipin Singh
खंड 8
खंड 8
Rambali Mishra
गर गुलों की गुल गई
गर गुलों की गुल गई
Mahesh Tiwari 'Ayan'
समंदर
समंदर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हर एक चेहरा निहारता
हर एक चेहरा निहारता
goutam shaw
अनेक को दिया उजाड़
अनेक को दिया उजाड़
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
पहला सुख निरोगी काया
पहला सुख निरोगी काया
जगदीश लववंशी
अच्छाई बनाम बुराई :- [ अच्छाई का फल ]
अच्छाई बनाम बुराई :- [ अच्छाई का फल ]
Surya Barman
फितरत
फितरत
Dr.Priya Soni Khare
■ उदाहरण देने की ज़रूरत नहीं। सब आपके आसपास हैं। तमाम सुर्खिय
■ उदाहरण देने की ज़रूरत नहीं। सब आपके आसपास हैं। तमाम सुर्खिय
*Author प्रणय प्रभात*
खामोश आवाज़
खामोश आवाज़
Dr. Seema Varma
2796. *पूर्णिका*
2796. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हिज़्र
हिज़्र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
फिर बैठ गया हूं, सांझ के साथ
फिर बैठ गया हूं, सांझ के साथ
Smriti Singh
दोहे
दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मनुष्य
मनुष्य
Sanjay ' शून्य'
प्यासा मन
प्यासा मन
नेताम आर सी
*कविवर रमेश कुमार जैन की ताजा कविता को सुनने का सुख*
*कविवर रमेश कुमार जैन की ताजा कविता को सुनने का सुख*
Ravi Prakash
*मंज़िल पथिक और माध्यम*
*मंज़िल पथिक और माध्यम*
Lokesh Singh
संविधान का शासन भारत मानवता की टोली हो।
संविधान का शासन भारत मानवता की टोली हो।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
“अकेला”
“अकेला”
DrLakshman Jha Parimal
आज ही का वो दिन था....
आज ही का वो दिन था....
Srishty Bansal
कहे स्वयंभू स्वयं को ,
कहे स्वयंभू स्वयं को ,
sushil sarna
14) “जीवन में योग”
14) “जीवन में योग”
Sapna Arora
खेल रहे अब लोग सब, सिर्फ स्वार्थ का खेल।
खेल रहे अब लोग सब, सिर्फ स्वार्थ का खेल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...