Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Aug 2016 · 1 min read

ग़ज़ल

वो कहते हैं हम तो ख़ुदा हो गए हैं
ख़ुदा जाने वो क्या से क्या हो गए हैं
कदमबोसी करते नज़र आते थे जो
वो लगता है अब आसमां हो गए हैं
न जाने हवाओं मे है शोर कैसा
कि परवत भी दहशतजदा हो गए हैं
ये दुनिया तो ऐसे ही चलती रहेगी
“चिराग़”आप क्यों ग़मज़दा हो गए हैं

3 Likes · 1 Comment · 247 Views
You may also like:
जिन्दगी की रफ़्तार
मनोज कर्ण
तेरी यादें
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
सदगुण ईश्वरीय श्रंगार हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
धारण कर सत् कोयल के गुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मेरे प्यारे भईया
Dr fauzia Naseem shad
जीवन की तलाश
Taran Singh Verma
पुस्तक
AMRESH KUMAR VERMA
पिता
Meenakshi Nagar
कण कण तिरंगा हो, जनगण तिरंगा हो
डी. के. निवातिया
✍️Happy Friendship Day✍️
'अशांत' शेखर
पिता
pradeep nagarwal
■ सामयिक व्यंग्य / गुस्ताखी माफ़
*प्रणय प्रभात*
कोटेशन ऑफ डॉ. सीमा
Dr.sima
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
दोहा
Dr. Sunita Singh
रसिया यूक्रेन युद्ध विभीषिका
Ram Krishan Rastogi
Writing Challenge- दिशा (Direction)
Sahityapedia
जब मर्यादा टूटता है।
Anamika Singh
*श्रेष्ठतम हरिनाम हो 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
धार्मिक आस्था एवं धार्मिक उन्माद !
Shyam Sundar Subramanian
एक चुनाव हमने भी लड़ा था
Suryakant Chaturvedi
कश्मीर की तस्वीर
DESH RAJ
समय का महत्व ।
Nishant prakhar
प्रकाश से हम सब झिलमिल करते हैं।
Taj Mohammad
जिंदगी और करार
ananya rai parashar
दोस्त
लक्ष्मी सिंह
Little sister
Buddha Prakash
काश अगर तुम हमें समझ पाते
Writer_ermkumar
दर्द ए हया को दर्द से संभाला जाएगा
कवि दीपक बवेजा
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...