Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Aug 7, 2016 · 1 min read

है धरा प्यासी बुझा दे तू जरा सी प्यास

है धरा प्यासी बुझा दे तू जरा सी प्यास
सींच दे आकर फसल हलधर लगाये आस
भीग जायें सुन हमारे गीत के भी बोल
ऐ घटा तू आज फिर ऐसा रचा दे रास
डॉ अर्चना गुप्ता

2 Comments · 346 Views
You may also like:
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
अच्छा आहार, अच्छा स्वास्थ्य
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
इस तरह
Dr fauzia Naseem shad
मेरे साथी!
Anamika Singh
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
पिता का दर्द
Nitu Sah
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अनमोल राजू
Anamika Singh
✍️आशिकों के मेले है ✍️
Vaishnavi Gupta
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta
अपनी नज़र में खुद अच्छा
Dr fauzia Naseem shad
बिटिया होती है कोहिनूर
Anamika Singh
क्यों भूख से रोटी का रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जैसे सांसों में ज़िंदगी ही नहीं
Dr fauzia Naseem shad
गरीबी पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
कोई एहसास है शायद
Dr fauzia Naseem shad
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
संत की महिमा
Buddha Prakash
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
छीन लेता है साथ अपनो का
Dr fauzia Naseem shad
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
Loading...