Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2016 · 1 min read

ग़ज़ल (इस शहर में )

ग़ज़ल (इस शहर में )

इन्सानियत दम तोड़ती है हर गली हर चौराहें पर
ईट गारे के सिबा इस शहर में रक्खा क्या है

इक नक़ली मुस्कान ही साबित है हर चेहरे पर
दोस्ती प्रेम ज़ज्बात की शहर में कीमत ही क्या है

मुकद्दर है सिकंदर तो सहारे बहुत हैं इस शहर में
शहर में जो गिर चूका ,उसे बचाने में बचा ही क्या है

शहर में हर तरफ भीड़ है बदहबासी है अजीब सी
घर में अब सिर्फ दीबारों के सिबा रक्खा क्या है

मौसम से बदलते है रिश्ते इस शहर में आजकल
इस शहर में अपने और गैरों में फर्क रक्खा क्या है

ग़ज़ल (इस शहर में )

मदन मोहन सक्सेना

259 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सफ़ारी सूट
सफ़ारी सूट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हम
हम
Ankit Kumar
‘निराला’ का व्यवस्था से विद्रोह
‘निराला’ का व्यवस्था से विद्रोह
कवि रमेशराज
विगुल क्रांति का फूँककर, टूटे बनकर गाज़ ।
विगुल क्रांति का फूँककर, टूटे बनकर गाज़ ।
जगदीश शर्मा सहज
फितरत
फितरत
Bodhisatva kastooriya
तुम हो मेरे लिए जिंदगी की तरह
तुम हो मेरे लिए जिंदगी की तरह
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हिंदी दोहा- महावीर
हिंदी दोहा- महावीर
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
💐प्रेम कौतुक-506💐
💐प्रेम कौतुक-506💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
3008.*पूर्णिका*
3008.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
किया है तुम्हें कितना याद ?
किया है तुम्हें कितना याद ?
The_dk_poetry
बेरोजगारों को वैलेंटाइन खुद ही बनाना पड़ता है......
बेरोजगारों को वैलेंटाइन खुद ही बनाना पड़ता है......
कवि दीपक बवेजा
चाहता है जो
चाहता है जो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
अपनी बुरी आदतों पर विजय पाने की खुशी किसी युद्ध में विजय पान
अपनी बुरी आदतों पर विजय पाने की खुशी किसी युद्ध में विजय पान
Paras Nath Jha
*दिख रहे हैं आज जो, अदृश्य कल हो जाऍंगे (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*दिख रहे हैं आज जो, अदृश्य कल हो जाऍंगे (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
मानकके छडी (लोकमैथिली कविता)
मानकके छडी (लोकमैथिली कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
#इंतज़ार_जारी
#इंतज़ार_जारी
*Author प्रणय प्रभात*
"ऐसा मंजर होगा"
पंकज कुमार कर्ण
शर्तों पे कोई रिश्ता
शर्तों पे कोई रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
क्या हुआ ???
क्या हुआ ???
Shaily
लघुकथा - एक रुपया
लघुकथा - एक रुपया
अशोक कुमार ढोरिया
शौक-ए-आदम
शौक-ए-आदम
AJAY AMITABH SUMAN
डर से अपराधी नहीं,
डर से अपराधी नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Sishe ke makan ko , ghar banane ham chale ,
Sishe ke makan ko , ghar banane ham chale ,
Sakshi Tripathi
✍️फिर वही आ गये...
✍️फिर वही आ गये...
'अशांत' शेखर
पहली मोहब्बत इंसा कहां कभी भूलता है।
पहली मोहब्बत इंसा कहां कभी भूलता है।
Taj Mohammad
इतिहास गवाह है ईस बात का
इतिहास गवाह है ईस बात का
Pramila sultan
"एक और दिन"
Dr. Kishan tandon kranti
असफल कवि
असफल कवि
Shekhar Chandra Mitra
हूं बहारों का मौसम
हूं बहारों का मौसम
साहित्य गौरव
Loading...