Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2016 · 1 min read

ग़ज़ल।तुम्हारे प्यार की दुनिया दिवानी अब नही होती ।

ग़ज़ल।तुम्हारे प्यार क़ी दुनिया दिवानी अब नही होती।

अधूरे रह गये किस्से कहानी अब नही होती ।
तुम्हारे प्यार की दुनिया दिवानी अब नही होती ।।

दिलों को तोड़कर बेसक दिया तुमने है तन्हाई ।
ज़लवा हुश्न में पागल शयानी अब नही होती ।।।

तुम्हें तो याद ही होगा तुम्हारा तो जबाना था ।
बेगाने हो रहे अपने जवानी अब नही होती ।।

पता चल ही गया होगा तुम्हे भी अश्क़ की क़ीमत । निगाहें कातिलानी वो गुमानी अब नही होती ।।

करोगे क्या वफ़ाई तुम मिली तुमको तो तन्हाई ।
जफ़ा में प्यार की क़ीमत चुकानी अब नही होती ।।

मेरे ही सामने मसलन मेरे खत को जलाया था ।
तेरे नफ़रत की वो यांदें पुरानी अब नही होती ।।

खुदा का फ़ैसला ही है अकेले रह गये “रकमिश” ।
कि तोहफ़े अब नही होतें निसानी अब नही होती ।।

राम केश मिश्र”रकमिश”

1 Comment · 598 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*चिंता चिता समान है*
*चिंता चिता समान है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हिंदी
हिंदी
नन्दलाल सुथार "राही"
खामोशियां आवाज़ करती हैं
खामोशियां आवाज़ करती हैं
Surinder blackpen
हम साथ साथ चलेंगे
हम साथ साथ चलेंगे
Kavita Chouhan
तन्हा तन्हा ही चलना होगा
तन्हा तन्हा ही चलना होगा
AMRESH KUMAR VERMA
राम
राम
Suraj Mehra
*
*"सदभावना टूटे हृदय को जोड़ती है"*
Shashi kala vyas
किसकी किसकी कैसी फितरत
किसकी किसकी कैसी फितरत
Mukesh Kumar Sonkar
जय भोलेनाथ ।
जय भोलेनाथ ।
Anil Mishra Prahari
"अहसास के पन्नों पर"
Dr. Kishan tandon kranti
बाल  मेंहदी  लगा   लेप  चेहरे  लगा ।
बाल मेंहदी लगा लेप चेहरे लगा ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
अलसाई आँखे
अलसाई आँखे
A🇨🇭maanush
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
Vishal babu (vishu)
अन्नदाता,तू परेशान क्यों है...?
अन्नदाता,तू परेशान क्यों है...?
मनोज कर्ण
💐अज्ञात के प्रति-122💐
💐अज्ञात के प्रति-122💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हमेशा समय के साथ चलें,
हमेशा समय के साथ चलें,
नेताम आर सी
जीवन की विषम परिस्थितियों
जीवन की विषम परिस्थितियों
Dr.Rashmi Mishra
काम चलता रहता निर्द्वंद्व
काम चलता रहता निर्द्वंद्व
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
वर्षा जीवन-दायिनी, तप्त धरा की आस।
वर्षा जीवन-दायिनी, तप्त धरा की आस।
डॉ.सीमा अग्रवाल
संतोष
संतोष
Manju Singh
*दशरथ (कुंडलिया)*
*दशरथ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मुझे जब भी तुम प्यार से देखती हो
मुझे जब भी तुम प्यार से देखती हो
Johnny Ahmed 'क़ैस'
हजारों  रंग  दुनिया  में
हजारों रंग दुनिया में
shabina. Naaz
🙅याद रहे🙅
🙅याद रहे🙅
*Author प्रणय प्रभात*
मुराद
मुराद
Mamta Singh Devaa
2394.पूर्णिका
2394.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
चुनावी चोचला
चुनावी चोचला
Shekhar Chandra Mitra
"पुरानी तस्वीरें"
Lohit Tamta
तुम्हारी छवि...
तुम्हारी छवि...
उमर त्रिपाठी
खता कीजिए
खता कीजिए
surenderpal vaidya
Loading...