Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2016 · 1 min read

ज़िन्दगी

दीवारों के पीछे से
बंद दरवाज़ों के बीच
हल्की सी जगह से झांकती
ज़िंदगी

मुझसे पूछती है आज
क्यों हूँ मैं बंद यहाँ
इस अँधेरे कमरे में
क्यों खुद को छुपा रखा है
ज़माने की धूप से

बेखबर
क्यों हूँ मैं कि
मुझे ना है कोई फ़िक्र
अपनी और अपनों की
क्यों हूँ अनजान दर्द से खुद के
की चला जा रहा हूँ
बिखरे कांच के टुकड़ों पर

खुश नहीं हूँ
पर ख़ुशी के रास्तों को भी नहीं जानता
ग़म को मिटने का
कोई रास्ता क्यों नहीं निकालता

रोशनी
ज़रूरी है कि मैं कुछ देख पाऊँ
खुद से बाहर निकलूँ और
फ़िज़ा महसूस कर पाऊँ
फिर निकल आये पर मेरे
इस खुले आसमान में उड़ता
आज़ाद पंछी बन जाऊं
लौट जाऊं बचपन में
इस उम्र की ज़ंजीरें तोड़
अब लगता है मन में कहीं
कि बचपन में ही खुद को छोड़ आऊं

–प्रतीक

Language: Hindi
1 Like · 532 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बेदर्दी मौसम दर्द क्या जाने ?
बेदर्दी मौसम दर्द क्या जाने ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
गरीब–किसान
गरीब–किसान
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
फकीरी
फकीरी
Sanjay ' शून्य'
आँखे मूंदकर
आँखे मूंदकर
'अशांत' शेखर
भारत चाँद पर छाया हैं…
भारत चाँद पर छाया हैं…
शांतिलाल सोनी
चेहरे की पहचान ही व्यक्ति के लिये मायने रखती है
चेहरे की पहचान ही व्यक्ति के लिये मायने रखती है
शेखर सिंह
नजरिया रिश्तों का
नजरिया रिश्तों का
विजय कुमार अग्रवाल
ज़ीस्त के तपते सहरा में देता जो शीतल छाया ।
ज़ीस्त के तपते सहरा में देता जो शीतल छाया ।
Neelam Sharma
ए दिल मत घबरा
ए दिल मत घबरा
Harminder Kaur
💐प्रेम कौतुक-217💐
💐प्रेम कौतुक-217💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आखिरी उम्मीद
आखिरी उम्मीद
Surya Barman
मेरी कविताएं पढ़ लेना
मेरी कविताएं पढ़ लेना
Satish Srijan
जूता
जूता
Ravi Prakash
ती सध्या काय करते
ती सध्या काय करते
Mandar Gangal
पाश्चात्यता की होड़
पाश्चात्यता की होड़
Mukesh Kumar Sonkar
दिखा दूंगा जहाँ को जो मेरी आँखों ने देखा है!!
दिखा दूंगा जहाँ को जो मेरी आँखों ने देखा है!!
पूर्वार्थ
माये नि माये
माये नि माये
DR ARUN KUMAR SHASTRI
स्याही की मुझे जरूरत नही
स्याही की मुझे जरूरत नही
Aarti sirsat
दोहे तरुण के।
दोहे तरुण के।
Pankaj sharma Tarun
धुनी रमाई है तेरे नाम की
धुनी रमाई है तेरे नाम की
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
संस्कार संयुक्त परिवार के
संस्कार संयुक्त परिवार के
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
*कैसे हार मान लूं
*कैसे हार मान लूं
Suryakant Dwivedi
* सिला प्यार का *
* सिला प्यार का *
surenderpal vaidya
मोहब्बत पलों में साँसें लेती है, और सजाएं सदियों को मिल जाती है, दिल के सुकूं की क़ीमत, आँखें आंसुओं की किस्तों से चुकाती है
मोहब्बत पलों में साँसें लेती है, और सजाएं सदियों को मिल जाती है, दिल के सुकूं की क़ीमत, आँखें आंसुओं की किस्तों से चुकाती है
Manisha Manjari
ख़ुद को ख़ोकर
ख़ुद को ख़ोकर
Dr fauzia Naseem shad
मैं ऐसा नही चाहता
मैं ऐसा नही चाहता
Rohit yadav
ముందుకు సాగిపో..
ముందుకు సాగిపో..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
सत्य
सत्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मैं भी चापलूस बन गया (हास्य कविता)
मैं भी चापलूस बन गया (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
Loading...