Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2017 · 1 min read

ग़ज़ल : प्यार में गलत फ़हमी

अपने मन में कितनी गलतफ़हमी पाल लेते हैं कुछ लोग
वो प्यार नहीं करती, पर वो सारी उम्र गुजार लेते हैं लोग !!

तनहाई में बैठ बैठ कर , कल्पना को पंख लगा लेते हैं लोग
पता है वो किसी और की है, फिर भी परेशांन होते हैं यह लोग !!

नजरिया अपना बदल बदल कर दिमाग में बैठा लेते हैं लोग
अपने घर से उसका पीछा , करने तक चल देते हैं कुछ लोग !!

जिन्दगी में ऐसे लोग सताए हुए लगने लग जाते हैं
दोस्तों के सामने नित नय किस्से सुनाते हैं कुछ लोग !!

मैने उस को यह कहा, मैने उस को यह कहा, जाने क्या क्या
बाते बना बना कर अपने संग दूसरो का दिल बहलाते हैं लोग !!

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

260 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
*भला कैसा ये दौर है*
*भला कैसा ये दौर है*
sudhir kumar
जिसप्रकार
जिसप्रकार
Dr.Rashmi Mishra
ना रहीम मानता हूँ मैं, ना ही राम मानता हूँ
ना रहीम मानता हूँ मैं, ना ही राम मानता हूँ
VINOD CHAUHAN
औरत अश्क की झीलों से हरी रहती है
औरत अश्क की झीलों से हरी रहती है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
टाईम पास .....लघुकथा
टाईम पास .....लघुकथा
sushil sarna
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
Sanjay ' शून्य'
उजले दिन के बाद काली रात आती है
उजले दिन के बाद काली रात आती है
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कुछ बूँद हिचकियाँ मिला दे
कुछ बूँद हिचकियाँ मिला दे
शेखर सिंह
रूपसी
रूपसी
Prakash Chandra
यश तुम्हारा भी होगा।
यश तुम्हारा भी होगा।
Rj Anand Prajapati
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
आलोचना
आलोचना
Shekhar Chandra Mitra
दादी की कहानी (कविता)
दादी की कहानी (कविता)
गुमनाम 'बाबा'
*पद्म विभूषण स्वर्गीय गुलाम मुस्तफा खान साहब से दो मुलाकातें*
*पद्म विभूषण स्वर्गीय गुलाम मुस्तफा खान साहब से दो मुलाकातें*
Ravi Prakash
🌷मनोरथ🌷
🌷मनोरथ🌷
पंकज कुमार कर्ण
# लोकतंत्र .....
# लोकतंत्र .....
Chinta netam " मन "
अक्सर लोगों को बड़ी तेजी से आगे बढ़ते देखा है मगर समय और किस्म
अक्सर लोगों को बड़ी तेजी से आगे बढ़ते देखा है मगर समय और किस्म
Radhakishan R. Mundhra
Whenever My Heart finds Solitude
Whenever My Heart finds Solitude
कुमार
शीर्षक – फूलों के सतरंगी आंचल तले,
शीर्षक – फूलों के सतरंगी आंचल तले,
Sonam Puneet Dubey
हे ईश्वर
हे ईश्वर
Ashwani Kumar Jaiswal
2315.पूर्णिका
2315.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*** लम्हा.....!!! ***
*** लम्हा.....!!! ***
VEDANTA PATEL
"आभाष"
Dr. Kishan tandon kranti
"फितरत"
Ekta chitrangini
अब खयाल कहाँ के खयाल किसका है
अब खयाल कहाँ के खयाल किसका है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आसा.....नहीं जीना गमों के साथ अकेले में.
आसा.....नहीं जीना गमों के साथ अकेले में.
कवि दीपक बवेजा
Them: Binge social media
Them: Binge social media
पूर्वार्थ
"खुरच डाली है मैंने ख़ुद बहुत मजबूर हो कर के।
*Author प्रणय प्रभात*
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
Dr.Priya Soni Khare
अब तो इस वुज़ूद से नफ़रत होने लगी मुझे।
अब तो इस वुज़ूद से नफ़रत होने लगी मुझे।
Phool gufran
Loading...