Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Aug 2016 · 1 min read

ग़ज़ल

वो कहते हैं हम तो ख़ुदा हो गए हैं
ख़ुदा जाने वो क्या से क्या हो गए हैं
कदमबोसी करते नज़र आते थे जो
वो लगता है अब आसमां हो गए हैं
न जाने हवाओं मे है शोर कैसा
कि परवत भी दहशतजदा हो गए हैं
ये दुनिया तो ऐसे ही चलती रहेगी
“चिराग़”आप क्यों ग़मज़दा हो गए हैं

3 Likes · 1 Comment · 370 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
It's not about you have said anything wrong its about you ha
It's not about you have said anything wrong its about you ha
Nupur Pathak
हम संभलते है, भटकते नहीं
हम संभलते है, भटकते नहीं
Ruchi Dubey
साहित्य में साहस और तर्क का संचार करने वाले लेखक हैं मुसाफ़िर बैठा : ARTICLE – डॉ. कार्तिक चौधरी
साहित्य में साहस और तर्क का संचार करने वाले लेखक हैं मुसाफ़िर बैठा : ARTICLE – डॉ. कार्तिक चौधरी
Dr MusafiR BaithA
सादगी
सादगी
राजेंद्र तिवारी
जरुरत क्या है देखकर मुस्कुराने की।
जरुरत क्या है देखकर मुस्कुराने की।
Ashwini sharma
आपका अनुरोध स्वागत है। यहां एक कविता है जो आपके देश की हवा क
आपका अनुरोध स्वागत है। यहां एक कविता है जो आपके देश की हवा क
कार्तिक नितिन शर्मा
सोती रातों में ख़्वाब देखा अब इन आँखों को जागना है,
सोती रातों में ख़्वाब देखा अब इन आँखों को जागना है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
#रोज़मर्रा
#रोज़मर्रा
*Author प्रणय प्रभात*
अपना सफ़र है
अपना सफ़र है
Surinder blackpen
जिन्दगी से शिकायत न रही
जिन्दगी से शिकायत न रही
Anamika Singh
"कभी-कभी"
Dr. Kishan tandon kranti
जो खत हीर को रांझा जैसे न होंगे।
जो खत हीर को रांझा जैसे न होंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
मुझे  बखूबी याद है,
मुझे बखूबी याद है,
Sandeep Mishra
कुछ फूल तो कुछ शूल पाते हैँ
कुछ फूल तो कुछ शूल पाते हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
उफ़ यह कपटी बंदर
उफ़ यह कपटी बंदर
ओनिका सेतिया 'अनु '
होली
होली
Manu Vashistha
जनम-जनम के साथ
जनम-जनम के साथ
Shekhar Chandra Mitra
मत जहर हवा में घोल रे
मत जहर हवा में घोल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
2736. *पूर्णिका*
2736. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़
Rj Anand Prajapati
दीवाली शुभकामनाएं
दीवाली शुभकामनाएं
kumar Deepak "Mani"
जिस प्रकार सूर्य पृथ्वी से इतना दूर होने के बावजूद भी उसे अप
जिस प्रकार सूर्य पृथ्वी से इतना दूर होने के बावजूद भी उसे अप
नव लेखिका
*सरकार तुम्हारा क्या कहना (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*सरकार तुम्हारा क्या कहना (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
"डिजिटल दुनिया! खो गए हैं हम.. इस डिजिटल दुनिया के मोह में,
पूर्वार्थ
ज़िंदगी मुझको गर बनाओगे
ज़िंदगी मुझको गर बनाओगे
Dr fauzia Naseem shad
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
Sanjay ' शून्य'
ईमान से बसर
ईमान से बसर
Satish Srijan
जिंदगी का सफर बिन तुम्हारे कैसे कटे
जिंदगी का सफर बिन तुम्हारे कैसे कटे
VINOD CHAUHAN
बचपन मेरा..!
बचपन मेरा..!
भवेश
Loading...