Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2016 · 1 min read

ग़ज़ल

मुख्तसर से ही सही पर फासले’ रह जाएंगे ”
गर मिजाज़ों में अना के वसवसे’ रह जाएंगे।

इश्क़ जिस दिन पहुंचेगा यारो जुनूं की हद के पार”
बोलने वालों के उस दिन लब सिले’ रह जाएंगे।

हौसलों से हम करेंगे आसमां का अब तवाफ”
क़द बुलंदी वाले अपना नापते’ रह जाएंगे।

साथ मेरे चलने को उस दम वो होंगे बेक़रार”
मुख्तसर जब ज़िन्दगी के रास्ते’ रह जाएंगे।

बाद मरने के भी तेरी जुस्तजू में जानेमन”
ये दरीचे मेरी आँखों के खुले’ रह जाएंगे।

सारी दुनियां से खुलूस ए वाहमी मिट जाएगा”
हैं मरासिम जो भी मेरे आपके’ रह जाएंगे।

कर ले तू सिंगार मेरी चाहतों के साए में”
बा खुदा हैरत से तकते आईने’ रह जाएंगे।

कितनी होगी साक़िया रुस्वाई फिर तू सोंचले”
तेरे मैखाने में गर हम बिन पिये’ रह जाएंगे।

ग़ुल चराग़ ए ज़िन्दगी होजाएगा बेशक जमील”
बाम पर यादों की कुछ रोशन दिये’ रह जाएंगे।
••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••

१’अना के वसवसे••घमंड भरे ख्याल।
२’ तवाफ••परिक्रमा।
३’मुख्तसर••थोड़ा/कम।
४’दरीचे••खिड़कियां।
५’खुलूसे वाहमी••आपसी मेल जोल।
६’मरासिम••दस्तूर।
७’ग़ुल चराग़••बुझा हुआ दिया।

Language: Hindi
Tag: कविता
6 Comments · 219 Views
You may also like:
वक्त का लिहाज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आईना
Buddha Prakash
अपना घर
Shyam Sundar Subramanian
Writing Challenge- बाल (Hair)
Sahityapedia
शेर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
वाणी की देवी वीणापाणी और उनके श्री विगृह का मूक...
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
"अबला नहीं मैं"
Dr Meenu Poonia
पढ़ी लिखी लड़की
Swami Ganganiya
जीवन
पीयूष धामी
*संविधान गीत*
कवि लोकेन्द्र ज़हर
नारी शक्ति के नौरूपों की आराधना नौरात एव वर्तमान में...
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
“ अकर्मण्यताक नागड़ि ”
DrLakshman Jha Parimal
*अधूरा यज्ञ (नाटक)*
Ravi Prakash
* हे सखी *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*"काँच की चूड़ियाँ"* *रक्षाबन्धन* कहानी लेखक: राधाकिसन मूंदड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
नमन माँ गंग !पावन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मत पूछना तुम इसकी वजह
gurudeenverma198
सोशल मीडिया की ताक़त
Shekhar Chandra Mitra
प्यार को हद मे रहने दो
Anamika Singh
@@कामना च आवश्यकता च विभेदः@@
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एक बात है
Varun Singh Gautam
ढलती हुई शाम
Dr fauzia Naseem shad
हुई कान्हा से प्रीत, मेरे ह्रदय को।
Taj Mohammad
भोजपुरी बिरह गीत
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
सच
दुष्यन्त 'बाबा'
*खुशियों का दीपोत्सव आया* 
Deepak Kumar Tyagi
अजब मुहब्बत
shabina. Naaz
बढ़ती आबादी
AMRESH KUMAR VERMA
महाकवि दुष्यंत जी की पत्नी राजेश्वरी देवी जी का निधन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
भटका दिया जिंदगी ने मुझे
Kaur Surinder
Loading...