Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Sep 2016 · 1 min read

ग़ज़ल ”….”पंजाबी हो गई हैं ”

शर्म क़सम से गुलाबी हो गई हैं
नियत भी अब पंजाबी हो गई हैं

लहर बहती जहाँ मुहब्बत वाली
‘ब’ तेज़ाबी हिज़ाबी हो गई हैं

पुराने मित्र मिलें बिछड़े हुए मगर
शक्ले उनकी रुआबी हो गई हैं

तुम दिख रहे नहीं आजकल हमदम
निगाहें अब शराबी हो गई हैं

एक ज़माना व खामोशी बयां थीं
हुआ क्या बेहिसाबी हो गई हैं

बच्चे तो हैं बच्चे ,ईश्क बिमारी
उम्र हर इंकलाबी हो गई हैं

गुजरती ज़िंद अंधेरे लिये थी
व ‘रंगत माहताबी हो गई हैं

छत पर गये जुमे रात जब बंटी
फिज़ाऐं आफताबी हो गई हैं
===========================
रजिंदर सिंह छाबड़ा

349 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अफसोस है मैं आजाद भारत बोल रहा हूॅ॑
अफसोस है मैं आजाद भारत बोल रहा हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
बाल गीत
बाल गीत "लंबू चाचा आये हैं"
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
"तलाश में क्या है?"
Dr. Kishan tandon kranti
*
*"मुस्कराहट"*
Shashi kala vyas
*मृत्यु : चौदह दोहे*
*मृत्यु : चौदह दोहे*
Ravi Prakash
मां सुमन.. प्रिय पापा.👨‍👩‍👦‍👦.
मां सुमन.. प्रिय पापा.👨‍👩‍👦‍👦.
Ms.Ankit Halke jha
रुई-रुई से धागा बना
रुई-रुई से धागा बना
TARAN VERMA
छोटा सा परिवेश हमारा
छोटा सा परिवेश हमारा
Er.Navaneet R Shandily
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
कलम बेच दूं , स्याही बेच दूं ,बेच दूं क्या ईमान
कलम बेच दूं , स्याही बेच दूं ,बेच दूं क्या ईमान
कवि दीपक बवेजा
जीवनी स्थूल है/सूखा फूल है
जीवनी स्थूल है/सूखा फूल है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अरदास मेरी वो
अरदास मेरी वो
Mamta Rani
अनुभूति
अनुभूति
Punam Pande
दोहा- छवि
दोहा- छवि
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हो गरीबी
हो गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
💐प्रेम कौतुक-460💐
💐प्रेम कौतुक-460💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एक तरफ
एक तरफ
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
ट्यूशन उद्योग
ट्यूशन उद्योग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
शिक्षा व्यवस्था
शिक्षा व्यवस्था
Anjana banda
परेशानियों का सामना
परेशानियों का सामना
Paras Nath Jha
मां मेरे सिर पर झीना सा दुपट्टा दे दो ,
मां मेरे सिर पर झीना सा दुपट्टा दे दो ,
Manju sagar
मन जो कि सूक्ष्म है। वह आसक्ति, द्वेष, इच्छा एवं काम-क्रोध ज
मन जो कि सूक्ष्म है। वह आसक्ति, द्वेष, इच्छा एवं काम-क्रोध ज
पूर्वार्थ
काला न्याय
काला न्याय
Anil chobisa
23/135.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/135.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बसंत का आगम क्या कहिए...
बसंत का आगम क्या कहिए...
डॉ.सीमा अग्रवाल
रोशन
रोशन
अंजनीत निज्जर
पूर्ण-अपूर्ण
पूर्ण-अपूर्ण
Srishty Bansal
हमारा विद्यालय
हमारा विद्यालय
आर.एस. 'प्रीतम'
प्रभु की शरण
प्रभु की शरण
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बुद्ध के बदले युद्ध
बुद्ध के बदले युद्ध
Shekhar Chandra Mitra
Loading...