Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jul 16, 2016 · 1 min read

ग़ज़ल

मुख्तसर से ही सही पर फासले’ रह जाएंगे ”
गर मिजाज़ों में अना के वसवसे’ रह जाएंगे।

इश्क़ जिस दिन पहुंचेगा यारो जुनूं की हद के पार”
बोलने वालों के उस दिन लब सिले’ रह जाएंगे।

हौसलों से हम करेंगे आसमां का अब तवाफ”
क़द बुलंदी वाले अपना नापते’ रह जाएंगे।

साथ मेरे चलने को उस दम वो होंगे बेक़रार”
मुख्तसर जब ज़िन्दगी के रास्ते’ रह जाएंगे।

बाद मरने के भी तेरी जुस्तजू में जानेमन”
ये दरीचे मेरी आँखों के खुले’ रह जाएंगे।

सारी दुनियां से खुलूस ए वाहमी मिट जाएगा”
हैं मरासिम जो भी मेरे आपके’ रह जाएंगे।

कर ले तू सिंगार मेरी चाहतों के साए में”
बा खुदा हैरत से तकते आईने’ रह जाएंगे।

कितनी होगी साक़िया रुस्वाई फिर तू सोंचले”
तेरे मैखाने में गर हम बिन पिये’ रह जाएंगे।

ग़ुल चराग़ ए ज़िन्दगी होजाएगा बेशक जमील”
बाम पर यादों की कुछ रोशन दिये’ रह जाएंगे।
••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••

१’अना के वसवसे••घमंड भरे ख्याल।
२’ तवाफ••परिक्रमा।
३’मुख्तसर••थोड़ा/कम।
४’दरीचे••खिड़कियां।
५’खुलूसे वाहमी••आपसी मेल जोल।
६’मरासिम••दस्तूर।
७’ग़ुल चराग़••बुझा हुआ दिया।

6 Comments · 178 Views
You may also like:
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
मन
शेख़ जाफ़र खान
पिता
Shailendra Aseem
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
बुआ आई
राजेश 'ललित'
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
मेरा खुद पर यकीन न खोता
Dr fauzia Naseem shad
काफ़िर का ईमाँ
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Saraswati Bajpai
रूठ गई हैं बरखा रानी
Dr Archana Gupta
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार कर्ण
आओ तुम
sangeeta beniwal
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
हम सब एक है।
Anamika Singh
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
Loading...