Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2016 · 1 min read

ग़ज़ल(दूर रह कर हमेशा हुए फासले )

ग़ज़ल(दूर रह कर हमेशा हुए फासले )

दूर रह कर हमेशा हुए फासले ,चाहें रिश्तें कितने क़रीबी क्यों ना हों
कर लिए बहुत काम लेन देन के ,विन मतलब कभी तो जाया करो

पद पैसे की इच्छा बुरी तो नहीं मार डालो जमीर कहाँ ये सही
जैसा देखेंगे बच्चे वही सीखेंगें ,पैर अपने माँ बाप के भी दबाया करो

काला कौआ भी है काली कोयल भी है ,कोयल सभी को भाती क्यों है
सुकूँ दे चैन दे दिल को ,अपने मुहँ में ऐसे ही अल्फ़ाज़ लाया करो

जब सँघर्ष है तब ही मँजिल मिले ,सब कुछ सुबिधा नहीं यार जीबन में है
जिस गली जिस शहर में चला सीखना , दर्द उसके मिटाने भी जाया करो

यार जो भी करो तुम सँभल करो , सर उठे गर्व से ना झुके शर्म से
वक़्त रुकता है किसके लिए ये “मदन” वक़्त ऐसे ही अपना ना जाया करो

ग़ज़ल(दूर रह कर हमेशा हुए फासले )
मदन मोहन सक्सेना

270 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मै पैसा हूं मेरे रूप है अनेक
मै पैसा हूं मेरे रूप है अनेक
Ram Krishan Rastogi
💐प्रेम कौतुक-543💐
💐प्रेम कौतुक-543💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वायु प्रदूषण रहित बनाओ।
वायु प्रदूषण रहित बनाओ।
Buddha Prakash
जितना अता किया रब,
जितना अता किया रब,
Satish Srijan
समय यात्रा संभावना -एक विचार
समय यात्रा संभावना -एक विचार
Shyam Sundar Subramanian
🎊🎉चलो आज पतंग उड़ाने
🎊🎉चलो आज पतंग उड़ाने
Shashi kala vyas
सेहत या स्वाद
सेहत या स्वाद
विजय कुमार अग्रवाल
पुलवामा अटैक
पुलवामा अटैक
लक्ष्मी सिंह
जिंदगी,
जिंदगी,
हिमांशु Kulshrestha
वादा तो किया था
वादा तो किया था
Ranjana Verma
होकर मजबूर हमको यार
होकर मजबूर हमको यार
gurudeenverma198
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
"सुधार"
Dr. Kishan tandon kranti
फिर आओ की तुम्हे पुकारता हूं मैं
फिर आओ की तुम्हे पुकारता हूं मैं
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
मैं अक्सर उसके सामने बैठ कर उसे अपने एहसास बताता था लेकिन ना
मैं अक्सर उसके सामने बैठ कर उसे अपने एहसास बताता था लेकिन ना
पूर्वार्थ
श्रीराम गिलहरी संवाद अष्टपदी
श्रीराम गिलहरी संवाद अष्टपदी
SHAILESH MOHAN
दूर जा चुका है वो फिर ख्वाबों में आता है
दूर जा चुका है वो फिर ख्वाबों में आता है
Surya Barman
*लोग क्या थे देखते ही, देखते क्या हो गए( हिंदी गजल/गीतिका
*लोग क्या थे देखते ही, देखते क्या हो गए( हिंदी गजल/गीतिका
Ravi Prakash
"अंतर्मन में पलता
*Author प्रणय प्रभात*
मुक्तक
मुक्तक
दुष्यन्त 'बाबा'
दोहे
दोहे
सत्य कुमार प्रेमी
तू जब भी साथ होती है तो मेरा ध्यान लगता है
तू जब भी साथ होती है तो मेरा ध्यान लगता है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
भूख 🙏
भूख 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बैसाखी....
बैसाखी....
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
किन्नर-व्यथा ...
किन्नर-व्यथा ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कुछ बीते हुए पल -बीते हुए लोग जब कुछ बीती बातें
कुछ बीते हुए पल -बीते हुए लोग जब कुछ बीती बातें
Atul "Krishn"
"एक सुबह मेघालय की"
अमित मिश्र
स्वतंत्रता सेनानी नीरा आर्य
स्वतंत्रता सेनानी नीरा आर्य
Anil chobisa
राम
राम
Suraj Mehra
प्यारी बहना
प्यारी बहना
Astuti Kumari
Loading...