Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Sep 2022 · 1 min read

*होता कभी बिछोह 【 गीत 】*

होता कभी बिछोह 【 गीत 】
°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°
कभी मिलन की बेला आती, होता कभी बिछोह
【 1 】
चक्र चल रहा इस धरती पर ,आने का-जाने का
समय नियत है महाकाल का ,सबको ही खाने का
साथ रहा जो जितना उससे ,होता उतना मोह
【2】
कौन जान पाया क्यों लेते, जन्म जगत में आते
किसे पता हम खेल-खेल में, क्यों सौ बरस बिताते
नहीं मिली है आत्मतत्व की ,अब तक कोई टोह
कभी मिलन की बेला आती ,होता कभी बिछोह
°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°
*रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा*
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

231 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
मुझे लगा कि तुम्हारे लिए मैं विशेष हूं ,
मुझे लगा कि तुम्हारे लिए मैं विशेष हूं ,
Manju sagar
मेरी माटी मेरा देश 🇮🇳
मेरी माटी मेरा देश 🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
//एक सवाल//
//एक सवाल//
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
दिन की शुरुआत
दिन की शुरुआत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ग़ज़ल/नज़्म - उसके सारे जज़्बात मद्देनजर रखे
ग़ज़ल/नज़्म - उसके सारे जज़्बात मद्देनजर रखे
अनिल कुमार
मेले
मेले
Punam Pande
मन को जो भी जीत सकेंगे
मन को जो भी जीत सकेंगे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जून की दोपहर
जून की दोपहर
Kanchan Khanna
चँचल हिरनी
चँचल हिरनी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"Strength is not only measured by the weight you can lift, b
Manisha Manjari
कमी नहीं
कमी नहीं
Dr fauzia Naseem shad
गम खास होते हैं
गम खास होते हैं
ruby kumari
"परम्परा"
Dr. Kishan tandon kranti
बदलती हवाओं का स्पर्श पाकर कहीं विकराल ना हो जाए।
बदलती हवाओं का स्पर्श पाकर कहीं विकराल ना हो जाए।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
मैं उसकी देखभाल एक जुनूं से करती हूँ..
मैं उसकी देखभाल एक जुनूं से करती हूँ..
Shweta Soni
हम ही हैं पहचान हमारी जाति हैं लोधी.
हम ही हैं पहचान हमारी जाति हैं लोधी.
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
मनोहन
मनोहन
Seema gupta,Alwar
भूख
भूख
नाथ सोनांचली
नैन खोल मेरी हाल देख मैया
नैन खोल मेरी हाल देख मैया
Basant Bhagawan Roy
आखिर कब तक इग्नोर करोगे हमको,
आखिर कब तक इग्नोर करोगे हमको,
शेखर सिंह
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Being with and believe with, are two pillars of relationships
Being with and believe with, are two pillars of relationships
Sanjay ' शून्य'
हे परम पिता !
हे परम पिता !
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
शबनम छोड़ जाए हर रात मुझे मदहोश करने के बाद,
शबनम छोड़ जाए हर रात मुझे मदहोश करने के बाद,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बुद्ध पुर्णिमा
बुद्ध पुर्णिमा
Satish Srijan
कविता
कविता
Rambali Mishra
2988.*पूर्णिका*
2988.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बुद्ध की राह में चलने लगे ।
बुद्ध की राह में चलने लगे ।
Buddha Prakash
*सागर में ही है सदा , आता भीषण ज्वार (कुंडलिया)*
*सागर में ही है सदा , आता भीषण ज्वार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सेवा जोहार
सेवा जोहार
नेताम आर सी
Loading...