Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2016 · 1 min read

ग़ज़ल (हर इन्सान की दुनिया में इक जैसी कहानी है )

हर लम्हा तन्हाई का एहसास मुझको होता है
जबकि दोस्तों के बीच अपनी गुज़री जिंदगानी है

क्यों अपने जिस्म में केवल ,रंगत खून की दिखती
औरों का लहू बहता , तो सबके लिए पानी है

खुद को भूल जाने की ग़लती सबने कर दी है
हर इन्सान की दुनिया में इक जैसी कहानी है

दौलत के नशे में जो अब दिन को रात कहतें हैं
हर गलती की कीमत भी, यहीं उनको चुकानी है

मदन ,वक़्त की रफ़्तार का कुछ भी भरोसा है नहीं
किसको जीत मिल जाये, किसको हार पानी है

सल्तनत ख्वाबों की मिल जाये तो अपने लिए बेहतर है
दौलत आज है तो क्या , आखिर कल तो जानी है

ग़ज़ल (हर इन्सान की दुनिया में इक जैसी कहानी है )
मदन मोहन सक्सेना

157 Views
You may also like:
हिन्दी दिवस
Ram Krishan Rastogi
शेर
pradeep nagarwal
कब बरसोगें
Swami Ganganiya
जब मर्यादा टूटता है।
Anamika Singh
Writing Challenge- कल्पना (Imagination)
Sahityapedia
फटेहाल में छोड़ा.......
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
*अभी भी याद आते हैं, बरातों वाले दिन साहिब(मुक्तक)*
Ravi Prakash
कृष्ण भक्ति
लक्ष्मी सिंह
तपिसों में पत्थर
Dr. Sunita Singh
हे प्रभु श्री राम...
Taj Mohammad
★तक़दीर ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
Yavi, the endless
रवि कुमार सैनी 'यावि'
बाल एवं हास्य कविता: मुर्गा टीवी लाया है।
Rajesh Kumar Arjun
“कलम”
Gaurav Sharma
अमृत महोत्सव
Mahender Singh Hans
फैल गया काजल
Rashmi Sanjay
पुष्प की पीड़ा
rkchaudhary2012
जिसमें हो इंसानियत
Dr fauzia Naseem shad
शत शत नमन उन सपूतों को
gurudeenverma198
Shyari
श्याम सिंह बिष्ट
कहानी *"ममता"* पार्ट-2 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
✍️ज्वालामुखी✍️
'अशांत' शेखर
ख़ुशियों का त्योहार मुबारक
आकाश महेशपुरी
■ छुट्टी आहे....!
*Author प्रणय प्रभात*
🎶मेरे इश्क़ के बहुत सादा तराने हैं🎶
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दिल यूँ ही नही मिला था
N.ksahu0007@writer
Tumhara Saath chaiye ? Zindagi Bhar
Chaurasia Kundan
सामना
Shekhar Chandra Mitra
" हालात ए इश्क़ " ( चंद अश'आर )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
‘कन्याभ्रूण’ आखिर ये हत्याएँ क्यों ?
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
Loading...