Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Dec 2022 · 1 min read

■ ग़ज़ल / ख़ाली निकला…

■ ग़ज़ल / ख़ाली निकला…
【प्रणय प्रभात】
– अहसासों से ख़ाली निकला।
हर आँसू घड़ियाली निकला।।
– भरा-भराया सा दिखता था।
वो बादल जो ख़ाली निकला।।
– क़त्ल हुआ मासूम कली का।
हत्यारा ख़ुद माली निकला।।
– एक शब्द कल संबोधन था।
ग़ौर किया तो गाली निकला।।
– हाथ पसारा जिस के आगे।
वो ख़ुद एक सवाली निकला।।
– ये भी अपना वो भी अपना।
सारा खेल ख़याली निकला।।
– आया जाँच ठगी की करने।
वो अफ़सर ख़ुद जाली निकला।।
😊😊😊😊😊😊😊😊😊

1 Like · 98 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पिता
पिता
Manu Vashistha
परिस्थितियॉं बदल गईं ( लघु कथा)
परिस्थितियॉं बदल गईं ( लघु कथा)
Ravi Prakash
यादगार बनाएं
यादगार बनाएं
Dr fauzia Naseem shad
​चाय के प्याले के साथ - तुम्हारे आने के इंतज़ार का होता है सिलसिला शुरू
​चाय के प्याले के साथ - तुम्हारे आने के इंतज़ार का होता है सिलसिला शुरू
Atul "Krishn"
"फुटपाथ"
Dr. Kishan tandon kranti
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
Yogini kajol Pathak
My love at first sight !!
My love at first sight !!
Rachana
रिश्ते बचाएं
रिश्ते बचाएं
Sonam Puneet Dubey
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
World Book Day
World Book Day
Tushar Jagawat
24--- 🌸 कोहरे में चाँद 🌸
24--- 🌸 कोहरे में चाँद 🌸
Mahima shukla
राशिफल
राशिफल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
उसकी बेहिसाब नेमतों का कोई हिसाब नहीं
उसकी बेहिसाब नेमतों का कोई हिसाब नहीं
shabina. Naaz
मातृभूमि तुझ्रे प्रणाम
मातृभूमि तुझ्रे प्रणाम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आलाप
आलाप
Punam Pande
हिकारत जिल्लत
हिकारत जिल्लत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बाल कविता: मछली
बाल कविता: मछली
Rajesh Kumar Arjun
"व्यर्थ सलाह "
Yogendra Chaturwedi
बूढ़ी मां
बूढ़ी मां
Sûrëkhâ
नवतपा की लव स्टोरी (व्यंग्य)
नवतपा की लव स्टोरी (व्यंग्य)
Santosh kumar Miri
*****देव प्रबोधिनी*****
*****देव प्रबोधिनी*****
Kavita Chouhan
3146.*पूर्णिका*
3146.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■ छोटी दीवाली
■ छोटी दीवाली
*प्रणय प्रभात*
काश.......
काश.......
Faiza Tasleem
बुढ़िया काकी बन गई है स्टार
बुढ़िया काकी बन गई है स्टार
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
कसम खाकर मैं कहता हूँ कि उस दिन मर ही जाता हूँ
कसम खाकर मैं कहता हूँ कि उस दिन मर ही जाता हूँ
Johnny Ahmed 'क़ैस'
अपनी कद्र
अपनी कद्र
Paras Nath Jha
*बोल*
*बोल*
Dushyant Kumar
ए कुदरत के बंदे ,तू जितना तन को सुंदर रखे।
ए कुदरत के बंदे ,तू जितना तन को सुंदर रखे।
Shutisha Rajput
नव्य द्वीप का रहने वाला
नव्य द्वीप का रहने वाला
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
Loading...