Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2023 · 1 min read

हो देवों के देव तुम, नहीं आदि-अवसान।

हो देवों के देव तुम, नहीं आदि-अवसान।
करो कृपा निज भक्त पर, आशुतोष भगवान।।

सार तुम्हीं संसार के, करुणा के अवतार।
मन को निर्मल शुद्ध कर, हरते सभी विकार।।

© सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद

Language: Hindi
2 Likes · 496 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
*दासता जीता रहा यह, देश निज को पा गया (मुक्तक)*
*दासता जीता रहा यह, देश निज को पा गया (मुक्तक)*
Ravi Prakash
काला न्याय
काला न्याय
Anil chobisa
मीठे बोल
मीठे बोल
Sanjay ' शून्य'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दिल
दिल
Dr Archana Gupta
दुनियां कहे , कहे कहने दो !
दुनियां कहे , कहे कहने दो !
Ramswaroop Dinkar
हर ज़ख्म हमने पाया गुलाब के जैसा,
हर ज़ख्म हमने पाया गुलाब के जैसा,
लवकुश यादव "अज़ल"
रात के सितारे
रात के सितारे
Neeraj Agarwal
2578.पूर्णिका
2578.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*पिता का प्यार*
*पिता का प्यार*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आहाँ अपन किछु कहैत रहू ,आहाँ अपन किछु लिखइत रहू !
आहाँ अपन किछु कहैत रहू ,आहाँ अपन किछु लिखइत रहू !
DrLakshman Jha Parimal
ईश ......
ईश ......
sushil sarna
अंधेरे के आने का खौफ,
अंधेरे के आने का खौफ,
Buddha Prakash
जिंदगी को बोझ नहीं मानता
जिंदगी को बोझ नहीं मानता
SATPAL CHAUHAN
यात्राओं से अर्जित अनुभव ही एक लेखक की कलम की शब्द शक्ति , व
यात्राओं से अर्जित अनुभव ही एक लेखक की कलम की शब्द शक्ति , व
Shravan singh
कितने लोग मिले थे, कितने बिछड़ गए ,
कितने लोग मिले थे, कितने बिछड़ गए ,
Neelofar Khan
🙅सोचो तो सही🙅
🙅सोचो तो सही🙅
*प्रणय प्रभात*
कितनी प्यारी प्रकृति
कितनी प्यारी प्रकृति
जगदीश लववंशी
क्यों बनना गांधारी?
क्यों बनना गांधारी?
Dr. Kishan tandon kranti
जिंदगी जीना है तो खुशी से जीयों और जीभर के जीयों क्योंकि एक
जिंदगी जीना है तो खुशी से जीयों और जीभर के जीयों क्योंकि एक
जय लगन कुमार हैप्पी
हारता वो है जो शिकायत
हारता वो है जो शिकायत
नेताम आर सी
यह कैसा आया ज़माना !!( हास्य व्यंग्य गीत गजल)
यह कैसा आया ज़माना !!( हास्य व्यंग्य गीत गजल)
ओनिका सेतिया 'अनु '
भुलक्कड़ मामा
भुलक्कड़ मामा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ज़िंदगी को अगर स्मूथली चलाना हो तो चु...या...पा में संलिप्त
ज़िंदगी को अगर स्मूथली चलाना हो तो चु...या...पा में संलिप्त
Dr MusafiR BaithA
किससे कहे दिल की बात को हम
किससे कहे दिल की बात को हम
gurudeenverma198
তোমার চরণে ঠাঁই দাও আমায় আলতা করে
তোমার চরণে ঠাঁই দাও আমায় আলতা করে
Arghyadeep Chakraborty
बता ये दर्द
बता ये दर्द
विजय कुमार नामदेव
सदा सदाबहार हिंदी
सदा सदाबहार हिंदी
goutam shaw
Labour day
Labour day
अंजनीत निज्जर
Loading...