Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

ग़ज़ल(दूर रह कर हमेशा हुए फासले )

ग़ज़ल(दूर रह कर हमेशा हुए फासले )

दूर रह कर हमेशा हुए फासले ,चाहें रिश्तें कितने क़रीबी क्यों ना हों
कर लिए बहुत काम लेन देन के ,विन मतलब कभी तो जाया करो

पद पैसे की इच्छा बुरी तो नहीं मार डालो जमीर कहाँ ये सही
जैसा देखेंगे बच्चे वही सीखेंगें ,पैर अपने माँ बाप के भी दबाया करो

काला कौआ भी है काली कोयल भी है ,कोयल सभी को भाती क्यों है
सुकूँ दे चैन दे दिल को ,अपने मुहँ में ऐसे ही अल्फ़ाज़ लाया करो

जब सँघर्ष है तब ही मँजिल मिले ,सब कुछ सुबिधा नहीं यार जीबन में है
जिस गली जिस शहर में चला सीखना , दर्द उसके मिटाने भी जाया करो

यार जो भी करो तुम सँभल करो , सर उठे गर्व से ना झुके शर्म से
वक़्त रुकता है किसके लिए ये “मदन” वक़्त ऐसे ही अपना ना जाया करो

ग़ज़ल(दूर रह कर हमेशा हुए फासले )
मदन मोहन सक्सेना

124 Views
You may also like:
पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कविता संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
"मैं फ़िर से फ़ौजी कहलाऊँगा"
Lohit Tamta
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
✍️जिंदगी का फ़लसफ़ा✍️
"अशांत" शेखर
आजादी
AMRESH KUMAR VERMA
चमचागिरी
सूर्यकांत द्विवेदी
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
"ईद"
Lohit Tamta
स्मृति चिन्ह
Shyam Sundar Subramanian
पिता का साथ जीत है।
Taj Mohammad
पप्पू और पॉलिथीन
मनोज कर्ण
ज़िन्दगी की धूप...
Dr. Alpa H. Amin
स्वर्गीय श्री पुष्पेंद्र वर्णवाल जी का एक पत्र : मधुर...
Ravi Prakash
पिता
Ram Krishan Rastogi
चार काँधे हों मयस्सर......
अश्क चिरैयाकोटी
अश्रुपात्र ... A glass of tears भाग- 2 और 3
Dr. Meenakshi Sharma
अनोखा‌ रिश्ता दोस्ती का
AMRESH KUMAR VERMA
हर साल क्यों जलाए जाते हैं उत्तराखंड के जंगल ?
Deepak Kohli
माँ
Dr. Meenakshi Sharma
ग़म-ए-दिल....
Aditya Prakash
ख्वाब
Anamika Singh
मैं चिर पीड़ा का गायक हूं
विमल शर्मा'विमल'
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
Jyoti Khari
✍️अलहदा✍️
"अशांत" शेखर
चलो स्वयं से इस नशे को भगाते हैं।
Taj Mohammad
सच्चा रिश्ता
DESH RAJ
"आज बहुत दिनों बाद"
Lohit Tamta
इस तरह
Dr fauzia Naseem shad
हमारे पापा
पाण्डेय चिदानन्द
Loading...