Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Sep 2016 · 1 min read

ग़ज़ल

गजल :

दूरी इतनी ठीक नहीं है कुछ तो साथ निभाओ
चार कदम आगे आया, तुम एक कदम तो आओ

टूटे पत्ते सा गिरता हूं कोई तो मुझको थामो
मिट्टी में मिल जाऊं इससे पहले हाथ बढ़ाओ

माना धूप बड़ी तीखी है छाया कहीं नही है
लेकिन ऐसा भी क्या थोड़ी दूर भी न चल पाओ

रीति रिवाजों की डोरी में रिश्ते जो बांधे हैं
उलझ गए हैं इतने इनको थोड़ा तो सुलझाओ

दो पाटों की तरह नदी के चलना भी क्या चलना
साथ अगर चलना है तो हाथो मे हाथ मिलाओ

खुशियों का क्या वो तो दौड़ी दौड़ी आ जायेंगी
पहले अपने मन की कुंठायें तो दूर भगाओ

—हेमन्त सक्सेना–

271 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कहानी संग्रह-अनकही
कहानी संग्रह-अनकही
राकेश चौरसिया
खालीपन
खालीपन
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
बात कलेजे से लगा, काहे पलक भिगोय ?
बात कलेजे से लगा, काहे पलक भिगोय ?
डॉ.सीमा अग्रवाल
है नसीब अपना अपना-अपना
है नसीब अपना अपना-अपना
VINOD CHAUHAN
लोकशैली में तेवरी
लोकशैली में तेवरी
कवि रमेशराज
2392.पूर्णिका
2392.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"धन वालों मान यहाँ"
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ये जरूरी नहीं।
ये जरूरी नहीं।
Taj Mohammad
मेरा लड्डू गोपाल
मेरा लड्डू गोपाल
MEENU
अधमी अंधकार ....
अधमी अंधकार ....
sushil sarna
मोहब्बत
मोहब्बत
Shriyansh Gupta
आँखों की दुनिया
आँखों की दुनिया
Sidhartha Mishra
*फूल बच्चे को मिला तो, फूल ही में है मगन(मुक्तक)*
*फूल बच्चे को मिला तो, फूल ही में है मगन(मुक्तक)*
Ravi Prakash
ज़िंदगी एक कहानी बनकर रह जाती है
ज़िंदगी एक कहानी बनकर रह जाती है
Bhupendra Rawat
जिंदगी की खोज
जिंदगी की खोज
CA Amit Kumar
अभिनेता वह है जो अपने अभिनय से समाज में सकारात्मक प्रभाव छोड
अभिनेता वह है जो अपने अभिनय से समाज में सकारात्मक प्रभाव छोड
Rj Anand Prajapati
रवीश कुमार का मज़ाक
रवीश कुमार का मज़ाक
Shekhar Chandra Mitra
मतदान
मतदान
Anil chobisa
~~~~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~~~~
Hanuman Ramawat
ईद आ गई है
ईद आ गई है
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
I want to collaborate with my  lost pen,
I want to collaborate with my lost pen,
Sakshi Tripathi
कमर दर्द, पीठ दर्द
कमर दर्द, पीठ दर्द
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जागो तो पाओ ; उमेश शुक्ल के हाइकु
जागो तो पाओ ; उमेश शुक्ल के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हिंदी पखवाडा
हिंदी पखवाडा
Shashi Dhar Kumar
होने को अब जीवन की है शाम।
होने को अब जीवन की है शाम।
Anil Mishra Prahari
खामोशियां आवाज़ करती हैं
खामोशियां आवाज़ करती हैं
Surinder blackpen
* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *
* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
माँ तस्वीर नहीं, माँ तक़दीर है…
माँ तस्वीर नहीं, माँ तक़दीर है…
Anand Kumar
" ठिठक गए पल "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
■ होशियार भून रहे हैं। बावले भुनभुना रहे हैं।😊
■ होशियार भून रहे हैं। बावले भुनभुना रहे हैं।😊
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...