Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2023 · 2 min read

✍️ख्वाहिशें जिंदगी से ✍️

कुछ ख्वाहिशें है मेरी जिंदगी से,
जीना है हर लम्हा अपनी खुशी से,
दिल में बहुत कुछ है मेरे सब बोलना है,
मन को हल्का कर सारे राज़ खोलना है,
कभी ऊँची पहाड़ी से खुद की आवाज़ सुनना है,
कभी अपनी कल्पना में अनगिनत ख़्वाब बुनना है,
तारों की रौशनी में मुझे खुद से मिलना है,
लम्हात कैसे भी हो हर लम्हें में खिलना है,
किसी के हक़ के लिए मुझे सच के लिए लड़ना है,
सिर्फ किताबें ही नहीं किसी की मजबूरी भी पढ़ना है,
समुन्दर किनारे मीलों पैदल चलना है,
कदम डगमागाये अगर तो बस खुद से संभलना है,
माँ को साड़ी पापा को फ़ोन दिलाना है,
भाई बहन को उनकी खुशियों से मिलाना है,
प्यार भरे परिवार का एक आशियाना बनाना है,
अपनो को जोड़कर हर रिश्ता निभाना है,
एक बार पापा के गले से लग जाना है,
जी भर के उस दिन खुशी के आँसू बहाना है,
बचपन के किये वादे पे दोस्तों को घुमाना है,
अपने दम पर उन घुमककड़ो को ऐश कराना है,
अपनी शादी के लिए भी कुछ खास तमन्ना है,
उन्हें सुनहरी शेरवानी मुझे लाल जोड़ा पहनना है,
सात फेरों के सारे सातो वचन निभाना है,
हर रोज उन्हीं के हाथों से माँग अपनी भराना है,
दोनों ही परिवारों को साथ लेके बढ़ना है,
सारी ही कठिनाईओं से साथ मिलके लड़ना है,
अपनो की मुसीबत मुझे मिले उन्हें सलामत रखना है,
जग मे रहूँ या ना रहुँ सबके दिलों मे रहना है,
जाते है सब जहाँ अन्ततः मुझे वहीं जाना है,
अच्छे बुरे कर्मों का सारा हिसाब लगाना है।

✍️वैष्णवी गुप्ता (vaishu)
कौशाम्बी

Language: Hindi
3 Likes · 4 Comments · 342 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
व्यंग्य क्षणिकाएं
व्यंग्य क्षणिकाएं
Suryakant Dwivedi
विजेता
विजेता
Sanjay ' शून्य'
आप कौन है, आप शरीर है या शरीर में जो बैठा है वो
आप कौन है, आप शरीर है या शरीर में जो बैठा है वो
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
इश्क में डूबी हुई इक जवानी चाहिए
इश्क में डूबी हुई इक जवानी चाहिए
सौरभ पाण्डेय
कार्य महान
कार्य महान
surenderpal vaidya
भरे मन भाव अति पावन....
भरे मन भाव अति पावन....
डॉ.सीमा अग्रवाल
जुगुनूओं की कोशिशें कामयाब अब हो रही,
जुगुनूओं की कोशिशें कामयाब अब हो रही,
Kumud Srivastava
चाँद
चाँद
लक्ष्मी सिंह
सितारे अपने आजकल गर्दिश में चल रहे है
सितारे अपने आजकल गर्दिश में चल रहे है
shabina. Naaz
एक पीर उठी थी मन में, फिर भी मैं चीख ना पाया ।
एक पीर उठी थी मन में, फिर भी मैं चीख ना पाया ।
आचार्य वृन्दान्त
अबीर ओ गुलाल में अब प्रेम की वो मस्ती नहीं मिलती,
अबीर ओ गुलाल में अब प्रेम की वो मस्ती नहीं मिलती,
इंजी. संजय श्रीवास्तव
आंख में बेबस आंसू
आंख में बेबस आंसू
Dr. Rajeev Jain
*केवल जाति-एकता की, चौतरफा जय-जयकार है 【मुक्तक】*
*केवल जाति-एकता की, चौतरफा जय-जयकार है 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
MEENU SHARMA
जिस नारी ने जन्म दिया
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD CHAUHAN
You lived through it, you learned from it, now it's time to
You lived through it, you learned from it, now it's time to
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
देख भाई, ये जिंदगी भी एक न एक दिन हमारा इम्तिहान लेती है ,
देख भाई, ये जिंदगी भी एक न एक दिन हमारा इम्तिहान लेती है ,
Dr. Man Mohan Krishna
शिव स्वर्ग, शिव मोक्ष,
शिव स्वर्ग, शिव मोक्ष,
Atul "Krishn"
मुस्कान
मुस्कान
Surya Barman
3295.*पूर्णिका*
3295.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"चिन्ता का चक्र"
Dr. Kishan tandon kranti
यह ज़िंदगी
यह ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
..
..
*प्रणय प्रभात*
Know your place in people's lives and act accordingly.
Know your place in people's lives and act accordingly.
पूर्वार्थ
कितने छेड़े और  कितने सताए  गए है हम
कितने छेड़े और कितने सताए गए है हम
Yogini kajol Pathak
सुकून ए दिल का वह मंज़र नहीं होने देते। जिसकी ख्वाहिश है, मयस्सर नहीं होने देते।।
सुकून ए दिल का वह मंज़र नहीं होने देते। जिसकी ख्वाहिश है, मयस्सर नहीं होने देते।।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
एक सच
एक सच
Neeraj Agarwal
🥀✍*अज्ञानी की*🥀
🥀✍*अज्ञानी की*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
" आज भी है "
Aarti sirsat
स्थितिप्रज्ञ चिंतन
स्थितिप्रज्ञ चिंतन
Shyam Sundar Subramanian
Loading...