Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2023 · 1 min read

■ ज्यादा कौन लिखे?

■ दो मिसालें बहुत…
“कभी अमृत समझ विष को सहज स्वीकार करता है।
कभी कच्चा घड़ा लेकर नदी को पार करता है।।
जिसे हम प्रेम कहते हैं दिखावों में नहीं पलता।
वो अक़्सर कल्पना में रूप का श्रृंगार करता है।।”
पावन प्रेम के नाम पर अपावन वासना की उपासना करने वाली एक पूरी नस्ल के लिए बस दो मिसालें ही बहुत हैं। जिन्हें समझना होगा दो उदाहरणों से समझ जाएंगे। जिन्हें नहीं समझना उन्हें समझाने का कोई अर्थ नहीं। उन्हें समझाने का ठेका समय और हालात के पाश है।।
【प्रणय प्रभात】

1 Like · 200 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
** राम बनऽला में एतना तऽ..**
** राम बनऽला में एतना तऽ..**
Chunnu Lal Gupta
पराठों का स्वर्णिम इतिहास
पराठों का स्वर्णिम इतिहास
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
जमाने से क्या शिकवा करें बदलने का,
जमाने से क्या शिकवा करें बदलने का,
Umender kumar
*कहर  है हीरा*
*कहर है हीरा*
Kshma Urmila
हादसों का बस
हादसों का बस
Dr fauzia Naseem shad
🌹 *गुरु चरणों की धूल* 🌹
🌹 *गुरु चरणों की धूल* 🌹
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
सुकरात के शागिर्द
सुकरात के शागिर्द
Shekhar Chandra Mitra
वक्त का घुमाव तो
वक्त का घुमाव तो
Mahesh Tiwari 'Ayan'
बचपन से जिनकी आवाज सुनकर बड़े हुए
बचपन से जिनकी आवाज सुनकर बड़े हुए
ओनिका सेतिया 'अनु '
2660.*पूर्णिका*
2660.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"ढाई अक्षर प्रेम के"
Ekta chitrangini
सफल हुए
सफल हुए
Koमल कुmari
*तू बन जाए गर हमसफऱ*
*तू बन जाए गर हमसफऱ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
* कुछ पता चलता नहीं *
* कुछ पता चलता नहीं *
surenderpal vaidya
‌एक सच्ची बात जो हर कोई जनता है लेकिन........
‌एक सच्ची बात जो हर कोई जनता है लेकिन........
Rituraj shivem verma
शिव
शिव
Dr. Vaishali Verma
#आज_का_मुक्तक
#आज_का_मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
बँटवारे का दर्द
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
जाने क्या-क्या कह गई, उनकी झुकी निग़ाह।
जाने क्या-क्या कह गई, उनकी झुकी निग़ाह।
sushil sarna
*नशा करोगे राम-नाम का, भवसागर तर जाओगे (हिंदी गजल)*
*नशा करोगे राम-नाम का, भवसागर तर जाओगे (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
"खुदा याद आया"
Dr. Kishan tandon kranti
किसकी किसकी कैसी फितरत
किसकी किसकी कैसी फितरत
Mukesh Kumar Sonkar
Readers Books Club:
Readers Books Club:
पूर्वार्थ
सहन करो या दफन करो
सहन करो या दफन करो
goutam shaw
गुजरते लम्हों से कुछ पल तुम्हारे लिए चुरा लिए हमने,
गुजरते लम्हों से कुछ पल तुम्हारे लिए चुरा लिए हमने,
Hanuman Ramawat
मोहब्बत
मोहब्बत
AVINASH (Avi...) MEHRA
दुख के दो अर्थ हो सकते हैं
दुख के दो अर्थ हो सकते हैं
Harminder Kaur
कारोबार
कारोबार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
अबकी बार निपटा दो,
अबकी बार निपटा दो,
शेखर सिंह
सितम फिरदौस ना जानो
सितम फिरदौस ना जानो
प्रेमदास वसु सुरेखा
Loading...