Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Mar 2017 · 1 min read

होली रंगों का त्योहार

होली की हार्दिक शुभकामनाएं
???????
होली रंगों का त्योहार,
वसंत का अनुपम श्रृंगार।
?
फागुन महीना पे चढ़ा निखार,
सतरंगी हो गया सारा संसार।
?
ढोलक,झांझ,मृदंग की झंकार,
गीत होली,फगुआ,फाग मल्हार।
?
सजे रंगों से भरा हुआ बजार,
यश, कीर्ति का मिले उपहार।
?
पिचकारी से रंगों की धार,
अबीर गुलाल की हो बौछार।
?
भूल जाये आपसी टकरार,
दिल से निकले द्वेष विकार।
?
निर्मल मन हो शुभ विचार,
साफ सुथरा सबका व्यवहार।
?
नफरत का कर के उपचार,
प्रेम का बरसते रहे फुहार।
?
जन-जन एकता का प्रचार,
भेदभाव भूलाकर करे सत्कार।
?
अपनों का ढेर सारा प्यार,
गले में डाले बाहों का हार।
?
हर्षो-उल्लास की खिले बहार,
खुशियों से महके घर-द्वार।
?
सुख,मान-सम्मान,मिले अपार,
होली मनाये संग पूरा परिवार।
?????—लक्ष्मी सिंह ??

585 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
उलझी हुई है जुल्फ
उलझी हुई है जुल्फ
SHAMA PARVEEN
तिरे रूह को पाने की तश्नगी नहीं है मुझे,
तिरे रूह को पाने की तश्नगी नहीं है मुझे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
नाम उल्फत में तेरे जिंदगी कर जाएंगे।
नाम उल्फत में तेरे जिंदगी कर जाएंगे।
Phool gufran
It always seems impossible until It's done
It always seems impossible until It's done
Naresh Kumar Jangir
मां होती है
मां होती है
Seema gupta,Alwar
बावला
बावला
Ajay Mishra
एक मशाल तो जलाओ यारों
एक मशाल तो जलाओ यारों
नेताम आर सी
* गीत कोई *
* गीत कोई *
surenderpal vaidya
*नहीं पूनम में मिलता, न अमावस रात काली में (मुक्तक) *
*नहीं पूनम में मिलता, न अमावस रात काली में (मुक्तक) *
Ravi Prakash
हुनर है झुकने का जिसमें दरक नहीं पाता
हुनर है झुकने का जिसमें दरक नहीं पाता
Anis Shah
बचपन और पचपन
बचपन और पचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
#जी_का_जंजाल
#जी_का_जंजाल
*Author प्रणय प्रभात*
ज़िन्दगी की राह
ज़िन्दगी की राह
Sidhartha Mishra
शुभम दुष्यंत राणा shubham dushyant rana ने हितग्राही कार्ड अभियान के तहत शासन की योजनाओं को लेकर जनता से ली राय
शुभम दुष्यंत राणा shubham dushyant rana ने हितग्राही कार्ड अभियान के तहत शासन की योजनाओं को लेकर जनता से ली राय
Bramhastra sahityapedia
✍️✍️✍️✍️
✍️✍️✍️✍️
शेखर सिंह
मूर्ती माँ तू ममता की
मूर्ती माँ तू ममता की
Basant Bhagawan Roy
बेचारा जमीर ( रूह की मौत )
बेचारा जमीर ( रूह की मौत )
ओनिका सेतिया 'अनु '
दिन गुज़रते रहे रात होती रही।
दिन गुज़रते रहे रात होती रही।
डॉक्टर रागिनी
माँ
माँ
Vijay kumar Pandey
सन् २०२३ में,जो घटनाएं पहली बार हुईं
सन् २०२३ में,जो घटनाएं पहली बार हुईं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अहसास
अहसास
Dr Parveen Thakur
सांवले मोहन को मेरे वो मोहन, देख लें ना इक दफ़ा
सांवले मोहन को मेरे वो मोहन, देख लें ना इक दफ़ा
The_dk_poetry
रंजिश हीं अब दिल में रखिए
रंजिश हीं अब दिल में रखिए
Shweta Soni
तुम आये तो हमें इल्म रोशनी का हुआ
तुम आये तो हमें इल्म रोशनी का हुआ
sushil sarna
कोई नही है वास्ता
कोई नही है वास्ता
Surinder blackpen
आपके स्वभाव की
आपके स्वभाव की
Dr fauzia Naseem shad
*पहले वाले  मन में हैँ ख़्यालात नहीं*
*पहले वाले मन में हैँ ख़्यालात नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
2673.*पूर्णिका*
2673.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ନବଧା ଭକ୍ତି
ନବଧା ଭକ୍ତି
Bidyadhar Mantry
प्यारा भारत देश है
प्यारा भारत देश है
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
Loading...