Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2016 · 1 min read

ग़ज़ल

क्यूँ नज़र से नज़ारे जुदा हो गये
लग रहा खुद नज़र में खुदा हो गये

इश्क़ में कर सका बस मैं इतनी वफ़ा
बेवफा से बफा , बेवफा हो गये

हैरतों में हमीं हैं कि तुम भी हो कुछ
किस लिए थे चले और क्या हो गये

हाल ख़त – ओ-किताबत जरा देखिये
रोग, पैसा , दवा औ दुआ हो गये

नींव रिश्तों की क्यूँ कर दरकने लगी
दिल के जज़्बात क्यूँ कर हवा हो गये

चीख मंदिर से लेकर के मस्जिद तलक
और क्या राह थी , ” बेजुबां” हो गये
…रविन्द्र श्रीवास्तव” बेजुबान”…..

224 Views
You may also like:
तू रूह में मेरी कुछ इस तरह समा रहा है।
Taj Mohammad
अगर मुझसे मोहब्बत है बताने के लिए आ।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
✍️🌷तुम हक़ीक़त हो, अब फ़साना न बनो🌷✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरा कलाम
Shekhar Chandra Mitra
*"यूँ ही कुछ भी नही बदलता"*
Shashi kala vyas
ख़्वाहिश है तेरी
VINOD KUMAR CHAUHAN
एक तोला स्त्री
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
तुम बिन आवे ना मोय निंदिया
Ram Krishan Rastogi
FATHER IS REAL GOD
★ IPS KAMAL THAKUR ★
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
गांधीजी के तीन बंदर
मनोज कर्ण
बेटियाँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
तिरंगा चूमता नभ को...
अश्क चिरैयाकोटी
इस्लाम का विकृत रूप और हिंदुओं के पतन के कारण...
Pravesh Shinde
हिरण
Buddha Prakash
चार वीर सिपाही
अनूप अंबर
बहुत बुरा लगेगा दोस्त
gurudeenverma198
उसे कभी न ……
Rekha Drolia
ये खुशी
Anamika Singh
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
खूब परोसे प्यार, खिलाये रोटी माँ ही
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
किसी पथ कि , जरुरत नही होती
Ram Ishwar Bharati
HE destinated me to do nothing but to wait.
Manisha Manjari
हमें ख़ोकर ज़रा देखो
Dr fauzia Naseem shad
✍️और शिद्दते बढ़ गयी है...
'अशांत' शेखर
शराफत में इसको मुहब्बत लिखेंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
मन ही बंधन - मन ही मोक्ष
Rj Anand Prajapati
विश्व पुस्तक दिवस
Rohit yadav
नेता पलटी मारते(कुंडलिया)
Ravi Prakash
मेरा कृष्णा
Rakesh Bahanwal
Loading...