Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2017 · 1 min read

—–ज़माना बदल जाएगा—–

अगले आने वाले सालों में ज्यादातर
पागलों को ढूँढने की जरूरत नहीं है
सरे राह मिल जायेंगे हजारों
लगता है जैसे शेहर में अब इनकी
बारात निकले ही वाली है ….

जिस को देखो, खुद हँसता
खुद रोता, खुद बातें
करता नजर आ ही जाता है
यह खुदा जाने , कि
वो क्या करता जाता है ??

पर हम को तो बेचारा
प्यार में पागल, दीवाना,
लाचार, बनता हुआ ही
नजर आता है !!

कभी रो कर गुजारिश करता है
कभी हंस कर खिलखिला जाता है
बस एक रोग ऐसा लग गया है
उसको, कि वो पागल नजर आता है !!

चाहे, टाटा, चाहे रिलायंस, चाहे
आईडिया, ही वो चला रहा हो
मोबाइल, लैपटॉप, का अब वो
बहुत बीमार नजर आता है !!

नहीं इस का इलाज दुनिया में
डॉक्टर भी हार जायेंगे
कहाँ से लायें इस रोग की दवा
सब से पहले जाकर ,वो कब्र से
धीरू भाई अम्बानी को बुलाएँगे !!

क्या रोग लगा गया…धीरूभाई,
ऐसा तो नहीं सोचा था ?
हर घर में अगले आने वाले
सालों में ज्यादातर , पागल और
बीमार ही नजर आयेंगे ???

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
171 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
मोहक हरियाली
मोहक हरियाली
Surya Barman
3198.*पूर्णिका*
3198.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वो नाकामी के हजार बहाने गिनाते रहे
वो नाकामी के हजार बहाने गिनाते रहे
नूरफातिमा खातून नूरी
सिर्फ यह कमी थी मुझमें
सिर्फ यह कमी थी मुझमें
gurudeenverma198
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
तंग जिंदगी
तंग जिंदगी
लक्ष्मी सिंह
एकतरफा सारे दुश्मन माफ किये जाऐं
एकतरफा सारे दुश्मन माफ किये जाऐं
Maroof aalam
*विभाजित जगत-जन! यह सत्य है।*
*विभाजित जगत-जन! यह सत्य है।*
संजय कुमार संजू
*रामचरितमानस का पाठ : कुछ दोहे*
*रामचरितमानस का पाठ : कुछ दोहे*
Ravi Prakash
🙅 अक़्ल के मारे🙅
🙅 अक़्ल के मारे🙅
*प्रणय प्रभात*
वज़ह सिर्फ तूम
वज़ह सिर्फ तूम
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
"कबड्डी"
Dr. Kishan tandon kranti
गूॅंज
गूॅंज
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
तुम्हें कब ग़ैर समझा है,
तुम्हें कब ग़ैर समझा है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
भुलाया ना जा सकेगा ये प्रेम
भुलाया ना जा सकेगा ये प्रेम
The_dk_poetry
सादगी तो हमारी जरा……देखिए
सादगी तो हमारी जरा……देखिए
shabina. Naaz
गंणतंत्रदिवस
गंणतंत्रदिवस
Bodhisatva kastooriya
हो सके तो मुझे भूल जाओ
हो सके तो मुझे भूल जाओ
Shekhar Chandra Mitra
Wakt hi wakt ko batt  raha,
Wakt hi wakt ko batt raha,
Sakshi Tripathi
चेहरा और वक्त
चेहरा और वक्त
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मैंने अपनी, खिडकी से,बाहर जो देखा वो खुदा था, उसकी इनायत है सबसे मिलना, मैं ही खुद उससे जुदा था.
मैंने अपनी, खिडकी से,बाहर जो देखा वो खुदा था, उसकी इनायत है सबसे मिलना, मैं ही खुद उससे जुदा था.
Mahender Singh
।। निरर्थक शिकायतें ।।
।। निरर्थक शिकायतें ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
*ताना कंटक एक समान*
*ताना कंटक एक समान*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Expectations
Expectations
पूर्वार्थ
प्रेम में कृष्ण का और कृष्ण से प्रेम का अपना अलग ही आनन्द है
प्रेम में कृष्ण का और कृष्ण से प्रेम का अपना अलग ही आनन्द है
Anand Kumar
अर्थ में,अनर्थ में अंतर बहुत है
अर्थ में,अनर्थ में अंतर बहुत है
Shweta Soni
जोशीला
जोशीला
RAKESH RAKESH
.
.
शेखर सिंह
"कष्ट"
नेताम आर सी
रेस का घोड़ा
रेस का घोड़ा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...