Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jun 2023 · 1 min read

अखंड भारतवर्ष

पूछ रहा आज हिमालय का हर हिमखंड।
क्यौं भारतवर्ष हो रहा प्रतिदिन खंड खंड?
मै प्रहरी अभेद्य शर्मसार सागर भी लज्जित
चारो ओर सुरक्षित सीमाएं कहती दो दंड।।
उन नपुंसक शासकों को जिन्होंने चंद्रगुप्त
साम्राज्य औ सनातन संस्कृति की खंडखंड।।
ऋषियों की तपोभूमि हो गई क्यूँ बैभव विला?
रोती माँ भारती जिसका जिस्म हुआ विखंड।।
नही सुनता है कौई शासक उसका आर्तनाद
होता जा रहा गौरव उसका केवल शिलाखंड।।
कल कल बहती नदियाँ कर रहीं यही निनाद,
सप्त सिंधु धरती का लौटा दो बैभव अखंड।।

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 390 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Bodhisatva kastooriya
View all
You may also like:
कैसे रखें हम कदम,आपकी महफ़िल में
कैसे रखें हम कदम,आपकी महफ़िल में
gurudeenverma198
2512.पूर्णिका
2512.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"इशारे" कविता
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
यही तो मजा है
यही तो मजा है
Otteri Selvakumar
💐💐नेक्स्ट जेनरेशन💐💐
💐💐नेक्स्ट जेनरेशन💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तेरी
तेरी
Naushaba Suriya
बहाना मिल जाए
बहाना मिल जाए
Srishty Bansal
धिक्कार है धिक्कार है ...
धिक्कार है धिक्कार है ...
आर एस आघात
ज़रूरतमंद की मदद
ज़रूरतमंद की मदद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सावरकर ने लिखा 1857 की क्रान्ति का इतिहास
सावरकर ने लिखा 1857 की क्रान्ति का इतिहास
कवि रमेशराज
गुलाब
गुलाब
Satyaveer vaishnav
माँ का अबोला / मुसाफ़िर बैठा
माँ का अबोला / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
दंभ हरा
दंभ हरा
Arti Bhadauria
तुझे ढूंढने निकली तो, खाली हाथ लौटी मैं।
तुझे ढूंढने निकली तो, खाली हाथ लौटी मैं।
Manisha Manjari
Global climatic change and it's impact on Human life
Global climatic change and it's impact on Human life
Shyam Sundar Subramanian
कब हमको ये मालूम है,कब तुमको ये अंदाज़ा है ।
कब हमको ये मालूम है,कब तुमको ये अंदाज़ा है ।
Phool gufran
हिम्मत है तो मेरे साथ चलो!
हिम्मत है तो मेरे साथ चलो!
विमला महरिया मौज
काँच और पत्थर
काँच और पत्थर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
वृक्ष बड़े उपकारी होते हैं,
वृक्ष बड़े उपकारी होते हैं,
अनूप अम्बर
पीने -पिलाने की आदत तो डालो
पीने -पिलाने की आदत तो डालो
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आया यह मृदु - गीत कहाँ से!
आया यह मृदु - गीत कहाँ से!
Anil Mishra Prahari
"जलन"
Dr. Kishan tandon kranti
■ कोई तो हो...।।
■ कोई तो हो...।।
*Author प्रणय प्रभात*
अब तो  सब  बोझिल सा लगता है
अब तो सब बोझिल सा लगता है
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
सूरज उतरता देखकर कुंडी मत लगा लेना
सूरज उतरता देखकर कुंडी मत लगा लेना
कवि दीपक बवेजा
कर रहे हैं वंदना
कर रहे हैं वंदना
surenderpal vaidya
बाल कविताः गणेश जी
बाल कविताः गणेश जी
Ravi Prakash
जनरेशन गैप / पीढ़ी अंतराल
जनरेशन गैप / पीढ़ी अंतराल
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
बड़ी सी इस दुनिया में
बड़ी सी इस दुनिया में
पूर्वार्थ
महापुरुषों की सीख
महापुरुषों की सीख
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...