Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2016 · 1 min read

ग़ज़ल (इस शहर में )

ग़ज़ल (इस शहर में )

इन्सानियत दम तोड़ती है हर गली हर चौराहें पर
ईट गारे के सिबा इस शहर में रक्खा क्या है

इक नक़ली मुस्कान ही साबित है हर चेहरे पर
दोस्ती प्रेम ज़ज्बात की शहर में कीमत ही क्या है

मुकद्दर है सिकंदर तो सहारे बहुत हैं इस शहर में
शहर में जो गिर चूका ,उसे बचाने में बचा ही क्या है

शहर में हर तरफ भीड़ है बदहबासी है अजीब सी
घर में अब सिर्फ दीबारों के सिबा रक्खा क्या है

मौसम से बदलते है रिश्ते इस शहर में आजकल
इस शहर में अपने और गैरों में फर्क रक्खा क्या है

ग़ज़ल (इस शहर में )

मदन मोहन सक्सेना

182 Views
You may also like:
#खुद से बातें...
Seema 'Tu hai na'
✍️मौत का जश्न✍️
'अशांत' शेखर
मुझको कबतक रोकोगे
Abhishek Pandey Abhi
खूबसूरत बहुत हैं ये रंगीन दुनिया
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
दिल टूट करके।
Taj Mohammad
ज़िन्दगी
लक्ष्मी सिंह
🚩फूलों की वर्षा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग)
दुष्यन्त 'बाबा'
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
शिव और सावन
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
कर्म में कौशल लाना होगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दुनिया एक मेला है
VINOD KUMAR CHAUHAN
खुदा से एक सिफारिश लगवाऊंगा
कवि दीपक बवेजा
चिरकाल तक लहराता अपना तिरंगा रहे
Suryakant Angara Kavi official
पिता !
Kuldeep mishra (KD)
“ মাছ ভেল জঞ্জাল ”
DrLakshman Jha Parimal
अष्टांग मार्ग गीत
Buddha Prakash
अजब-गजब इन्सान...
डॉ.सीमा अग्रवाल
अन्तिम करवट
Prakash juyal 'मुकेश'
गुरु वंदना
सोनी सिंह
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
*माँ बकरे की रोती(बाल कविता)*
Ravi Prakash
पर्यावरण के दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
माई थपकत सुतावत रहे राति भर।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जिल्लत की ज़िंदगी
Shekhar Chandra Mitra
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
मांगू तुमसे पूजा में, यही छठ मैया
gurudeenverma198
अच्छा लगा
Sandeep Albela
तनिक पास आ तो सही...!
Dr. Pratibha Mahi
Loading...