Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Sep 2016 · 1 min read

ग़ज़ल- नज़ारे बड़े अलहदा हो चले हैं

ग़ज़ल- नज़ारे बड़े अलहदा हो चले हैं
◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆
नज़ारे बड़े अलहदा हो चले हैं
कि जबसे वे हमसे खफा हो चले हैं

हैं दिल में छुपे यूँ दिखाई न देते
मुझे लग रहा वे खुदा हो चले हैँ

न देखो इधर तुम कहीं और जाओ
कि हम तो कोई बुलबुला हो चले हैं

निखर से गये हो मुझे भूल कर तुम
तुम्हारे लिए क्या से क्या हो चले हैं

मुझे जान कहने से थकते नहीं थे
वही जानकर क्यों जुदा हो चले हैं

हूँ बीमार ‘आकाश’ आये नहीं वे
हमारे लिए जो दवा हो चले हैं

– आकाश महेशपुरी

358 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*राम अर्थ है भारत का अब, भारत मतलब राम है (गीत)*
*राम अर्थ है भारत का अब, भारत मतलब राम है (गीत)*
Ravi Prakash
लेकर सांस उधार
लेकर सांस उधार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
कुछ यूं हुआ के मंज़िल से भटक गए
कुछ यूं हुआ के मंज़िल से भटक गए
Amit Pathak
🙅सीधी-सपाट🙅
🙅सीधी-सपाट🙅
*प्रणय प्रभात*
मुस्कुराहट खुशी की आहट होती है ,
मुस्कुराहट खुशी की आहट होती है ,
Rituraj shivem verma
* वक्त  ही वक्त  तन में रक्त था *
* वक्त ही वक्त तन में रक्त था *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
A daughter's reply
A daughter's reply
Bidyadhar Mantry
वीरबन्धु सरहस-जोधाई
वीरबन्धु सरहस-जोधाई
Dr. Kishan tandon kranti
3303.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3303.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
LK99 सुपरकंडक्टर की क्षमता का आकलन एवं इसके शून्य प्रतिरोध गुण के लाभकारी अनुप्रयोगों की विवेचना
LK99 सुपरकंडक्टर की क्षमता का आकलन एवं इसके शून्य प्रतिरोध गुण के लाभकारी अनुप्रयोगों की विवेचना
Shyam Sundar Subramanian
आप और हम जीवन के सच....…...एक कल्पना विचार
आप और हम जीवन के सच....…...एक कल्पना विचार
Neeraj Agarwal
काश वो होते मेरे अंगना में
काश वो होते मेरे अंगना में
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
उम्मीद कभी तू ऐसी मत करना
उम्मीद कभी तू ऐसी मत करना
gurudeenverma198
रात
रात
SHAMA PARVEEN
याचना
याचना
Suryakant Dwivedi
निकलो…
निकलो…
Rekha Drolia
योग्यताएं
योग्यताएं
उमेश बैरवा
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
1🌹सतत - सृजन🌹
1🌹सतत - सृजन🌹
Dr .Shweta sood 'Madhu'
ना तो हमारी तरह तुम्हें कोई प्रेमी मिलेगा,
ना तो हमारी तरह तुम्हें कोई प्रेमी मिलेगा,
Dr. Man Mohan Krishna
-आजकल मोहब्बत में गिरावट क्यों है ?-
-आजकल मोहब्बत में गिरावट क्यों है ?-
bharat gehlot
कृष्ण सा हैं प्रेम मेरा
कृष्ण सा हैं प्रेम मेरा
The_dk_poetry
वज़्न ---221 1221 1221 122 बह्र- बहरे हज़ज मुसम्मन अख़रब मक़्फूफ़ मक़्फूफ़ मुखंन्नक सालिम अर्कान-मफ़ऊल मुफ़ाईलु मुफ़ाईलु फ़ऊलुन
वज़्न ---221 1221 1221 122 बह्र- बहरे हज़ज मुसम्मन अख़रब मक़्फूफ़ मक़्फूफ़ मुखंन्नक सालिम अर्कान-मफ़ऊल मुफ़ाईलु मुफ़ाईलु फ़ऊलुन
Neelam Sharma
फितरत
फितरत
Srishty Bansal
नशा
नशा
Ram Krishan Rastogi
लिखना पूर्ण विकास नहीं है बल्कि आप के बारे में दूसरे द्वारा
लिखना पूर्ण विकास नहीं है बल्कि आप के बारे में दूसरे द्वारा
Rj Anand Prajapati
(24) कुछ मुक्तक/ मुक्त पद
(24) कुछ मुक्तक/ मुक्त पद
Kishore Nigam
Khata kar tu laakh magar.......
Khata kar tu laakh magar.......
HEBA
इश्क
इश्क
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
समय
समय
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...