Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2016 · 1 min read

ग़ज़ल (हर इन्सान की दुनिया में इक जैसी कहानी है )

हर लम्हा तन्हाई का एहसास मुझको होता है
जबकि दोस्तों के बीच अपनी गुज़री जिंदगानी है

क्यों अपने जिस्म में केवल ,रंगत खून की दिखती
औरों का लहू बहता , तो सबके लिए पानी है

खुद को भूल जाने की ग़लती सबने कर दी है
हर इन्सान की दुनिया में इक जैसी कहानी है

दौलत के नशे में जो अब दिन को रात कहतें हैं
हर गलती की कीमत भी, यहीं उनको चुकानी है

मदन ,वक़्त की रफ़्तार का कुछ भी भरोसा है नहीं
किसको जीत मिल जाये, किसको हार पानी है

सल्तनत ख्वाबों की मिल जाये तो अपने लिए बेहतर है
दौलत आज है तो क्या , आखिर कल तो जानी है

ग़ज़ल (हर इन्सान की दुनिया में इक जैसी कहानी है )
मदन मोहन सक्सेना

205 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*****देव प्रबोधिनी*****
*****देव प्रबोधिनी*****
Kavita Chouhan
राम तेरी माया
राम तेरी माया
Swami Ganganiya
हुनर पे शायरी
हुनर पे शायरी
Vijay kumar Pandey
मौसम खराब है
मौसम खराब है
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
पंचचामर मुक्तक
पंचचामर मुक्तक
Neelam Sharma
मायड़ भौम रो सुख
मायड़ भौम रो सुख
लक्की सिंह चौहान
🍁
🍁
Amulyaa Ratan
क्या देखा
क्या देखा
Ajay Mishra
कौशल
कौशल
Dinesh Kumar Gangwar
शून्य ....
शून्य ....
sushil sarna
शीर्षक - स्वप्न
शीर्षक - स्वप्न
Neeraj Agarwal
माईया पधारो घर द्वारे
माईया पधारो घर द्वारे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
शायरी संग्रह नई पुरानी शायरियां विनीत सिंह शायर
शायरी संग्रह नई पुरानी शायरियां विनीत सिंह शायर
Vinit kumar
हम हैं क्योंकि वह थे
हम हैं क्योंकि वह थे
Shekhar Chandra Mitra
*शादी (पाँच दोहे)*
*शादी (पाँच दोहे)*
Ravi Prakash
दिल तुम्हारा जो कहे, वैसा करो
दिल तुम्हारा जो कहे, वैसा करो
अरशद रसूल बदायूंनी
"सृजन"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं
मैं
Ranjana Verma
बचपन की अठखेलियाँ
बचपन की अठखेलियाँ
लक्ष्मी सिंह
ना चाहते हुए भी रोज,वहाँ जाना पड़ता है,
ना चाहते हुए भी रोज,वहाँ जाना पड़ता है,
Suraj kushwaha
dr arun kumar shastri -you are mad for a job/ service - not
dr arun kumar shastri -you are mad for a job/ service - not
DR ARUN KUMAR SHASTRI
क्रूरता की हद पार
क्रूरता की हद पार
Mamta Rani
बापू तेरे देश में...!!
बापू तेरे देश में...!!
Kanchan Khanna
मेरी एजुकेशन शायरी
मेरी एजुकेशन शायरी
Ms.Ankit Halke jha
सारा सिस्टम गलत है
सारा सिस्टम गलत है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दोनो कुनबे भानुमती के
दोनो कुनबे भानुमती के
*Author प्रणय प्रभात*
जिंदगी के कुछ चैप्टर ऐसे होते हैं,
जिंदगी के कुछ चैप्टर ऐसे होते हैं,
Vishal babu (vishu)
కృష్ణా కృష్ణా నీవే సర్వము
కృష్ణా కృష్ణా నీవే సర్వము
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
युद्ध घोष
युद्ध घोष
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
अरमान गिर पड़े थे राहों में
अरमान गिर पड़े थे राहों में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...