Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2023 · 1 min read

■ सरस्वती वंदना (छंद शैली)

#छंद_शैली_में
■ श्री सरस्वती वंदना
【प्रणय प्रभात】
वीणापाणी, पद्मासना, कमलासना, ब्रह्म-अजा,
माँ तू मुझे विद्या औ विनय का शुभ दान दे।
कण्ठ में विराज मेरी क़लम को सिद्धि सौंप,
मेरी इस लेखनी को गति अविराम दे।।

सत्य लिखूँ, सत्यवादिता के पथ पे ही चलूँ,
मेरी स्वर शक्ति को तू सरगमों का ज्ञान दे।
दीप मन-मंदिर में ज्ञान का जला दे मातु,
नित्य नव-सृजन करूँ ये वरदान दे।।

यश नहीं, रूप नहीं तेरी भक्ति चाहता हूँ,
भक्ति-गंगा, ज्ञान-गंगा का ही स्नान दे।
करता नमन तुझे शत-शत शारदा मैं,
मुझे ऐश्वर्य नहीं आन बान शान दे।।

शब्द चुन छंद रचूँ, छंद चुन गीत रचूँ,
गीतों में बहाव माँ तू भावों को वितान दे।
उड़े पंख तान ताकि छुए आसमान,
मेरे मन के मराल को विचारों की उड़ान दे।।
💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐

1 Like · 654 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ आज की प्रेरणा
■ आज की प्रेरणा
*Author प्रणय प्रभात*
मत छेड़ हमें देशभक्ति में हम डूबे है।
मत छेड़ हमें देशभक्ति में हम डूबे है।
Rj Anand Prajapati
मतदान
मतदान
साहिल
रिश्ते
रिश्ते
Mamta Rani
हम जियें  या मरें  तुम्हें क्या फर्क है
हम जियें या मरें तुम्हें क्या फर्क है
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
आज पलटे जो ख़्बाब के पन्ने - संदीप ठाकुर
आज पलटे जो ख़्बाब के पन्ने - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
सत्य दृष्टि (कविता)
सत्य दृष्टि (कविता)
Dr. Narendra Valmiki
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Satya Prakash Sharma
मेरा दुश्मन
मेरा दुश्मन
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
काम दो इन्हें
काम दो इन्हें
Shekhar Chandra Mitra
टॉम एंड जेरी
टॉम एंड जेरी
Vedha Singh
बिन बोले सुन पाता कौन?
बिन बोले सुन पाता कौन?
AJAY AMITABH SUMAN
डोमिन ।
डोमिन ।
Acharya Rama Nand Mandal
कजरी लोक गीत
कजरी लोक गीत
लक्ष्मी सिंह
दिल
दिल
Neeraj Agarwal
रिश्ते
रिश्ते
Ram Krishan Rastogi
कैसे भुला दूँ उस भूलने वाले को मैं,
कैसे भुला दूँ उस भूलने वाले को मैं,
Vishal babu (vishu)
तुझे स्पर्श न कर पाई
तुझे स्पर्श न कर पाई
Dr fauzia Naseem shad
*”ममता”* पार्ट-1
*”ममता”* पार्ट-1
Radhakishan R. Mundhra
बैर भाव के ताप में,जलते जो भी लोग।
बैर भाव के ताप में,जलते जो भी लोग।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
अपने  में वो मस्त हैं ,दूसरों की परवाह नहीं ,मित्रता में रहक
अपने में वो मस्त हैं ,दूसरों की परवाह नहीं ,मित्रता में रहक
DrLakshman Jha Parimal
*सुबह टहलना (बाल कविता)*
*सुबह टहलना (बाल कविता)*
Ravi Prakash
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ओ मेरे गणपति महेश
ओ मेरे गणपति महेश
Swami Ganganiya
वास्ते हक के लिए था फैसला शब्बीर का(सलाम इमाम हुसैन (A.S.)की शान में)
वास्ते हक के लिए था फैसला शब्बीर का(सलाम इमाम हुसैन (A.S.)की शान में)
shabina. Naaz
2543.पूर्णिका
2543.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
‘ विरोधरस ‘---10. || विरोधरस के सात्विक अनुभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---10. || विरोधरस के सात्विक अनुभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
धूमिल होती यादों का, आज भी इक ठिकाना है।
धूमिल होती यादों का, आज भी इक ठिकाना है।
Manisha Manjari
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दर्शन की ललक
दर्शन की ललक
Neelam Sharma
Loading...