Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

ग़ज़ल (इस शहर में )

ग़ज़ल (इस शहर में )

इन्सानियत दम तोड़ती है हर गली हर चौराहें पर
ईट गारे के सिबा इस शहर में रक्खा क्या है

इक नक़ली मुस्कान ही साबित है हर चेहरे पर
दोस्ती प्रेम ज़ज्बात की शहर में कीमत ही क्या है

मुकद्दर है सिकंदर तो सहारे बहुत हैं इस शहर में
शहर में जो गिर चूका ,उसे बचाने में बचा ही क्या है

शहर में हर तरफ भीड़ है बदहबासी है अजीब सी
घर में अब सिर्फ दीबारों के सिबा रक्खा क्या है

मौसम से बदलते है रिश्ते इस शहर में आजकल
इस शहर में अपने और गैरों में फर्क रक्खा क्या है

ग़ज़ल (इस शहर में )

मदन मोहन सक्सेना

127 Views
You may also like:
हस्यव्यंग (बुरी नज़र)
N.ksahu0007@writer
✍️मेहरबानी✍️
"अशांत" शेखर
नियत मे पर्दा
Vikas Sharma'Shivaaya'
क्यों ना नये अनुभवों को अब साथ करें?
Manisha Manjari
स्वर्गीय रईस रामपुरी और उनका काव्य-संग्रह एहसास
Ravi Prakash
शाइ'राना है तबीयत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️क्रांतिसूर्य✍️
"अशांत" शेखर
अभी तुम करलो मनमानियां।
Taj Mohammad
💐तर्जुमा💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️मोहसुख✍️
"अशांत" शेखर
मौत बाटे अटल
आकाश महेशपुरी
निद्रा
Vikas Sharma'Shivaaya'
महका हम करेंगें।
Taj Mohammad
*पुस्तक का नाम : अँजुरी भर गीत* (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
अब आगाज यहाँ
vishnushankartripathi7
जीवन
Mahendra Narayan
कलम
AMRESH KUMAR VERMA
कविता - राह नहीं बदलूगां
Chatarsingh Gehlot
प्यार के फूल....
Dr. Alpa H. Amin
मायका
Anamika Singh
कर्म पथ
AMRESH KUMAR VERMA
Little baby !
Buddha Prakash
धर्म बला है...?
मनोज कर्ण
बनकर कोयल काग
Jatashankar Prajapati
गर्मी पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
साँप की हँसी होती कैसी
AJAY AMITABH SUMAN
गम हो या हो खुशी।
Taj Mohammad
बगिया जोखीराम में श्री चंद्र सतगुरु की आरती
Ravi Prakash
तुझसे रूठ कर
Sadanand Kumar
सफलता की कुंजी ।
Anamika Singh
Loading...