Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2017 · 1 min read

हौसले जब भी आजमाए हैं

हौसले जब भी आजमाए हैं
आंधियो में दिए जलाए हैं

आज सौदा यहीँ कहीं होगा
खूब दौलत वो साथ लाए हैं

गैर मुल्को में कोई इनका है
जिसके झंडे ये सब उठाए हैं

वो हुनरमन्द अब नही आता
जिसकी कीमत चुका के आए हैं

पी गया वो शराब जितनी थी
बिन पिए हम तो लड़खड़ाए हैं

प्यार तुझसे हुआ इसी खातिर
हमने दुश्मन नए बनाए हैं

ऐक रिश्ता निभा के जिन्दा है
हमने रिश्ते नही निभाए हैं

उसने हर गाम चोट खाई है
जिसके चेहरे में गम के साए हैं

क्या मुहब्बत ने गुल खिलाए हैं
चाँद तारे जमीं पे आए हैं

कोई पहचान ले न हमको भी
आज सूरत बदल के आए हैं

………कवि विजय ………….

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 234 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शब की रातों में जब चाँद पर तारे हो जाते हैं,
शब की रातों में जब चाँद पर तारे हो जाते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
‘‘शिक्षा में क्रान्ति’’
‘‘शिक्षा में क्रान्ति’’
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
भारत के बीर सपूत
भारत के बीर सपूत
Dinesh Kumar Gangwar
भीम आयेंगे आयेंगे भीम आयेंगे
भीम आयेंगे आयेंगे भीम आयेंगे
gurudeenverma198
प्यार क्या होता, यह हमें भी बहुत अच्छे से पता है..!
प्यार क्या होता, यह हमें भी बहुत अच्छे से पता है..!
SPK Sachin Lodhi
🙅भविष्यवाणी🙅
🙅भविष्यवाणी🙅
*प्रणय प्रभात*
साधना की मन सुहानी भोर से
साधना की मन सुहानी भोर से
OM PRAKASH MEENA
ସାଧୁ ସଙ୍ଗ
ସାଧୁ ସଙ୍ଗ
Bidyadhar Mantry
जब इंस्पेक्टर ने प्रेमचंद से कहा- तुम बड़े मग़रूर हो..
जब इंस्पेक्टर ने प्रेमचंद से कहा- तुम बड़े मग़रूर हो..
Shubham Pandey (S P)
मित्रता क्या है?
मित्रता क्या है?
Vandna Thakur
मन की परतों में छुपे ,
मन की परतों में छुपे ,
sushil sarna
बेख़बर
बेख़बर
Shyam Sundar Subramanian
रिश्ता ख़ामोशियों का
रिश्ता ख़ामोशियों का
Dr fauzia Naseem shad
सफलता का बीज
सफलता का बीज
Dr. Kishan tandon kranti
The Day I Wore My Mother's Saree!
The Day I Wore My Mother's Saree!
R. H. SRIDEVI
संघर्ष........एक जूनून
संघर्ष........एक जूनून
Neeraj Agarwal
मोहब्बत के लिए गुलकारियां दोनों तरफ से है। झगड़ने को मगर तैयारियां दोनों तरफ से। ❤️ नुमाइश के लिए अब गुफ्तगू होती है मिलने पर। मगर अंदर से तो बेजारियां दोनो तरफ से हैं। ❤️
मोहब्बत के लिए गुलकारियां दोनों तरफ से है। झगड़ने को मगर तैयारियां दोनों तरफ से। ❤️ नुमाइश के लिए अब गुफ्तगू होती है मिलने पर। मगर अंदर से तो बेजारियां दोनो तरफ से हैं। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रात में कर देते हैं वे भी अंधेरा
रात में कर देते हैं वे भी अंधेरा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
शेष न बचा
शेष न बचा
इंजी. संजय श्रीवास्तव
2967.*पूर्णिका*
2967.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*📌 पिन सारे कागज़ को*
*📌 पिन सारे कागज़ को*
Santosh Shrivastava
मोबाइल
मोबाइल
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
I've washed my hands of you
I've washed my hands of you
पूर्वार्थ
*कर्ज लेकर एक तगड़ा, बैंक से खा जाइए 【हास्य हिंदी गजल/गीतिका
*कर्ज लेकर एक तगड़ा, बैंक से खा जाइए 【हास्य हिंदी गजल/गीतिका
Ravi Prakash
मैं हूं ना
मैं हूं ना
Sunil Maheshwari
मौसम मौसम बदल गया
मौसम मौसम बदल गया
The_dk_poetry
घाव मरहम से छिपाए जाते है,
घाव मरहम से छिपाए जाते है,
Vindhya Prakash Mishra
कांधा होता हूं
कांधा होता हूं
Dheerja Sharma
सपनो का शहर इलाहाबाद /लवकुश यादव
सपनो का शहर इलाहाबाद /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
Loading...