Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2023 · 3 min read

■ व्यंग्य / आया वेलेंटाइन डे

■ गुलाब से जुलाव तक : पागलपन का पखवाड़ा
★ चोरी-चोरी चुपके-चुपके हुई तैयारियां
★ बेताब : इधर “बाज़ीगत” उधर “सिमरनें”
【प्रणय प्रभात】
तरुण प्रौढ़ों और अधेड़ युवाओं सहित नौसिखियों के दिल की दहलीज़ पर दस्तक देने आ पहुंचा है, एक पखवाड़े का पश्चिमी पर्व। जो बीते दो दशक में सारे पर्व-त्यौहारों को पीछे छोड़ अपसंस्कृति और अश्लीलता के महापर्व का ख़िताब हासिल कर चुका है। एक पखवाड़े के पागलपन के प्रतीक इस पर्व का आग़ाज़ 07 फरवरी को होगा, जो 21 तारीख़ को पिंड छोड़ेगा। आशनाई के आमंत्रण गुलाब दिवस से शुरू हो कर बेवफ़ाई के जुलाब सम्बन्ध विच्छेद (ब्रेकअप) दिवस तक चलने वाले इस पथभ्रष्टक पर्व की आमद को लेकर दो मोर्चो पर तैयारियों का दौर ज़ोर-शोर से शुरू होकर पूर्णता तक आ पहुंचा है।
एक तरफ आशिक़ी के झाड़ लोकतांत्रिक सरकार की तरह उदार हो कर घाटे का बज़ट तैयार कर चुके हैं। वहीं दूसरी ओर धर्म-संस्कृति के नाम पर हफ़्ते दो हफ़्ते के हुड़दंगी विपक्ष की भूमिका अदा कर अदावत निकालने को मरे जा रहे हैं। जिन्हें अपने घर की सुलगती चिंगारी से ज़्यादा चिंता दूसरे के घर के अंगारों की है। मतलब एक कोने में “चोरी-चोरी चुपके-चुपके” की शूटिंग चलेगी, वहीं दूसरे कोने में “जिस देश मे गंगा रहता है” का ड्रामा होगा। नज़ारे बिल्कुल सत्ता के सदन या एमसीडी जैसे होंगे। अख़बार और टीव्ही। वालों को मुफ़्त का मसाला मिलेगा। जेबी संगठनों के सूरमाओं को जलवा पेलने का मौक़ा और त्यौहारी मस्ती के दीवानों को “बाबा जी का ठुल्लू” जो हर “हुड़कचुल्लू” का नसीब है।
महापर्व का पहला चरण “आठ का ठाठ” टाइप होगा। आठ दिन के पहले दिन “गुलफ़ाम” गुलाब थमा कर उंगली थामने की प्रैक्टिस करेंगे। ताकि उंगली के बाद पोंचे तक पहुंचने की राह आसान हो। अगले दिन रोज़ थमाने का पर्पज़ प्रपोज़ यानि “इज़हारे-इश्क़” के तौर पर सामने आएगा। तीसरे दिन नक़ली प्यार की पींग में हींग का तड़का लगाने का काम “चॉकलेट” करेगी। चौथे दिन मंशा के रथ को विदेशी भालू उर्फ़ पांडा (टेडी-बियर) आगे बढ़ाएगा। जिसका साइज़ चॉकलेट की तरह देने वाले की हैसियत से अधिक लेने वाले की औक़ात पर निर्भर करेगा।
पांचवें दिन प्रॉमिस के नाम पर मिस के सामने क़सम खाई जाएगी जो हंड्रेड परसेंट झूठी मतलब “टांय टांय फिस” टाइप होगी। मानला जम गया तो अगले दिन “किस” के जरिये किस्मत का दरवाज़ा खुल जाएगा। बिल्कुल “जुम्मा चुम्मा दे दे” वाली स्टाइल में। चुम्बन दिवस के इस “चुम्बकत्व” का प्रभाव अगले दिन “चाँद” को “बाहु” में जकड़न की “राहु” जैसी सोच को बल प्रदान कर देगा। सात दिन की इस खर्चीली कसरत की कसर आठवें दिन कथित संत वेलेंटाइन की रूह को ठंडक देने का काम करेगी। बशर्ते दोनों तरफ हो आग बराबर लगी हुई। जो इस त्यौहार का मूल उद्देश्य है। वो भी बिना गड़बड़, पूरी होशियारी के साथ। वरना हाथ पीले हों न हों, मुंह काला होने की फुल गारंटी। ध्यान रहे कि लिब्रेशन के नाम पर 14 फरवरी के सेलिब्रेशन के ठीक 9 महीने बाद “बाल (बच्चा) दिवस” कहीं आए न आए, हमारे देश मे ज़रूर आता है। वो भी बिन बुलाए मेहमान की तरह।
यूं तो 90 फ़ीसदी नौटंकी पहले दौर में पूरी होने का विधान है। बावजूद इसके कुछ दीवाने अगले दौर से भी गुज़रने को तैयार रहते हैं ताकि अमर्यादा और अनैतिकता के ललित नहीं चलित और फलित निबंध का उपसंहार हो। पहले दौर में मनचाहा पूरा होते ही दूसरे दौर का अंदाज़ पाश्चात्य सभ्यता के अनुसार बदल जाता है। निर्णायक दौर की शुरुआत पहले दिन झापड़ (स्लैब) से होती है। दूसरे दिन मामला लात (किक) पर पहुंच जाता है। रिटर्न गिफ़्ट के तौर पर तमाचा और लात झेल जाने वाले को अगले दिन परफ्यूम दे कर फ़्लर्ट (धोखा) करने का मौक़ा नसीब होता है। जिसे मुराद पूरी कर लेने के बाद अगले दिन कंफेशन यानि गुनाह क़ुबूल करने की मोहलत मुहैया हो जाती है। इसके बाद बीते दिनों की याद और बेशर्म मुहब्बत ज़िंदाबाद। अंतिम दिन ब्रेकअप के साथ टेम्परेरी इश्क़ का पैकअप और जुनून ख़त्म। यह हाल है पश्चिम के प्यार का। मतलब प्यार ने ही लूट लिया घर यार का। अब मर्ज़ी आपकी। लुटो या लूटो। छोड़ो या छूटो। या फिर लपेटे में आ कर कुट-पिट जाओ तो घर बैठ कर छाती कूटो। वो भी जेब या नाक कटाने के बाद। अगले बरस तक के लिए…।।

