Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Oct 2022 · 1 min read

२४२. पर्व अनोखा

हिन्दी काव्य-रचना संख्या: 242.
शीर्षक: “पर्व अनोखा”
(बुधवार, 28 नवम्बर 2007)
———————————
दीपावली का पूर्व अनोखा,
खुशियों भरा लगे झरोखा |
मंगल गाएं चौक पुराएं,
आया वर्षों बाद ये मौका।।
आओ अनुपम बनाएं मिलके
दीपावली त्यौहार को।
एक नया उपहार दें
समाज को संसार को ।।
ख्वाबों के सागर में दौड़ाएं
सपनों की ये अनुपम नौका ।
मंगल गाएं चौक पुराए
आया वर्षों बाद ये मौका।।
मौसम बना दें
मिलके सुहाना।
कैसा सुन्दर
मिला बहाना।।
जगमग जग में
धरती नभ में
सुन्दर झाँकी – सम् लगे झरोखा |
मंगल गाएँ चौक पुराएं
आया वर्षों बाद ये मौका ।।

-सुनील सैनी “सीना”
राम नगर, रोहतक रोड़, जीन्द (हरियाणा) -१२६१०२.

1 Like · 236 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रेस कांफ्रेंस
प्रेस कांफ्रेंस
Harish Chandra Pande
श्री कृष्ण जन्माष्टमी
श्री कृष्ण जन्माष्टमी
Neeraj Agarwal
झूठी शान
झूठी शान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Legal Quote
Legal Quote
GOVIND UIKEY
कलरव में कोलाहल क्यों है?
कलरव में कोलाहल क्यों है?
Suryakant Dwivedi
2730.*पूर्णिका*
2730.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
किसकी कश्ती किसका किनारा
किसकी कश्ती किसका किनारा
डॉ० रोहित कौशिक
No battles
No battles
Dhriti Mishra
विषय :- रक्त रंजित मानवीयता रस-वीभत्स रस विधा-मधुमालती छंद आधारित गीत मापनी-2212 , 2212
विषय :- रक्त रंजित मानवीयता रस-वीभत्स रस विधा-मधुमालती छंद आधारित गीत मापनी-2212 , 2212
Neelam Sharma
कुंडलिया - गौरैया
कुंडलिया - गौरैया
sushil sarna
मिताइ।
मिताइ।
Acharya Rama Nand Mandal
"दरवाजा"
Dr. Kishan tandon kranti
ये  दुनियाँ है  बाबुल का घर
ये दुनियाँ है बाबुल का घर
Sushmita Singh
*
*"ओ पथिक"*
Shashi kala vyas
जाति आज भी जिंदा है...
जाति आज भी जिंदा है...
आर एस आघात
"You are still here, despite it all. You are still fighting
पूर्वार्थ
जीवन चक्र
जीवन चक्र
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
त्राहि त्राहि
त्राहि त्राहि
Dr.Pratibha Prakash
पंडित मदनमोहन मालवीय
पंडित मदनमोहन मालवीय
नूरफातिमा खातून नूरी
गुरु हो साथ तो मंजिल अधूरा हो नही सकता
गुरु हो साथ तो मंजिल अधूरा हो नही सकता
Diwakar Mahto
मेरी ख़्वाहिश ने
मेरी ख़्वाहिश ने
Dr fauzia Naseem shad
खुद को जानने में और दूसरों को समझने में मेरी खूबसूरत जीवन मे
खुद को जानने में और दूसरों को समझने में मेरी खूबसूरत जीवन मे
Ranjeet kumar patre
■ चाल, चेहरा और चरित्र। लगभग एक सा।।
■ चाल, चेहरा और चरित्र। लगभग एक सा।।
*प्रणय प्रभात*
असली दर्द का एहसास तब होता है जब अपनी हड्डियों में दर्द होता
असली दर्द का एहसास तब होता है जब अपनी हड्डियों में दर्द होता
प्रेमदास वसु सुरेखा
प्रकृति
प्रकृति
लक्ष्मी सिंह
প্রতিদিন আমরা নতুন কিছু না কিছু শিখি
প্রতিদিন আমরা নতুন কিছু না কিছু শিখি
Arghyadeep Chakraborty
నా గ్రామం..
నా గ్రామం..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
हालातों से युद्ध हो हुआ।
हालातों से युद्ध हो हुआ।
Kuldeep mishra (KD)
ये दिल उन्हें बद्दुआ कैसे दे दें,
ये दिल उन्हें बद्दुआ कैसे दे दें,
Taj Mohammad
आपकी अच्छाईया बेशक अदृष्य हो सकती है
आपकी अच्छाईया बेशक अदृष्य हो सकती है
Rituraj shivem verma
Loading...