Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Dec 2022 · 1 min read

■ पैग़ाम

■ रास्ते और भी हैं। तुम्हारे लिए भी, हमारे लिए भी। फिर अहम का वहम क्यों?
#प्रणय_प्रभात

Language: Hindi
1 Like · 91 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
के कितना बिगड़ गए हो तुम
के कितना बिगड़ गए हो तुम
Akash Yadav
I am a little boy
I am a little boy
Rajan Sharma
खुश है हम आज क्यों
खुश है हम आज क्यों
gurudeenverma198
अब किसी की याद नहीं आती
अब किसी की याद नहीं आती
Harminder Kaur
ऋतु सुषमा बसंत
ऋतु सुषमा बसंत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पार्वती
पार्वती
लक्ष्मी सिंह
बसंत
बसंत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
*दहेज*
*दहेज*
Rituraj shivem verma
मोहब्बत शायरी
मोहब्बत शायरी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
नियम
नियम
Ajay Mishra
चिरकाल तक लहराता अपना तिरंगा रहे
चिरकाल तक लहराता अपना तिरंगा रहे
Suryakant Angara Kavi official
हाँ मैन मुर्ख हु
हाँ मैन मुर्ख हु
भरत कुमार सोलंकी
आज के युग में नारीवाद
आज के युग में नारीवाद
Surinder blackpen
बेहतरीन इंसान वो है
बेहतरीन इंसान वो है
शेखर सिंह
क़लम, आंसू, और मेरी रुह
क़लम, आंसू, और मेरी रुह
The_dk_poetry
it is not about having a bunch of friends
it is not about having a bunch of friends
पूर्वार्थ
जब कोई आदमी कमजोर पड़ जाता है
जब कोई आदमी कमजोर पड़ जाता है
Paras Nath Jha
पास आएगा कभी
पास आएगा कभी
surenderpal vaidya
मत गुजरा करो शहर की पगडंडियों से बेखौफ
मत गुजरा करो शहर की पगडंडियों से बेखौफ
Damini Narayan Singh
#एक_विचार
#एक_विचार
*Author प्रणय प्रभात*
💐अज्ञात के प्रति-132💐
💐अज्ञात के प्रति-132💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
फितरत
फितरत
Dr fauzia Naseem shad
परमेश्वर दूत पैगम्बर💐🙏
परमेश्वर दूत पैगम्बर💐🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हवा चली है ज़ोर-ज़ोर से
हवा चली है ज़ोर-ज़ोर से
Vedha Singh
अहंकार का एटम
अहंकार का एटम
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
कैसे लिखूं
कैसे लिखूं
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कसीदे नित नए गढ़ते सियासी लोग देखो तो ।
कसीदे नित नए गढ़ते सियासी लोग देखो तो ।
Arvind trivedi
प्यार के
प्यार के
हिमांशु Kulshrestha
*गर्मी की छुट्टी 【बाल कविता】*
*गर्मी की छुट्टी 【बाल कविता】*
Ravi Prakash
Loading...