Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2016 · 1 min read

हो जीवन मधुमास

नभ के नवरंग जैसा ज़िंदगी हो सुनहरी
खुशियों की बौछारे हो हर सांझ सवेरा
स्वप्नों सा स्वर्निम ज़िंदगी,हो चाँदनी निशा
तेरी धानी चुनरियाँ खुशियों का है बसेरा

रहे विमल मन, रहे सदा पुलकित ज़िन्दगानी
तू सुरमई शाम दीवानी, तू फूलों की रानी
बहे प्रेम की नदिया, जले प्रेम की ज्योति
बरसे आँगन में मधु की बुंदे झीनी झीनी

उन्हे मिले नई उमंगे ,हो जीवन मधुमास
माँगू रब से दुआ यहीं तू रहे मीत सदा
राह में खिले तेरी जूही,चम्पा, चमेली
तेरे आँगन रहे गुलज़ार न हो कभी खज़ा

आ रही पूर्वइयाँ ,छा रही है बदरिया
रेशम जुल्फें उडे मिल जाये तुझे सावरिया
मन तेरा मधुबन लगे कंचन तेरी काया
बन जा कान्हा की तू दीवानी हरिप्रिया

खिड़की से झाँके ज़िंदगी सात रंगो का इंद्रधनुष
घर-आँगन को आलोकित करे ज्योति हर संध्या
ये कुदरत जन्म दिन पर उसे दे कोई हँसी तोहफ़ा
दुष्यंत की लेखनी तेरी सूरत की क्या करे बयाँ

Language: Hindi
282 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आइसक्रीम
आइसक्रीम
Neeraj Agarwal
बाहर-भीतर
बाहर-भीतर
Dhirendra Singh
ज़िंदगी की ज़रूरत में
ज़िंदगी की ज़रूरत में
Dr fauzia Naseem shad
हिंदी का आनंद लीजिए __
हिंदी का आनंद लीजिए __
Manu Vashistha
आजकल की स्त्रियां
आजकल की स्त्रियां
Abhijeet
पलटूराम में भी राम है
पलटूराम में भी राम है
Sanjay ' शून्य'
कैसे देखनी है...?!
कैसे देखनी है...?!
Srishty Bansal
तुम पंख बन कर लग जाओ
तुम पंख बन कर लग जाओ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
The destination
The destination
Bidyadhar Mantry
मौन अधर होंगे
मौन अधर होंगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
दुश्मन जमाना बेटी का
दुश्मन जमाना बेटी का
लक्ष्मी सिंह
कौन कहता है कि लहजा कुछ नहीं होता...
कौन कहता है कि लहजा कुछ नहीं होता...
कवि दीपक बवेजा
*भारत माता को किया, किसने लहूलुहान (कुंडलिया)*
*भारत माता को किया, किसने लहूलुहान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
मुझे फ़र्क नहीं दिखता, ख़ुदा और मोहब्बत में ।
मुझे फ़र्क नहीं दिखता, ख़ुदा और मोहब्बत में ।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हीरा उन्हीं को  समझा  गया
हीरा उन्हीं को समझा गया
गुमनाम 'बाबा'
*बीजेपी समर्थक सामांतर ब्रह्मांड में*🪐✨
*बीजेपी समर्थक सामांतर ब्रह्मांड में*🪐✨
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
14, मायका
14, मायका
Dr .Shweta sood 'Madhu'
मकड़ी ने जाला बुना, उसमें फँसे शिकार
मकड़ी ने जाला बुना, उसमें फँसे शिकार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रेम में राग हो तो
प्रेम में राग हो तो
हिमांशु Kulshrestha
ये ज़िंदगी.....
ये ज़िंदगी.....
Mamta Rajput
मुझसे जुदा होने से पहले, लौटा दे मेरा प्यार वह मुझको
मुझसे जुदा होने से पहले, लौटा दे मेरा प्यार वह मुझको
gurudeenverma198
सहज रिश्ता
सहज रिश्ता
Dr. Rajeev Jain
जिस समय से हमारा मन,
जिस समय से हमारा मन,
नेताम आर सी
वापस
वापस
Harish Srivastava
मुझे ऊंचाइयों पर देखकर हैरान हैं बहुत लोग,
मुझे ऊंचाइयों पर देखकर हैरान हैं बहुत लोग,
Ranjeet kumar patre
If our kids do not speak their mother tongue, we force them
If our kids do not speak their mother tongue, we force them
DrLakshman Jha Parimal
3258.*पूर्णिका*
3258.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अंतिम साँझ .....
अंतिम साँझ .....
sushil sarna
हर क्षण  आनंद की परम अनुभूतियों से गुजर रहा हूँ।
हर क्षण आनंद की परम अनुभूतियों से गुजर रहा हूँ।
Ramnath Sahu
Loading...