Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Sep 2022 · 1 min read

✍️आस टूट जाती है

जो चाहो वो पाओ ऐसा यहाँ होता नहीं…
पाने की चाह में अक्सर उम्र कट जाती है

नींद कितने भी सुनहरे ख़्वाब दिखा लें…
सुबह जागते ही उसकी आस टूट जाती है
…………………………………………………………//
©✍️’अशांत’ शेखर
23/09/2022

Language: Hindi
3 Likes · 6 Comments · 196 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
* एक कटोरी में पानी ले ,चिड़ियों को पिलवाओ जी【हिंदी गजल/गीतिक
* एक कटोरी में पानी ले ,चिड़ियों को पिलवाओ जी【हिंदी गजल/गीतिक
Ravi Prakash
कुछ लड़कों का दिल, सच में टूट जाता हैं!
कुछ लड़कों का दिल, सच में टूट जाता हैं!
The_dk_poetry
हे कहाँ मुश्किलें खुद की
हे कहाँ मुश्किलें खुद की
Swami Ganganiya
💐प्रेम कौतुक-239💐
💐प्रेम कौतुक-239💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
परख: जिस चेहरे पर मुस्कान है, सच्चा वही इंसान है!
परख: जिस चेहरे पर मुस्कान है, सच्चा वही इंसान है!
Rohit Gupta
मीठा शहद बनाने वाली मधुमक्खी भी डंक मार सकती है इसीलिए होशिय
मीठा शहद बनाने वाली मधुमक्खी भी डंक मार सकती है इसीलिए होशिय
तरुण सिंह पवार
संग रहूँ हरपल सदा,
संग रहूँ हरपल सदा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Writing Challenge- दरवाजा (Door)
Writing Challenge- दरवाजा (Door)
Sahityapedia
हुकुम की नई हिदायत है
हुकुम की नई हिदायत है
Ajay Mishra
गंवई गांव के गोठ
गंवई गांव के गोठ
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मैं खंडहर हो गया पर तुम ना मेरी याद से निकले
मैं खंडहर हो गया पर तुम ना मेरी याद से निकले
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
■ चुनावी साल, चाहे नई चाल
■ चुनावी साल, चाहे नई चाल
*Author प्रणय प्रभात*
राजे तुम्ही पुन्हा जन्माला आलाच नाही
राजे तुम्ही पुन्हा जन्माला आलाच नाही
Shinde Poonam
सेना का एक सिपाही हूँ
सेना का एक सिपाही हूँ
Satish Srijan
विद्या-मन्दिर अब बाजार हो गया!
विद्या-मन्दिर अब बाजार हो गया!
Bodhisatva kastooriya
फेसबुक की बनिया–बुद्धि / मुसाफ़िर बैठा
फेसबुक की बनिया–बुद्धि / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
किस्मत की लकीरों पे यूं भरोसा ना कर
किस्मत की लकीरों पे यूं भरोसा ना कर
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
आधुनिक समय में धर्म के आधार लेकर
आधुनिक समय में धर्म के आधार लेकर
पूर्वार्थ
ऐ मेरे हुस्न के सरकार जुदा मत होना
ऐ मेरे हुस्न के सरकार जुदा मत होना
प्रीतम श्रावस्तवी
शक्ति शील सौंदर्य से, मन हरते श्री राम।
शक्ति शील सौंदर्य से, मन हरते श्री राम।
आर.एस. 'प्रीतम'
তুমি সমুদ্রের তীর
তুমি সমুদ্রের তীর
Sakhawat Jisan
एक छोरी काळती हमेशा जीव बाळती,
एक छोरी काळती हमेशा जीव बाळती,
प्रेमदास वसु सुरेखा
न तोड़ दिल ये हमारा सहा न जाएगा
न तोड़ दिल ये हमारा सहा न जाएगा
Dr Archana Gupta
समझा दिया
समझा दिया
sushil sarna
सपना वाली लड़की
सपना वाली लड़की
Shekhar Chandra Mitra
निगल रही
निगल रही
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हिंदी
हिंदी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
असली हीरो
असली हीरो
Soni Gupta
वंदना
वंदना
Rashmi Sanjay
पड़ जाओ तुम इश्क में
पड़ जाओ तुम इश्क में
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...