Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

ग़ज़ल( ये कल की बात है )

ग़ज़ल( ये कल की बात है )

उनको तो हमसे प्यार है ये कल की बात है
कायम ये ऐतबार था ये कल की बात है

जब से मिली नज़र तो चलता नहीं है बस
मुझे दिल पर अख्तियार था ये कल की बात है

अब फूल भी खिलने लगा है निगाहों में
काँटों से मुझको प्यार था ये कल की बात है

अब जिनकी बेबफ़ाई के चर्चे हैं हर तरफ
बह पहले बफादार थे ये कल की बात है

जिसने लगायी आग मेरे घर में आकर के
बह शख्श मेरा यार था ये कल की बात है

तन्हाईयों का गम ,जो मुझे दे दिया उन्होनें
बह मेरा गम बेशुमार था ये कल की बात है

ग़ज़ल( ये कल की बात है )
मदन मोहन सक्सेना

282 Views
You may also like:
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
बाबू जी
Anoop Sonsi
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
अपने दिल को ही
Dr fauzia Naseem shad
✍️वो इंसा ही क्या ✍️
Vaishnavi Gupta
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
माँ की याद
Meenakshi Nagar
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
बोझ
आकांक्षा राय
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
पहचान...
मनोज कर्ण
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
सुन मेरे बच्चे !............
sangeeta beniwal
प्रेम रस रिमझिम बरस
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
कर्म का मर्म
Pooja Singh
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
Loading...