Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Sep 2022 · 1 min read

✍️कमाल था…

मेरा ऊंचाई को छूना भी तो बड़ा ही कमाल था..!
आसमाँ का ख़्वाब किसका यहाँ मुक्कमल था..?
…………………………………………………………………//
©✍️’अशांत’ शेखर
25/09/2022

Language: Hindi
3 Likes · 5 Comments · 397 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यही है हमारी मनोकामना माँ
यही है हमारी मनोकामना माँ
Dr Archana Gupta
कलानिधि
कलानिधि
Raju Gajbhiye
तेरे संग बिताया हर मौसम याद है मुझे
तेरे संग बिताया हर मौसम याद है मुझे
Amulyaa Ratan
ख्वाबों के रेल में
ख्वाबों के रेल में
Ritu Verma
दाम रिश्तों के
दाम रिश्तों के
Dr fauzia Naseem shad
नवंबर की ये ठंडी ठिठरती हुई रातें
नवंबर की ये ठंडी ठिठरती हुई रातें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जिसके पास ज्ञान है,
जिसके पास ज्ञान है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
उफ़  ये लम्हा चाय का ख्यालों में तुम हो सामने
उफ़ ये लम्हा चाय का ख्यालों में तुम हो सामने
Jyoti Shrivastava(ज्योटी श्रीवास्तव)
नहीं देखा....🖤
नहीं देखा....🖤
Srishty Bansal
तन्हाई को तोड़ कर,
तन्हाई को तोड़ कर,
sushil sarna
2775. *पूर्णिका*
2775. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुमको कुछ दे नहीं सकूँगी
तुमको कुछ दे नहीं सकूँगी
Shweta Soni
!! मन रखिये !!
!! मन रखिये !!
Chunnu Lal Gupta
सुबह की नींद सबको प्यारी होती है।
सुबह की नींद सबको प्यारी होती है।
Yogendra Chaturwedi
स्वतंत्र नारी
स्वतंत्र नारी
Manju Singh
मेघ, वर्षा और हरियाली
मेघ, वर्षा और हरियाली
Ritu Asooja
समझ
समझ
Dinesh Kumar Gangwar
जिसनें जैसा चाहा वैसा अफसाना बना दिया
जिसनें जैसा चाहा वैसा अफसाना बना दिया
Sonu sugandh
"बेटी"
Dr. Kishan tandon kranti
संस्कार
संस्कार
Rituraj shivem verma
*मेरे सरकार आते हैं (सात शेर)*
*मेरे सरकार आते हैं (सात शेर)*
Ravi Prakash
वक्त यदि गुजर जाए तो 🧭
वक्त यदि गुजर जाए तो 🧭
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
#चुनावी_दंगल
#चुनावी_दंगल
*प्रणय प्रभात*
हम गांव वाले है जनाब...
हम गांव वाले है जनाब...
AMRESH KUMAR VERMA
आंगन को तरसता एक घर ....
आंगन को तरसता एक घर ....
ओनिका सेतिया 'अनु '
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं (हास्य व्यंग)
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
एक पल में जिंदगी तू क्या से क्या बना दिया।
एक पल में जिंदगी तू क्या से क्या बना दिया।
Phool gufran
रखो अपेक्षा ये सदा,  लक्ष्य पूर्ण हो जाय
रखो अपेक्षा ये सदा, लक्ष्य पूर्ण हो जाय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिछले पन्ने 9
पिछले पन्ने 9
Paras Nath Jha
वक्त का सिलसिला बना परिंदा
वक्त का सिलसिला बना परिंदा
Ravi Shukla
Loading...