Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Feb 2023 · 1 min read

हो तेरी ज़िद

हो तो तेरी ज़िद, अफ़सोस न रहे बाकी ।
अधूरी कोशिशों का अंजाम कुछ नहीं होता ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
8 Likes · 350 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
*सीधे-साधे लोगों का अब, कठिन गुजारा लगता है (हिंदी गजल)*
*सीधे-साधे लोगों का अब, कठिन गुजारा लगता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
👍 काहे का दर्प...?
👍 काहे का दर्प...?
*Author प्रणय प्रभात*
2388.पूर्णिका
2388.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मंजिल छूते कदम
मंजिल छूते कदम
Arti Bhadauria
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Neeraj Mishra " नीर "
* सामने आ गये *
* सामने आ गये *
surenderpal vaidya
मुद्रा नियमित शिक्षण
मुद्रा नियमित शिक्षण
AJAY AMITABH SUMAN
"खूबसूरती"
Dr. Kishan tandon kranti
एक बार हीं
एक बार हीं
Shweta Soni
छुपा रखा है।
छुपा रखा है।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
Karma
Karma
R. H. SRIDEVI
हिन्दी दोहा बिषय-चरित्र
हिन्दी दोहा बिषय-चरित्र
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पुलवामा अटैक
पुलवामा अटैक
लक्ष्मी सिंह
तारिक़ फ़तह सदा रहे, सच के लंबरदार
तारिक़ फ़तह सदा रहे, सच के लंबरदार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Suni padi thi , dil ki galiya
Suni padi thi , dil ki galiya
Sakshi Tripathi
सनातन संस्कृति
सनातन संस्कृति
Bodhisatva kastooriya
हे मात भवानी...
हे मात भवानी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
सत्संग शब्द सुनते ही मन में एक भव्य सभा का दृश्य उभरता है, ज
सत्संग शब्द सुनते ही मन में एक भव्य सभा का दृश्य उभरता है, ज
पूर्वार्थ
मैं तो महज वक्त हूँ
मैं तो महज वक्त हूँ
VINOD CHAUHAN
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
Rj Anand Prajapati
कर्मफल भोग
कर्मफल भोग
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
काव्य का आस्वादन
काव्य का आस्वादन
कवि रमेशराज
समझ
समझ
Dinesh Kumar Gangwar
मेरा फलसफा
मेरा फलसफा
umesh mehra
हम तो हैं प्रदेश में, क्या खबर हमको देश की
हम तो हैं प्रदेश में, क्या खबर हमको देश की
gurudeenverma198
कहने को बाकी क्या रह गया
कहने को बाकी क्या रह गया
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
"नींद की तलाश"
Pushpraj Anant
दूसरों की राहों पर चलकर आप
दूसरों की राहों पर चलकर आप
Anil Mishra Prahari
*जय सियाराम राम राम राम...*
*जय सियाराम राम राम राम...*
Harminder Kaur
ये नफरत बुरी है ,न पालो इसे,
ये नफरत बुरी है ,न पालो इसे,
Ranjeet kumar patre
Loading...