Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jan 20, 2017 · 1 min read

ग़ज़ल

कोई अपनों के रिश्तो में गैर होते हैं
कोई गैर होकर भी जो अपने होते है

रिश्तों के नाम से रिश्ता नहीं होता
कोई रिश्तों के बगैर ही साथ होते हैं

गज़ब है इन्सान के नाम ये जीवन
कभी जीवन में कोई बेजान होते हैं

पौधों से रिश्तों का बना यह पेड़ देखो
जड़ों में प्यार से रिश्ते सफल होते है

*
|| पंकज त्रिवेदी ||

184 Views
You may also like:
पिता
Dr. Kishan Karigar
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
Nurse An Angel
Buddha Prakash
वोह जब जाती है .
ओनिका सेतिया 'अनु '
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
दोस्त जीवन में एक सच्चा दोस्त ज़रूर कमाना….
Piyush Goel
काफ़िर जमाना
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
नवाब तो छा गया ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
【25】 *!* विकृत विचार *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
इश्क ए दास्तां को।
Taj Mohammad
*जिंदगी को वह गढ़ेंगे ,जो प्रलय को रोकते हैं*( गीत...
Ravi Prakash
प्रदीप छंद और विधाएं
Subhash Singhai
पापा की परी...
Sapna K S
✍️दो पंक्तिया✍️
"अशांत" शेखर
क्यों सत अंतस दृश्य नहीं?
AJAY AMITABH SUMAN
मुस्कुराहट का नाम है जिन्दगी
Anamika Singh
✍️✍️तो सूर्य✍️✍️
"अशांत" शेखर
कुछ दिन की है बात
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*आचार्य बृहस्पति और उनका काव्य*
Ravi Prakash
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
अश्रु देकर खुद दिल बहलाऊं अरे मैं ऐसा इंसान नहीं
VINOD KUMAR CHAUHAN
[ कुण्डलिया]
शेख़ जाफ़र खान
भरोसा नहीं रहा।
Anamika Singh
मेघो से प्रार्थना
Ram Krishan Rastogi
राम
Saraswati Bajpai
"दोस्त-दोस्ती और पल"
Lohit Tamta
तुम मेरे वो तुम हो...
Sapna K S
चेतना के उच्च तरंग लहराओं रे सॉवरियाँ
Dr.sima
Loading...