Sep 29, 2016 · 1 min read

ग़ज़ल ”….”पंजाबी हो गई हैं ”

शर्म क़सम से गुलाबी हो गई हैं
नियत भी अब पंजाबी हो गई हैं

लहर बहती जहाँ मुहब्बत वाली
‘ब’ तेज़ाबी हिज़ाबी हो गई हैं

पुराने मित्र मिलें बिछड़े हुए मगर
शक्ले उनकी रुआबी हो गई हैं

तुम दिख रहे नहीं आजकल हमदम
निगाहें अब शराबी हो गई हैं

एक ज़माना व खामोशी बयां थीं
हुआ क्या बेहिसाबी हो गई हैं

बच्चे तो हैं बच्चे ,ईश्क बिमारी
उम्र हर इंकलाबी हो गई हैं

गुजरती ज़िंद अंधेरे लिये थी
व ‘रंगत माहताबी हो गई हैं

छत पर गये जुमे रात जब बंटी
फिज़ाऐं आफताबी हो गई हैं
===========================
रजिंदर सिंह छाबड़ा

134 Views
You may also like:
【19】 मधुमक्खी
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
भाग्य का फेर
ओनिका सेतिया 'अनु '
चलों मदीने को जाते हैं।
Taj Mohammad
हनुमंता
Dhirendra Panchal
महान गुरु श्री रामकृष्ण परमहंस की काव्यमय जीवनी (पुस्तक-समीक्षा)
Ravi Prakash
विसाले यार
Taj Mohammad
मारुति वंदन
Vishnu Prasad 'panchotiya'
धुँध
Rekha Drolia
गुलमोहर
Ram Krishan Rastogi
विश्व पुस्तक दिवस (किताब)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बस करो अब मत तड़फाओ ना
Krishan Singh
एक वीरांगना का अन्त !
Prabhudayal Raniwal
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
पृथ्वी दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जिन्दगी है हमसे रूठी।
Taj Mohammad
सुख दुख
Rakesh Pathak Kathara
बदल रहा है देश मेरा
Anamika Singh
नाशवंत आणि अविनाशी
Shyam Sundar Subramanian
🌺🌺प्रेम की राह पर-47🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बद्दुआ बन गए है।
Taj Mohammad
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
* बेकस मौजू *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैं पिता हूँ
सूर्यकांत द्विवेदी
सौ प्रतिशत
Dr Archana Gupta
कितनी सुंदरता पहाड़ो में हैं भरी.....
Dr. Alpa H.
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
कलयुग का आरम्भ है।
Taj Mohammad
"सुनो एक सैर पर चलते है"
Lohit Tamta
मुक्तक- उनकी बदौलत ही...
आकाश महेशपुरी
# हमको नेता अब नवल मिले .....
Chinta netam मन
Loading...