Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2023 · 1 min read

■ आज का दोहा…

#दोहा
■ मातृशक्ति के सम्मान में….
【प्रणय प्रभात】
“शक्ति, शिवा, नारायणी
तुझमें सब के अंश।
सृष्टि नहीं तेरे बिना,
तुझ बिन कोई न वंश।।
नारायणी नमोस्तुते।।

#अंतरराष्ट्रीय_महिला_दिवस_पर_विशेष

1 Like · 373 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कितने ही गठबंधन बनाओ
कितने ही गठबंधन बनाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*वर्ष दो हजार इक्कीस (छोटी कहानी))*
*वर्ष दो हजार इक्कीस (छोटी कहानी))*
Ravi Prakash
भारत के राम
भारत के राम
करन ''केसरा''
@@ पंजाब मेरा @@
@@ पंजाब मेरा @@
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
राम से जी जोड़ दे
राम से जी जोड़ दे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
🚩अमर कोंच-इतिहास
🚩अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
खुद का वजूद मिटाना पड़ता है
खुद का वजूद मिटाना पड़ता है
कवि दीपक बवेजा
वासना है तुम्हारी नजर ही में तो मैं क्या क्या ढकूं,
वासना है तुम्हारी नजर ही में तो मैं क्या क्या ढकूं,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
ये मन रंगीन से बिल्कुल सफेद हो गया।
ये मन रंगीन से बिल्कुल सफेद हो गया।
Dr. ADITYA BHARTI
मुक्तक...छंद-रूपमाला/मदन
मुक्तक...छंद-रूपमाला/मदन
डॉ.सीमा अग्रवाल
जिक्र क्या जुबा पर नाम नही
जिक्र क्या जुबा पर नाम नही
पूर्वार्थ
"चांदनी के प्रेम में"
Dr. Kishan tandon kranti
यूं साया बनके चलते दिनों रात कृष्ण है
यूं साया बनके चलते दिनों रात कृष्ण है
Ajad Mandori
अधिकांश होते हैं गुमराह
अधिकांश होते हैं गुमराह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मैं तो महज चुनौती हूँ
मैं तो महज चुनौती हूँ
VINOD CHAUHAN
फिर से अजनबी बना गए जो तुम
फिर से अजनबी बना गए जो तुम
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
3147.*पूर्णिका*
3147.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कफन
कफन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
यादों का सफ़र...
यादों का सफ़र...
Santosh Soni
मुझे छूकर मौत करीब से गुजरी है...
मुझे छूकर मौत करीब से गुजरी है...
राहुल रायकवार जज़्बाती
रोज़ आकर वो मेरे ख़्वाबों में
रोज़ आकर वो मेरे ख़्वाबों में
Neelam Sharma
ये जो मेरी आँखों में
ये जो मेरी आँखों में
हिमांशु Kulshrestha
चन्द्रयान अभियान
चन्द्रयान अभियान
surenderpal vaidya
@ !!
@ !! "हिम्मत की डोर" !!•••••®:
Prakhar Shukla
नदी किनारे
नदी किनारे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
सुन्दर सलोनी
सुन्दर सलोनी
जय लगन कुमार हैप्पी
ایک سفر مجھ میں رواں ہے کب سے
ایک سفر مجھ میں رواں ہے کب سے
Simmy Hasan
इन तूफानों का डर हमको कुछ भी नहीं
इन तूफानों का डर हमको कुछ भी नहीं
gurudeenverma198
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कितना और सहे नारी ?
कितना और सहे नारी ?
Mukta Rashmi
Loading...