Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Sep 2022 · 1 min read

✍️कुछ तो वजह हो…

कोई तो एक मुस्कुराहट की वजह पास हो..
अर्सा हो गया अपने हँसते चेहरे से मिले हुए

कोई तो तन्हा जिंदगी का हमसफ़र साथ हो..
मुद्दते गुजरी है भीड़ के उन रास्तो से चले हुए
……………………………………………………………//
©✍️’अशांत’ शेखर
21/09/2022

Language: Hindi
4 Likes · 6 Comments · 290 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जो चीजे शांत होती हैं
जो चीजे शांत होती हैं
ruby kumari
जिस तरह मनुष्य केवल आम के फल से संतुष्ट नहीं होता, टहनियां भ
जिस तरह मनुष्य केवल आम के फल से संतुष्ट नहीं होता, टहनियां भ
Sanjay ' शून्य'
कद्र जिनकी अब नहीं वो भी हीरा थे कभी
कद्र जिनकी अब नहीं वो भी हीरा थे कभी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
I love you
I love you
Otteri Selvakumar
मीठी जलेबी
मीठी जलेबी
rekha mohan
पुश्तैनी मकान.....
पुश्तैनी मकान.....
Awadhesh Kumar Singh
2305.पूर्णिका
2305.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रिश्तों को तू तोल मत,
रिश्तों को तू तोल मत,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जग अंधियारा मिट रहा, उम्मीदों के संग l
जग अंधियारा मिट रहा, उम्मीदों के संग l
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
भगवान महाबीर
भगवान महाबीर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मौन
मौन
Shyam Sundar Subramanian
** हद हो गई  तेरे इंकार की **
** हद हो गई तेरे इंकार की **
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
आयी ऋतु बसंत की
आयी ऋतु बसंत की
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
समस्या है यह आएगी_
समस्या है यह आएगी_
Rajesh vyas
जिंदा है हम
जिंदा है हम
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
"चैन से इस दौर में बस वो जिए।
*Author प्रणय प्रभात*
💐प्रेम कौतुक-280💐
💐प्रेम कौतुक-280💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पूरनमासी चंद्रमा , फागुन का शुभ मास [कुंडलिया]*
पूरनमासी चंद्रमा , फागुन का शुभ मास [कुंडलिया]*
Ravi Prakash
खुदकुशी नहीं, इंकलाब करो
खुदकुशी नहीं, इंकलाब करो
Shekhar Chandra Mitra
धार तुम देते रहो
धार तुम देते रहो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मैं
मैं
Vivek saswat Shukla
वो झील-सी हैं, तो चट्टान-सा हूँ मैं
वो झील-सी हैं, तो चट्टान-सा हूँ मैं
The_dk_poetry
कमियाबी क्या है
कमियाबी क्या है
पूर्वार्थ
कब तक बचोगी तुम
कब तक बचोगी तुम
Basant Bhagawan Roy
एक औरत रेशमी लिबास और गहनों में इतनी सुंदर नहीं दिखती जितनी
एक औरत रेशमी लिबास और गहनों में इतनी सुंदर नहीं दिखती जितनी
Annu Gurjar
यह जो तुम बांधती हो पैरों में अपने काला धागा ,
यह जो तुम बांधती हो पैरों में अपने काला धागा ,
श्याम सिंह बिष्ट
आज की प्रस्तुति: भाग 7
आज की प्रस्तुति: भाग 7
Rajeev Dutta
माँ को फिक्र बेटे की,
माँ को फिक्र बेटे की,
Harminder Kaur
हरी भरी थी जो शाखें दरख्त की
हरी भरी थी जो शाखें दरख्त की
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
आंखों को मल गए
आंखों को मल गए
Dr fauzia Naseem shad
Loading...