Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Mar 2017 · 1 min read

** होली है भई होली है **

जबसे तूं हमसे ना बोली है
दिल में जली इक होली है
तूं माने या ना माने अब
दिल से अपनी हो ली है
*****
दिल बडा नादां है ये
अपनों से अंजान है ये
******
अरे दिल की लगी दिल्लगी
दिल्लगी बस , नही दिल्लगी
*****
मोल नहीं तोल नहीं अब
दिल का कोई रोल नहीं
***
जिंदगी रंगबिन बेरंग बनी
रंग में रंग गया जो अब
****
रंग ना अब छोडेगा संग
तूं माने ना माने ना अब
***
एक दूजे का चढ़ेगा रंग
जब होगा आपस में संग
***
दिल से अपनी हो ली है
हो ली है हो ली है
******
होली है भई होली है
बुरा ना मानो होली है ।।
***

?मधुप बैरागी

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 1 Comment · 549 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from भूरचन्द जयपाल
View all
You may also like:
साहब का कुत्ता (हास्य-व्यंग्य कहानी)
साहब का कुत्ता (हास्य-व्यंग्य कहानी)
दुष्यन्त 'बाबा'
स्त्रियाँ
स्त्रियाँ
Shweta Soni
हिंदी भाषा हमारी आन बान शान...
हिंदी भाषा हमारी आन बान शान...
Harminder Kaur
उज्ज्वल भविष्य हैं
उज्ज्वल भविष्य हैं
TARAN VERMA
वस्तु वस्तु का  विनिमय  होता  बातें उसी जमाने की।
वस्तु वस्तु का विनिमय होता बातें उसी जमाने की।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
🌺आलस्य🌺
🌺आलस्य🌺
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
हिसाब रखियेगा जनाब,
हिसाब रखियेगा जनाब,
Buddha Prakash
विकृत संस्कार पनपती बीज
विकृत संस्कार पनपती बीज
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आपात स्थिति में रक्तदान के लिए आमंत्रण देने हेतु सोशल मीडिया
आपात स्थिति में रक्तदान के लिए आमंत्रण देने हेतु सोशल मीडिया
*Author प्रणय प्रभात*
बादल गरजते और बरसते हैं
बादल गरजते और बरसते हैं
Neeraj Agarwal
हे आदमी, क्यों समझदार होकर भी, नासमझी कर रहे हो?
हे आदमी, क्यों समझदार होकर भी, नासमझी कर रहे हो?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दर्द ! अपमान !अस्वीकृति !
दर्द ! अपमान !अस्वीकृति !
Jay Dewangan
आज फ़िर दिल ने इक तमन्ना की..
आज फ़िर दिल ने इक तमन्ना की..
Rashmi Sanjay
थोड़ा विश्राम चाहता हू,
थोड़ा विश्राम चाहता हू,
Umender kumar
🌺प्रेम कौतुक-191🌺
🌺प्रेम कौतुक-191🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"क्या देश आजाद है?"
Ekta chitrangini
मेरे पापा
मेरे पापा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मैं आग नही फिर भी चिंगारी का आगाज हूं,
मैं आग नही फिर भी चिंगारी का आगाज हूं,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
कूड़े के ढेर में
कूड़े के ढेर में
Dr fauzia Naseem shad
*रामपुर से प्रकाशित हिंदी साप्ताहिक पत्रों से मेरा संबंध*
*रामपुर से प्रकाशित हिंदी साप्ताहिक पत्रों से मेरा संबंध*
Ravi Prakash
3099.*पूर्णिका*
3099.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Scattered existence,
Scattered existence,
पूर्वार्थ
भरोसा सब पर कीजिए
भरोसा सब पर कीजिए
Ranjeet kumar patre
माना मन डरपोक है,
माना मन डरपोक है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अपने आप को ही सदा श्रेष्ठ व कर्मठ ना समझें , आपकी श्रेष्ठता
अपने आप को ही सदा श्रेष्ठ व कर्मठ ना समझें , आपकी श्रेष्ठता
Seema Verma
प्यार के सिलसिले
प्यार के सिलसिले
Basant Bhagawan Roy
तुम पलाश मैं फूल तुम्हारा।
तुम पलाश मैं फूल तुम्हारा।
Dr. Seema Varma
खुद्दार
खुद्दार
अखिलेश 'अखिल'
सफलता का लक्ष्य
सफलता का लक्ष्य
Paras Nath Jha
दो अक्टूबर
दो अक्टूबर
नूरफातिमा खातून नूरी
Loading...