■ प्रणय प्रभात ■
【संपादक- न्यूज़ & व्यूज़】
श्योपुर (मध्यप्रदेश)

1 Like · 2 Comments · 210 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"हृदय में कुछ ऐसे अप्रकाशित गम भी रखिए वक़्त-बेवक्त जिन्हें आ
गुमनाम 'बाबा'
शब्दों का झंझावत🙏
शब्दों का झंझावत🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जीवन चलती साइकिल, बने तभी बैलेंस
जीवन चलती साइकिल, बने तभी बैलेंस
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
माता - पिता
माता - पिता
Umender kumar
बेटी है हम हमें भी शान से जीने दो
बेटी है हम हमें भी शान से जीने दो
SHAMA PARVEEN
समन्दर से भी गहरी
समन्दर से भी गहरी
हिमांशु Kulshrestha
लिखना पूर्ण विकास नहीं है बल्कि आप के बारे में दूसरे द्वारा
लिखना पूर्ण विकास नहीं है बल्कि आप के बारे में दूसरे द्वारा
Rj Anand Prajapati
🍁🌹🖤🌹🍁
🍁🌹🖤🌹🍁
शेखर सिंह
शादीशुदा🤵👇
शादीशुदा🤵👇
डॉ० रोहित कौशिक
"तेरी याद"
Pushpraj Anant
हम कहाँ से कहाँ आ गए हैं। पहले के समय में आयु में बड़ों का स
हम कहाँ से कहाँ आ गए हैं। पहले के समय में आयु में बड़ों का स
ख़ान इशरत परवेज़
उम्मीद कभी तू ऐसी मत करना
उम्मीद कभी तू ऐसी मत करना
gurudeenverma198
लोकतंत्र का महापर्व
लोकतंत्र का महापर्व
इंजी. संजय श्रीवास्तव
हर गम दिल में समा गया है।
हर गम दिल में समा गया है।
Taj Mohammad
//?
//?
*प्रणय प्रभात*
हंस के 2019 वर्ष-अंत में आए दलित विशेषांकों का एक मुआयना / musafir baitha
हंस के 2019 वर्ष-अंत में आए दलित विशेषांकों का एक मुआयना / musafir baitha
Dr MusafiR BaithA
नानी का गांव
नानी का गांव
साहित्य गौरव
3158.*पूर्णिका*
3158.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मंत्र: पिडजप्रवरारूढा, चंडकोपास्त्रकैर्युता।
मंत्र: पिडजप्रवरारूढा, चंडकोपास्त्रकैर्युता।
Harminder Kaur
"सुपारी"
Dr. Kishan tandon kranti
"चाहत " ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*खुशी लेकर चली आए, सभी के द्वार दीवाली (हिंदी गजल)*
*खुशी लेकर चली आए, सभी के द्वार दीवाली (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
!! मेरी विवशता !!
!! मेरी विवशता !!
Akash Yadav
ਰਿਸ਼ਤਿਆਂ ਦੀਆਂ ਤਿਜਾਰਤਾਂ
ਰਿਸ਼ਤਿਆਂ ਦੀਆਂ ਤਿਜਾਰਤਾਂ
Surinder blackpen
सजाता हूँ मिटाता हूँ टशन सपने सदा देखूँ
सजाता हूँ मिटाता हूँ टशन सपने सदा देखूँ
आर.एस. 'प्रीतम'
घर
घर
Dheerja Sharma
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Sushil Pandey
🚩साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे।
🚩साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कहीं वैराग का नशा है, तो कहीं मन को मिलती सजा है,
कहीं वैराग का नशा है, तो कहीं मन को मिलती सजा है,
Manisha Manjari
भीमराव अम्बेडकर
भीमराव अम्बेडकर
Mamta Rani
Loading...